जानिए! क्यों दिया जाता है मकर संक्रांति पर इन चीजों को इतना महत्व

Samachar Jagat | Monday, 14 Jan 2019 08:17:56 AM
Learn! Why are these things so important on Makar Sankranti

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

धर्म डेस्क। पौष मास में जब सूर्य धनु राशि को त्यागकर मकर राशि में प्रवेश करता है तो इस संक्रांति काल को मकर संक्रांति के रूप में मनाया जाता है। शास्त्रों के अनुसार, इस दिन दान करने से सौ गुना फल की प्राप्ति होती है, आइए आपको बताते हैं मकर संक्रांति पर दान, तिल और पतंग उड़ाने के महत्व के बारे में...............


अगर आप पर भी चल रही है शनि की महादशा तो घर में लगाएं शनि को प्रिय ये पेड़, बनी रहेगी सुख-समृद्धि

तिल का महत्व :- 

मकर संक्रांति पर तिल का दान किया जाता है, तिल व गुड़ मिलाकर खाने से शरीर पर सर्दी का असर कम होता है। यही वजह है कि मकर संक्रांति का पर्व जो कड़ाके की ठंड के वक्त जनवरी महीने में आता है, उसमें हमारे शरीर को गर्म रखने के इरादे से तिल और गुड़ के सेवन पर जोर दिया जाता है।

14 जनवरी के बाद खुलेंगे इस राशि के जातकों की बंद किस्मत के दरवाजे, बन जाएंगे धनवान

दान का महत्व :- 

मकर संक्रांति के दिन ब्राह्मणों को अनाज, वस्त्र, ऊनी कपड़े, फल आदि दान करने से शारीरिक कष्टों से मुक्ति मिलती है। शास्त्रों के अनुसार, इस दिन किया गया दान सौ गुना होकर प्राप्त होता है। 

पतंग उड़ाने का महत्व :- 

मकर संक्रांति पर पतंग उड़ाने के पीछे कोई धार्मिक कारण नहीं है। संक्रांति पर जब सूर्य उत्तरायण होता है तब इसकी किरणें हमारे शरीर के लिए औषधि का काम करती है। पतंग उड़ाते समय हमारा शरीर सीधे सूर्य की किरणों के संपर्क में आ जाता है जिससे सर्दी में होने वाले रोग नष्ट हो जाते हैं और हमारा शरीर स्वस्थ रहता है। इसी कारण कई जगहों पर लोग इस दिन छत पर रहकर पतंग उड़ाते हैं।

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

कहीं आपकी तरक्की की राह में भी तो बाधाएं उत्पन्न नहीं कर रहीं राशि अनुसार आपके अंदर की ये कमियां

भूत-प्रेत का साया होने पर व्यक्ति को अपने हाथ में रखनी चाहिए ये चीज, आत्माएं नहीं पहुंचा सकती नुकसान

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.