बुधवार के दिन राशिअनुसार इन मंत्रों का जाप करने से प्रसन्न होते हैं भगवान गणेश

Samachar Jagat | Wednesday, 10 Apr 2019 07:00:01 AM
Lord Ganesha is happy to chant these mantras According to zodiac on Wednesday

धर्म डेस्क। बुधवार के दिन अगर कुछ खास मंत्रों का जाप किया जाए तो इससे भगवान गणेश प्रसन्न होते हैं, वहीं अगर इन मंत्रों का जाप राशि अनुसार किया जाए तो इससे सुख - समृद्धि में वृद्धि होती है। आइए आपको बताते हैं राशि अनुसार बुधवार को जाप किए जाने वाले मंत्रों के बारे में......

मेष राशि :-

मेष राशि के जातक बुधवार को ॐ एकदन्ताय विद्महे वक्रतुंडाय धीमहि तन्नो बुद्धि प्रचोदयात मंत्र का जाप करें।

वृष राशि :-

वृष राशि के जातक ॐ ग्लौम गौरी पुत्र, वक्रतुंड, गणपति गुरू गणेश, ग्लौम गणपति, ऋद्धि पति, सिद्धि पति, मेरे कर दूर क्लेश मंत्र का जाप करें।

मिथुन राशि :-

मिथुन राशि के जातक ॐ नमो गणपतये कुबेर येकद्रिको फट् स्वाहा मंत्र का जाप करें।

कर्क राशि :-

कर्क राशि के जातक बुधवार को ॐ श्रीं गं सौभाग्य गणपतये वर्वर्द सर्वजन्म में वषमान्य नम: मंत्र का जाप करें।

सिंह राशि :-

सिंह राशि के जातक आज ॐ वक्रतुण्ड महाकाय कोटिसूर्य समप्रर्भ, निर्विघ्नं कुरू मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा मंत्र का जाप करें।

कन्या राशि :-

कन्या राशि के जातक बुधवार के दिन ॐ श्रीन्ग ह्रींग कलिंग गलौंग गंग गणपतये वर वरद सर्वजनमय वशमानय मंत्र का जाप करें।

तुला राशि :-

तुला राशि के जातक ॐ नमो सिद्धि विनायकाय सर्व कार्य करते सर्व विघ्ना प्रशंने सर्वार्जय वश्याकरणाय सर्वजण सर्वस्त्री पुरुष आकर्षणाय श्रीन्ग ॐ स्वः मंत्र का जाप करें।

वृश्चिक राशि :-

वृश्चिक राशि के जातक ॐ श्रीं गम सौभाग्य गणपतये वरवरदा सर्वजन्म में वशमानय नम: मंत्र का जाप करें।

धनु राशि :-

धनु राशि के जातक बुधवार को ॐ श्रीं गं सौभाग्य गणपतये वर्वर्द सर्वजन्म में वषमान्य नम: मंत्र का जाप करें।

मकर राशि :-

मकर राशि के जातक आज ॐ नमो गणपतये कुबेर येकद्रिको फट् स्वाहा मंत्र का जाप करें।

कुंभ राशि :-

कुंभ राशि के जातक ॐ श्रीं गम सौभाग्य गणपतये वरवरदा सर्वजन्म में वशमानय नम: मंत्र का जाप करें।

मीन राशि :-

मीन राशि के जातक ॐ नमो गणपतये कुबेर येकद्रिको फट् स्वाहा मंत्र का जाप करें।

(आपकी कुंडली के ग्रहों के आधार पर राशिफल और आपके जीवन में घटित हो रही घटनाओं में भिन्नता हो सकती है। पूर्ण जानकारी के लिए कृपया किसी पंड़ित या ज्योतिषी से संपर्क करें।)

सत्यवती ने इन तीन शर्तों को पूरा करने के बाद किया था ऋषि पाराशर के प्रेम को स्वीकार, जानिए क्या था इसका महाभारत से संबंध

जानिए! चारों युगों में पाप और पुण्य की मात्रा के अलावा और किन-किन चीजों में हुआ परिवर्तन



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.