सभी प्राणियों पर नजर रखते हैं आकाश में बैठे पूषन देवता, जानिए क्यों आया शिवजी को उन पर क्रोध

Samachar Jagat | Sunday, 03 Mar 2019 12:57:41 PM
Know about why Shiva was angry at pushan Devta

धर्म डेस्क। भगवान शिव बहुत ही भोले हैं और इसीलिए उन्हें भोलेनाथ भी कहा जाता है। वे बहुत ही जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं लेकिन जब शिव को किसी पर क्रोध आता है तो वे सब कुछ भूल बैठते हैं और उनके क्रोध का सामना करना मुश्किल हो जाता है। ​शास्त्रों के अनुसार एक बार शिव के क्रोध का सामना पूषन को करना पड़ा और उसके सारे दांत शिवजी ने तोड़ दिए, आखिर क्यों शिवजी को पूषन पर इतना क्रोध आया, आइए जानते हैं इसके बारे में ...........

महाशिवरात्रि पर अपनी राशि के अनुसार इन चीजों से करें भोलेनाथ का अभिषेक, सुख-समृद्धि में होगी प्राप्ति

पौराणिक कथाओं के अनुसार, पूषन 12 आदित्यों में से एक हैं और ये आकाश में रहकर पृथ्वी के सभी प्राणियों पर नजर रखते हैं। जब सती के पिता राजा दक्ष ने यज्ञ किया तो उसमें उन्होंने पूषन को भी बुलाया, वहीं अपने दामाद शिव और पुत्री सती को इस यज्ञ में आने का निमंत्रण दक्ष प्रजापति ने नहीं भेजा। 

शिव प्रकोप से बचना चाहते हैं तो इस ​महाशिवरात्रि पर भूलकर ​भी भोलेनाथ को अर्पित ना करें ये चीज

पिता का निमंत्रण न मिलने पर भी सती यज्ञ में शामिल हुईं और वहां उन्हें शिव की निंदा सहनी पड़ी, जिससे वे क्रोधित हो गईं और हवन कुंड की अग्नि में कूदकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर दी। जब भगवान शिव सती की मृत्यु का बदला लेने के लिए दक्ष प्रजापति की सभा में पहुंचे तो वहां पर पूषन भगवान शंकर को देखकर हंसने लगे। पूषन को हंसता हुआ देखकर शिवजी का क्रोध और बढ़ गया और उन्होंने गुस्से में आकर पूषन के सारे दांत तोड़ दिए।

(ये सभी जानकारियां शास्त्रों और ग्रंथों में वर्णित हैं, लेकिन इन्हें अपनाने से पहले किसी विशेष पंडित या ज्योतिषी की सलाह अवश्य ले लें।)

कहीं आपकी तरक्की की राह में भी तो बाधाएं उत्पन्न नहीं कर रहीं राशि अनुसार आपके अंदर की ये कमियां

इस एक मंत्र में छिपा हुआ है भगवान विष्णु के एक हजार नामों का सार, जाप करने से नहीं होती धन-संपदा की कमी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.