Navratri special: मां दुर्गा को प्रसन्न करने के लिए नौ दिनों तक राशि अनुसार करें इन मंत्रों का जाप

Samachar Jagat | Saturday, 06 Apr 2019 07:00:02 AM
Navratri special Chant these mantras according to zodiac sign for 9 days To please maa Durga

धर्म डेस्क। चैत्र नवरात्र आज से प्रारंभ हो गए हैं और नौ दिनों तक माता की विशेष पूजा-अर्चना की जाएगी। इसी के साथ अगर नौ दिनों तक अपनी राशि के अनुसार मां के कुछ खास मंत्रों का जाप किया जाए तो इससे वे बहुत जल्दी प्रसन्न होती हैं और भक्त की सभी मनोकामनाएं पूरी करती हैं, आइए जानते हैं नवरात्र में मां को प्रसन्न करने के लिए राशिअनुसार किन मंत्रों का जाप करना चाहिए ...........

मेष राशि :-

मेष राशि के जातक नवरात्र में नौ दिनों तक ऐं क्लीं सौं मंत्र का जाप करें, लाभ होगा।

वृष राशि :-

वृष राशि के जातक नौ दिनों तक सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके, शरण्ये त्र्यंबके गौरी नारायणि नमोऽस्तुते मंत्र का जाप करें।

मिथुन राशि :-

मिथुन राशि के जातक नवरात्र में नौ दिनों तक ॐ जयन्ती मंगला काली भद्रकाली कपालिनी, दुर्गा क्षमा शिवा धात्री स्वाहा स्वधा नमोऽस्तुते मंत्र का जाप करें।

Samachar Jagat

कर्क राशि :-

कर्क राशि के जातक नवरात्र के नौ दिनों में प्रतिदिन या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता, नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः मंत्र का जाप करें।

सिंह राशि :-

सिंह राशि के जातक नवरात्रों में ह्रीं श्रीं सौं मंत्र का जाप करें।

कन्या राशि :-

कन्या राशि के जातक नौ दिनों तक प्रतिदिन श्रीं ऐं सौं मंत्र का जाप करें।

तुला राशि :-

तुला राशि के जातक नवरात्रों में सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके, शरण्ये त्र्यंबके गौरी नारायणि नमोऽस्तुते मंत्र का जाप करें।

वृश्चिक राशि :-

वृश्चिक राशि के जातक नवरात्र में नौ दिनों तक ऐं क्लीं सौं मंत्र का जाप करें।

धनु राशि :-

धनु राशि के जातक नवरात्र में ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चै मंत्र का जाप करें।

Samachar Jagat

मकर राशि :-

मकर राशि के जातक नवरात्रों में प्रतिदिन क्लीं ह्रीं श्रीं सौं मंत्र का जाप करें।

कुंभ राशि :-

कुंभ राशि के जातक शरणागतदीनार्तपरित्राणपरायणे, सर्वस्यार्तिहरे देवि नारायणि नमोऽस्तुते मंत्र का जाप करें। 

मीन राशि :-

मीन राशि के जातक नवरात्र में हिनस्ति दैत्यतेजांसि स्वनेनापूर्य या जगत्, सा घण्टा पातु नो देवि पापेभ्योऽन: सुतानिव मंत्र का जाप करें।

(आपकी कुंडली के ग्रहों के आधार पर राशिफल और आपके जीवन में घटित हो रही घटनाओं में भिन्नता हो सकती है। पूर्ण जानकारी के लिए कृपया किसी पंड़ित या ज्योतिषी से संपर्क करें।)

सत्यवती ने इन तीन शर्तों को पूरा करने के बाद किया था ऋषि पाराशर के प्रेम को स्वीकार, जानिए क्या था इसका महाभारत से संबंध

जानिए! चारों युगों में पाप और पुण्य की मात्रा के अलावा और किन-किन चीजों में हुआ परिवर्तन



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.