भगवान शिव के इस मंदिर को बनने में लगा था मात्र एक रात का समय, यहां पूजा करने से डरते हैं लोग

Samachar Jagat | Thursday, 09 May 2019 12:29:22 PM
It took just one night to build this temple of Lord Shiva People are afraid to worship here

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

धर्म डेस्क। भगवान शिव के अनेक मंदिर हैं जो दूसरों से अलग होने के कारण प्रसिद्ध हैं, इन्हीं मंदिरों में से भगवान शिव का एक मंदिर है हथिया देवाल मंदिर। इस मंदिर की खासियत ये है कि इसे बनने में मात्र एक रात का समय लगा और इस मंदिर की स्थापत्य कला देखते ही बनती है। उत्तराखंड के पिथौरागढ़ के थल में छह किमी दूर बल्तिर गांव में स्थित भगवान शिव के इस मंदिर की एक खासियत और है वो है यहां पर शिव की पूजा न होना। 

जिस घर में होता है ये छोटा सा पौधा उस घर से नकारात्मक शक्तियां रहती हैं दूर और कभी नहीं होती है धन की कमी

आपको ये जानकर आश्चर्य होगा कि इस मंदिर में भगवान शिव की पूजा नहीं की जाती है। इसका कारण ये है कि जिस कारीगर ने इस मंदिर का निर्माण किया उसका एक ही हाथ था और उसने मात्र एक रात में इस मंदिर का निर्माण किया जिसकी वजह से उससे एक बड़ी भूल हो गई। उसने मंदिर में स्थापित शिवलिंग का अरघा वि​परीत दिशा में बना दिया।

नया व्यवसाय शुरू करने जा रहे हैं तो अपनी राशि के अनुसार इन अक्षरों से शुरू करें नाम, व्यापार में मिलेगी सफलता 

जिसकी वजह से शिवलिंग दूषित हो गया और विद्धानों ने माना कि अगर इस मंदिर में स्थापित शिवलिंग की पूजा की जाए तो ये अनिष्ठ को जन्म दे सकता है। लोग अनि​ष्ठ के डर से आज भी इस मंदिर में पूजा नहीं करते हैं और जो भी इस मंदिर में आता है वह एक रात में बनकर तैयार हुए इस मंदिर की स्थापत्य कला को देखकर दंग रह जाता है।

( इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है । )

सत्यवती ने इन तीन शर्तों को पूरा करने के बाद किया था ऋषि पाराशर के प्रेम को स्वीकार, जानिए क्या था इसका महाभारत से संबंध

 

loading...


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
loading...


Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.