जानिए! भगवान शिव को क्यों आया अपने परम भक्त रावण पर क्रोध, लात मारकर गिरा दिया कैलाश पर्वत के नीचे

Samachar Jagat | Wednesday, 10 Apr 2019 08:49:20 AM
Learn Why did Lord Shiva get angry with his ultimate devotee Ravana?

धर्म डेस्क। रावण भगवान शिव का प्रिय भक्त था और उसने शिव को प्रसन्न करने के लिए कठोर तपस्या की थी जिसकी वजह से उसे दस सिरों की प्राप्ति हुई तो आखिर फिर ऐसा क्या हुआ ​कि शिवजी को रावण पर अचानक इतना क्रोध आ गया कि उन्होंने उसे लात मारकर कैलाश पर्वत से नीचे फैंक दिया। आइए जानते हैं इस रोचक कथा के बारे में .............

मां दुर्गा का आर्शीवाद प्राप्त करने के लिए नवरात्र की पूजा करते समय राशिअनुसार पहनें इस रंग के कपड़े

पौराणिक कथाओं के अनुसार एक बार रावण कैलाश पर्वत पर गया और उसने एक खास वाध्य यंत्र को बजाते हुए शिव स्तुति करना प्रारंभ किया। रावण शिव को प्रसन्न करने के लिए एक के बाद एक छंद कहता गया और उसने 1 हजार आठ छंद गाए जिन्हें शिव तांडव स्तोत्र के नाम से जाना जाता है। रावण के छंदों को सुनकर शिवजी मंत्रमुग्ध हो गए और वो ये भूल गए कि कैलाश के ऊपरी छोर पर उनके और उनकी पत्नी पार्वती के अलावा कोई नहीं आ सकता है। 

Navratri special: मां दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए नौ दिनों तक राशि अनुसार करें इन मंत्रों का जाप

जब पार्वती ने रावण को ऊपर की ओर आते हुए देखा तो उन्होंने शिव का ध्यान रावण की ओर से हटाया और जैसे ही रावण कैलाश पर्वत पर ऊपर की ओर चढ़ा तो शिवजी ने उसे लात मारकर नीचे गिरा दिया। रावण अपने साथ जो वाध्य यंत्र लेकर आया था वो भी उसके साथ घिसटता हुआ कैलाश पर्वत के नीचे आ गिरा और कहा जाता है कि उस वाध्य यंत्र का निशान आज भी कैलाश पर्वत पर है। 

( इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है । )

कहीं आपकी तरक्की की राह में भी तो बाधाएं उत्पन्न नहीं कर रहीं राशि अनुसार आपके अंदर की ये कमियां

भूत-प्रेत का साया होने पर व्यक्ति को अपने हाथ में रखनी चाहिए ये चीज, आत्माएं नहीं पहुंचा सकती नुकसान



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.