ऐसे रखें अपने ड्राइंग रूम को वास्तुदोष से मुक्त

Samachar Jagat | Saturday, 10 Mar 2018 05:14:03 PM
Keep your drawing room free from architecture

धर्म डेस्क। आज सभी घरों में मेहमानों के बैठने के लिए अलग से ड्राइंग रूम बनाया जाता है। इस रूम में ही बैठकर हम मेहमानों के साथ या आपस में वार्ता करते हैं और जीवन के महत्वपूर्ण निर्णय लेते हैं। ऐसे में इस कमरे का वास्तु सही होना बहुत आवश्यक है। इस कमरे को खूबसूरत बनाने के साथ ही वास्तुदोष से मुक्त करना भी बहुत जरूरी है। ड्राइंग रूम को कैसे वास्तुदोष से मुक्त रखा जाए इसके लिए कुछ वास्तुटिप्स अपनाने की आवश्यकता होती है। ये वास्तुटिप्स इस प्रकार हैं............

इस पक्षी का जूठा किया हुआ फल खाने से होती है सौभाग्य में वृद्धि

ड्राइंग रूम को पूरे मकान के उत्तर-पूर्व कोण में बनाया जाना चाहिए। वास्तुशास्त्र के अनुसार इस दिशा में ड्राइंग रूम बनाना शुभ होता है।

वास्तुशास्त्र के अनुसार ड्राइंग रूम में सोफे और कुर्सियों को जमाने की व्यवस्था इस प्रकार करनी चाहिए कि मकान का मालिक जब बैठे तो उसका मुख पूर्व या उत्तर की ओर हो और अन्य लोग उसकी ओर मुख करके बैठें। 

आज भी अनसुलझे हैं तिरुपति बालाजी मंदिर के ये रहस्य

अगर लंबे सोफे को पूर्व की ओर मुख करके रखा गया है, तो मालिक इसके दक्षिण पश्चिम कोण में बैठना चाहिए। अगर दोनों छोटे सोफों को पूर्व की ओर मुख करके रखा गया है तो मालिक को दक्षिण-पश्चिम कोने वाले सोफे पर बैठना चाहिए।

भगवान श्रीकृष्ण ने इस छोटी सी चीज को क्यों दिया इतना महत्व

वास्तुशास्त्र के अनुसार ड्राइंग रूम में प्रवेश के दरवाजे आमतौर पर कोनों में ही होने चाहिए। 

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

शास्त्रों के अनुसार क्यों नहीं लगाना चाहिए झाड़ू को पैर

इस राक्षस की वजह से यहां पर मिलता है पितरों को मोक्ष!


 



 
loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.