केरल के वायनाड से चुनाव लड़ रहे हैं राहुल गांधी, जानिए क्या है इसका धार्मिक महत्व और रामायण काल से संबंध!

Samachar Jagat | Monday, 22 Apr 2019 04:28:59 PM
Know What is wayanad Religious Importance and Relationship to Ramayana Era

धर्म डेस्क। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने जबसे केरल के वायनाड से लोकसभा चुनाव लड़ने का निर्णय लिया है ये स्थान सुर्खियों में आ गया है। वायनाड को भले ही इससे पहले इतनी ज्यादा प्रसिद्धि न मिली हो लेकिन ये जगह रामायण काल से अपना विशेष महत्व रखती है। आपको बता दें कि इस जगह का रामायण से गहरा नाता है। आइए आपको बताते हैं वायनाड और रामायण के संबं​ध के बारे में ................

महाभारत के युद्ध में अहम भूमिका निभाने वाली ये महिला हवनकुंड से हुई उत्पन्न, जानिए जन्म से जुड़ी रोचक कथा के बारे में...

जब माता सीता को भगवान राम ने त्याग दिया तब वे वन में आकर ऋषि वाल्मिकी के यहां रहने लगीं और उस समय वे गर्भवती थीं। वायनाड में प्रचलित मान्यताओं के अनुसार, यहां के लोगों का मानना है कि वायनाड ही वह जगह थी जहां माता सीता ने लव-कुश को जन्म दिया और यहीं लव-कुश ने अपना बचपन व्यतीत किया। यहां पर एक मंदिर भी है जिसे सेठा लव-कुश मंदिर के नाम से जाना जाता है, इस मंदिर में लव और कुश विराजमान हैं। 

अगर इस मंदिर में पति-पत्नी एक साथ कर लें माता के दर्शन तो वैवाहिक जीवन में परेशानियां हो जाती है शुरू

वायनाड के समीप एडक्कल की गुफाएं हैं जिनके बारे में कहा जाता है लव-कुश ने तीरंदाजी की शिक्षा यहीं ली और माना जाता है कि इन गुफाओं का निर्माण और विस्तार उन्होंने अपने तीरों से किया। इस बात में कितनी सच्चाई है इसके बारे में तो कुछ कहा नहीं जा सकता है लेकिन यहां पर माता सीता और लव-कुश से जुड़े हुए कई प्रमुख स्थान हैं जो इस बात को सिद्ध करते हैं कि माता सीता और लव-कुश का इस स्थान से गहरा संबंध है।

(आपकी कुंडली के ग्रहों के आधार पर राशिफल और आपके जीवन में घटित हो रही घटनाओं में भिन्नता हो सकती है। पूर्ण जानकारी के लिए कृपया किसी पंड़ित या ज्योतिषी से संपर्क करें।)

सत्यवती ने इन तीन शर्तों को पूरा करने के बाद किया था ऋषि पाराशर के प्रेम को स्वीकार, जानिए क्या था इसका महाभारत से संबंध

जानिए! चारों युगों में पाप और पुण्य की मात्रा के अलावा और किन-किन चीजों में हुआ परिवर्तन



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...


Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.