भूकंप के तीन साल बाद खुला नेपाल का कृष्ण मंदिर

Samachar Jagat | Monday, 03 Sep 2018 12:16:55 PM
Krishna temple of Nepal open after three years of earthquake

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

काठमांडो। नेपाल में 2015 में भीषण भूकंप के तीन साल बाद पहली दफा भगवान कृष्ण के प्रसिद्ध मंदिर को रविवार को लोगों के लिए फिर से खोल दिया गया। यह मंदिर भारतीय शिखर शैली में निर्मित है । नेपाल में 25 अप्रैल 2015 को 7.8 तीव्रता का भूकंप आया था जिसमें 8,700 लोग मारे गए थे और घरों एवं घाटी में फैले सांस्कृतिक विरासत स्थलों को काफी नुकसान पहुंचा था। 

अब आलीशान क्रूज पर सवार होकर गंगा घाटों और भव्य गंगा आरती का नजारा ले सकेंगे वाराणसी आने वाले पर्यटक

रविवार की तड़के काठमांडो के ललितपुर नगर निकाय में स्थित भगवान कृष्ण के 17वीं शताब्दी के मंदिर में दर्शन के लिए हजारों श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी थी। ललितपुर में सिद्धि नरसिंह मल्ल द्वारा निर्मित कलात्मक मंदिर भूकंप में आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गया था। पत्थर से बने मंदिर की मरम्मत का कार्य हाल में पूरा किया गया। इसे रंगीन झंडे, बैनर और लाइट के साथ खूबसूरती से सजाया गया । यह मंदिर तीन मंजिला है और 21 शिखर है। 

देश में विलुप्त हुए चीता को मध्यप्रदेश की नौरादेही वन्यजीव अभयारण्य में बसाने की कवायद फिर शुरू

मंदिर की पहली मंजिल में पत्थरों पर हिंदुओं के महाकाव्य महाभारत से जुड़ी घटनाओं को उकेरा गया है जबकि दूसरी मंजिल में रामायण से जुड़े दृश्यों को उकेरा गया है । कृष्ण मंदिर का निर्माण भारतीय शिखर शैली में किया गया है। इस मंदिर के बारे में किवदंति है कि एक रात मल्ल राजा ने सपने में कृष्ण और राधा को देखा और अपने महल के सामने मंदिर बनाने का निर्देश दिया । इसकी एक प्रतिकृति राजा ने महल के अंदर परिसर में बनवायी थी। - एजेंसी

इस उपाय को अपनाकर आप भी खोल सकते हैं अपनी बंद किस्मत के दरवाजे

रावण ने यहां किया था भगवान शंकर पर गंगाजल अर्पित, सावन माह में लगती है भक्तों की भीड़


 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.