भगवान श्रीराम ने बताया जो पुरूष करता है ये काम, जल्दी ही हो जाता है उसका विनाश

Samachar Jagat | Monday, 11 Mar 2019 01:43:24 PM
Lord Shriram told that the man does this work,  It is destroyed soon

धर्म डेस्क। नारी को देवी का स्वरूप माना गया है और जो व्यक्ति किसी भी स्त्री पर कुदृष्टि रखता है वह ​जीवन में कभी भी सफलता प्राप्त नहीं कर पाता है। रामायण में भगवान श्री राम ने भी कहा कि किसी भी पुरूष को दूसरे की बेटी या बहन पर बुरी नजर नहीं रखनी चाहिए। जो व्यक्ति पराई स्त्री पर बुरी नजर रखता है उसका अंत जल्दी ही हो जाता है। इस बारे में रामायण में एक प्रसंग है जो इस प्रकार है .....

जब भगवान राम ने सुग्रीव के भाई बालि का वध किया तो उसने मृत्यु से पहले श्री राम से पूछा कि मैं ​बहुत शक्तिशाली हूं और मैने कभी भी किसी का बुरा नहीं किया तो फिर आपने मुझे क्यों मारा, इस पर श्री राम ने कहा कि तुमने जो एक निंदित कार्य किया वही तुम्हारी मृत्यु का कारण बना और वो कार्य था अपने छोटे भाई की पत्नी पर कुदृष्टि रखना। श्री राम ने कहा कि जो अपने छोटे भाई की पत्नी, बहन, पुत्र की पत्नी और पुत्री के साथ ही किसी पराई स्त्री को बुरी नजर से देखता है तो वह सबसे बड़ा पाप करता है। ऐसा व्यक्ति क्षमा के योग्य नहीं होता है और जल्द ही उसका विनाश हो जाता है। इस प्रसंग को लेकर रामायण में जो चौपाई दी गई है वो इस प्रकार है.......

अनुज बधू भगिनी सुत नारी। 
सुनु सठ कन्या सम ए चारी॥ 
इन्हहि कुदृष्टि बिलोकइ जोई। 
ताहि बधें कछु पाप न होई॥

अर्थात छोटे भाई की पत्नी, बहन, पुत्र की पत्नी और पुत्री, ये सब बेटी के समान होती है। जो कोई भी इन पर बुरी नजर डालता है, तो ऐसे व्यक्ति को मारने में कोई बुराई नहीं होती है।

(ये सभी जानकारियां शास्त्रों और ग्रंथों में वर्णित हैं, लेकिन इन्हें अपनाने से पहले किसी विशेष पंडित या ज्योतिषी की सलाह अवश्य ले लें।)

कहीं आपकी तरक्की की राह में भी तो बाधाएं उत्पन्न नहीं कर रहीं राशि अनुसार आपके अंदर की ये कमियां

भूत-प्रेत का साया होने पर व्यक्ति को अपने हाथ में रखनी चाहिए ये चीज, आत्माएं नहीं पहुंचा सकती नुकसान



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.