ठाट-बाट से निकली भगवान महाकालेश्वर की सवारी

Samachar Jagat | Tuesday, 21 Aug 2018 03:28:28 PM
Lord Mahakaleshwar's ride comes out of the way

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

उज्जैन। मध्यप्रदेश के उज्जैन में भगवान महाकालेश्वर श्रावण माह के चौथे सोमवार को राजसी ठाटबाट के साथ अपनी प्रजा को दर्शन देने के लिए नगर भ्रमण पर निकले। इस सवारी में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी शामिल हुए। परंपरागत तरीके से श्रावण एवं भादौ में निकलने वाली सवारी में श्रावण के अंतिम सोमवार को भगवान ने अपनी प्रजा को चार रूपों में दर्शन दिए। इसके पूर्व मंदिर के सभामंडप में पंडित घनश्याम शर्मा एवं पुजारी आशीष के सानिध्य में प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान, केन्द्रीय मंत्री उमा भारती, प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया भगवान चंद्रमोलीश्वर के स्वरुप का पूजन-अर्चन किया। 

भगवान के पूजन-अर्चन के बाद उनकी सवारी को मुख्यमंत्री ने कंधा देकर रवाना किया। इस धार्मिक बेला में मुख्यमंत्री चौहान अपने परिजनों के साथ आगे चलते हुए मंदिर के मुख्य द्बार पर पहुंचे। मंदिर के द्बार पर भगवान महाकाल के पहुंचने पर यहां उपस्थित पुलिस बल द्बारा गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। मंदिर के द्बार पर पुलिस बल द्बारा दी गई गार्ड ऑफ ऑनर के बाद यह सवारी निर्धारित समय और निर्धारित मार्ग से होते हुए पवित्र क्षिप्रा नदी के रामघाट पहुंची। जहां पर भगवान का मोक्षदायनी क्षिप्रा नदी के जल से अभिषेक किया गया। इसके के बाद यह सवारी पुनः निर्धारित मार्ग से होते हुए मंदिर पहुंची। 

भगवान की सवारी में भारी संख्या में स्थानीय और दूसरे प्रदेशों से आए लोग शामिल रहे। सवारी के साथ घुडसवार, पुलिस बल, नगर सैनिक, विशेष सशस्त्र बल की टुकडियां तथा पुलिस बैंड तथा भजन मंडलिया भी शामिल थी। चतुर्थ सवारी में भगवान श्री महाकाल ने उमा-महेश के स्वरूप में भक्तों को दर्शन दिए। रजतजडित पालकी में भगवान श्री चन्द्रमोलेश्वर विराजित थे और हाथी पर श्रीमनमहेश, गरूड रथ पर श्री शिव तांडव की प्रतिमा और नंदी रथ पर उमा-महेश विराजित थे। 

देश के बारह ज्योतिर्लिंगों में प्रमुख भगवान महाकालेश्वर की अगली 27 अगस्त को पांचवी सवारी निकाली जाएगी। इस पांचवी सवारी में श्री चन्द्रमौलेश्वर पालकी में, श्री महमहेश हाथी पर, श्री शिव ताण्डव की प्रतिमा गरूड पर, श्री उमा-महेश बैल पर के अतिरिक्त डोल पर होलकर स्टेट का मुखारविंद सवार होकर नगर भ्रमण पर निकलेंगे। अंतिम शाही सवारी सोमवार 03 सितंबर को राजसी ठाट-बाट के साथ निकलेगी। -एजेंसी
 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.