Rakshabandhan 2018 : जानिए क्यों भाई की कलाई पर बांधी जाती है राखी

Samachar Jagat | Saturday, 25 Aug 2018 09:31:02 AM
Rakshabandhan 2018: Know Why is Rakhi tied on brother's wrist

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

धर्म डेस्क। भाई - बहन के निःस्वार्थ प्यार का प्रतीक है रक्षाबंधन, राखी में कुछ आध्यात्मिक रहस्य छुपे हुए हैं। इस दिन हर बहन अपने भाई के ललाट पर तिलक लगाती है। कलाई पर राखी बांधती है और भाई का मुंह मीठा कराती है। बहन अपने भाई की लंबी उम्र की कामना भगवान से करती है वहीं भाई अपनी बहन को उपहार देते हैं। क्या आपको पता है भाई की कलाई पर ही राखी क्यों बांधी जाती है। इसके तीन प्रमुख कारण हैं जो इस प्रकार हैं....

आध्यात्मिक कारण:-

कलाई पर रक्षा-सूत्र बांधने से ब्रह्मा, विष्णु और महेश तथा लक्ष्मी, सरस्वती और दुर्गा की कृपा प्राप्त होती है। ब्रह्मा की कृपा से कीर्ति, विष्णु कृपा से सुरक्षा और महेश की कृपा से सभी दुर्गुणों का नाश होता है। लक्ष्मी की कृपा से धन-दौलत, सरस्वती की कृपा से बुद्धि-विवेक तथा दुर्गा की कृपा से शक्ति की प्राप्त होती है।

रावण ने यहां किया था भगवान शंकर पर गंगाजल अर्पित, सावन माह में लगती है भक्तों की भीड़

आयुर्वेदिक कारण :-

आयुर्वेद के अनुसार शरीर की प्रमुख नसें कलाई से होकर गुजरती है जो कलाई से ही नियंत्रित भी होती हैं। कलाई पर रक्षासूत्र बांधने से त्रिदोष (वात, पित्त, कफ) का नाश होता है। इसके अलावा इससे लकवा, डायबिटीज, हृदय रोग, ब्लड-प्रेशर जैसे रोगों से भी सुरक्षा होती है

मनोवैज्ञानिक कारण :-

रक्षासूत्र बांधने से मनुष्य को किसी बात का भय नहीं सताता है। मानसिक शक्ति मिलती है, मनुष्य गलत रास्तों पर जाने से बचता है। मन में हमेशा शांति और पवित्रता बनी रहती है।

( इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है। )

भगवान शिव के भी परमप्रिय सेवक हैं धन के देवता कुबेर, प्रसन्न करने के लिए करें इस मंत्र का जाप

अगर आपके घर में है किसी की शादी तो बिना पंड़ित के पास जाए इस तरीके से निकालें विवाह का मुहूर्त

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.