इस गांव में नहीं होती है हनुमान जी की पूजा, इस वजह से बजरंगबली से नाराज हैं यहां के लोग

Samachar Jagat | Friday, 19 Apr 2019 01:16:50 PM
People of this village are angry with Hanuman ji for this reason

धर्म डेस्क। कलयुग के प्रमुख देव के रूप में हनुमान जी की पूजा की जाती है और माना जाता है कि अगर कोई व्यक्ति सच्चे मन से हनुमान जी की पूजा कर ले तो उसकी भक्ति से हनुमान जी जल्दी ही प्रसन्न हो जाते हैं। जहां पूरे देश में हनुमान जी को भगवान मानकर उनकी पूजा की जाती है वहीं एक जगह ऐसी भी है जहां पर लोग हनुमान जी को पसंद नहीं करते हैं और यहां पर हनुमान जी की पूजा भी नहीं की जाती है। 

अगर इस मंदिर में पति-पत्नी एक साथ कर लें माता के दर्शन तो वैवाहिक जीवन में परेशानियां हो जाती है शुरू

ये जगह है उत्तराखंड के चमोली में स्थित द्रोणागिरी गांव, इस गांव के बारे में कहा जाता है कि जब राम - रावण के युद्ध में लक्ष्मण को शक्ति बाण लगा और वे इस बाण से मुर्छित हो गए तो उन्हें बचाने के लिए हनुमान जी संजीवनी बूटी लेने आए तब उन्हें संजीवनी बूटी नहीं मिली और इसी वजह से वे पूरे द्रोणागिरी पर्वत को ही उठाकर ले गए। माना जाता है ये द्रोणागिरी पर्वत इसी द्रोणागिरी गांव में स्थित था। 

महाभारत के युद्ध में अहम भूमिका निभाने वाली ये महिला हवनकुंड से हुई उत्पन्न, जानिए जन्म से जुड़ी रोचक कथा के बारे में...

यहां के लोगों का मानना है कि जब हनुमान जी ने यहां स्थित पर्वत उठाया तो उनके पर्वत देवता यहां तपस्या में लीन थे और हनुमान जी ने उनकी तपस्या पूरी होने का भी इंतजार नहीं किया। वहीं इस पर्वत को उठाते समय पर्वत देव का एक हाथ भी टूट गया। इसी वजह से यहां के लोग हनुमान जी से नाराज हैं और द्रोणागिरी गांव के लोग आज भी हनुमान जी की पूजा नहीं करते हैं। वहीं गांव में लाल झंडे का भी विरोध किया जाता है। 

(आपकी कुंडली के ग्रहों के आधार पर राशिफल और आपके जीवन में घटित हो रही घटनाओं में भिन्नता हो सकती है। पूर्ण जानकारी के लिए कृपया किसी पंड़ित या ज्योतिषी से संपर्क करें।)

सत्यवती ने इन तीन शर्तों को पूरा करने के बाद किया था ऋषि पाराशर के प्रेम को स्वीकार, जानिए क्या था इसका महाभारत से संबंध

जानिए! चारों युगों में पाप और पुण्य की मात्रा के अलावा और किन-किन चीजों में हुआ परिवर्तन



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.