शुक्रवार के दिन घर के मुख्य द्वार पर बनाएं माता लक्ष्मी के चरण चिह्न

Samachar Jagat | Friday, 08 Dec 2017 07:04:01 AM
Make the stage mark of Mother Lakshmi at the main door of the house

धर्म डेस्क। घर परिवार को समृद्ध व खुशहाल बनाए रखने के लिए मां लक्ष्मी के अनूठे स्वरूप व स्वभाव में कई ऐसे विलक्षण गुण व शक्तियां हैं जिनके द्वारा वह हर सांसारिक प्राणी को सुखी-समृद्धशाली बनाती हैं। वहीं शुक्रवार को माता लक्ष्मी का वार माना जाता है। ऐसे में शुक्रवार के दिन माता लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए शास्त्रों के अनुसार कुछ उपाय करने की आवश्यकता होती है। इन उपायों को करने से माता लक्ष्मी प्रसन्न होती है ......

जो व्यक्ति 16 वर्षों तक करता है ये व्रत, वह किसी भी जन्म में नहीं बनता निर्धन

शुक्रवार के दिन लक्ष्मी के चरण चिह्नों को मुख्य द्वार पर बनाने से माता लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं। लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होने के बाद व्यक्ति को कभी धन की कमी नहीं होती। माता लक्ष्मी चल एवं अचल संपत्ति देने वाली हैं। मां लक्ष्मी जिस घर में शुभ चिह्नों को अंकित देखती हैं खुशी से उस घर में निवास करती हैं और दरिद्रता उस घर से सदा-सदा के लिए विदा ले लेती हैं।

कहीं आपकी परेशानियों का कारण आपके घर का मेन गेट तो नहीं

 
 
शुक्रवार के दिन तीन कुंवारी कन्याओं को घर बुलाकर खीर खिलाएं तथा पीला वस्त्र व दक्षिणा देकर विदा करें। इससे लक्ष्मी मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।

शुक्रवार के दिन दान देने का भी विशेष महत्व है इसलिए इस दिन जितना हो सके गरीबों को दान करें। इस दिन सफेद रंग की वस्तु या खाद्य पदार्थ का दान करना शुभ माना जाता है।

नई जॉब की तलाश है तो अपनाएं ये वास्तु टिप्स

शुक्रवार को श्रीयंत्र का गाय के दूध के अभिषेक करें। अभिषेक का जल पूरे घर में छिड़क दें। श्रीयंत्र को कमलगट्टे के साथ धन स्थान पर रख दें। इससे धन लाभ होने लगेगा।

(SOURCE-GOOGLE)

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

शाम ढलने के बाद इस मंदिर में रुकना है सख्त मना



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2017 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.