रामनवमी पर राशिअनुसार इन उपायों को करने से व्यक्ति को मिलती है ग्रहों के दुष्प्रभाव से मुक्ति

Samachar Jagat | Saturday, 13 Apr 2019 07:00:01 AM
Ram Navami A person gets relief from the side effects of planets by doing these remedies

धर्म डेस्क। राम नवमी पर मर्यादा पुरषोत्तम भगवान श्री राम का जन्म हुआ था। शास्त्रों के अनुसार इस दिन दान पुण्य व विशेष पूजन करने से ग्रह बाधा और ग्रहों के दुष्प्रभावों से मुक्ति मिलती है। अगर इस दिन राशिअनुसार उपाय किए जाएं तो इससे भगवान राम प्रसन्न होते हैं। आइए जानते हैं रामनवमी पर राशिअनुसार क्या उपाय करने चाहिए ........

मेष राशि :-

मेष राशि के जातक आज श्रीराम रक्षा स्त्रोत का पाठ करें और भगवान राम को हलवे का भोग लगाएं।

वृष राशि :-

वृष राशि के जातक आज श्रीराम स्तुति का पाठ करें और रामदरबार के चित्र पर नीले फूल चढ़ाएं।

मिथुन राशि :-

मिथुन राशि के जातक आज इंद्रकृत रामस्त्रोत का पाठ करें और रामदरबार के चित्र पर काजल चढ़ाएं।

कर्क राशि :-

कर्क राशि के जातक रामनवमी पर श्रीरामाष्टक का पाठ करें और रामदरबार के चित्र पर पीत चंदन चढ़ाएं।

सिंह राशि

सिंह राशि के जातक आज श्रीसीता रामाष्ट्कम का पाठ करें और रामदरबार के चित्र पर सिंदूर चढ़ाएं।

कन्या राशि :-

कन्या राशि के जातक रामनवमी पर श्रीराम मंगलाशासनम का पाठ करें और रामदरबार के चित्र पर इत्र चढ़ाएं।

तुला राशि :-

तुला राशि के जातक आज श्रीराम प्रेमाष्ट्कम का पाठ करें और रामदरबार के चित्र पर तुलसी पत्र चढ़ाएं।

वृश्चिक राशि :-

वृश्चिक राशि के जातक रामनवमी पर श्रीराम चंद्राष्ट्कम का पाठ करें और रामदरबार के चित्र पर पेड़े चढ़ाएं।

धनु राशि :-

धनु राशि के जातक आज जटायुकृत श्री रामस्त्रोत का पाठ करें और भगवान राम को शहद का भोग लगाएं।

मकर राशि :-

मकर राशि के जातक रामनवमी पर आदित्य हृदय स्त्रोत का पाठ करें और रामदरबार के चित्र पर पान चढ़ाएं।

कुंभ राशि :-

कुंभ राशि के जातक आज सुंदरकांड का पाठ करें और भगवान राम को मिठाई का भोग लगाएं।

मीन राशि :-

मीन राशि के जातक रामनवमी पर अयोध्याकांड का पाठ करें और रामदरबार के चित्र पर लाल चंदन चढ़ाएं।

(आपकी कुंडली के ग्रहों के आधार पर राशिफल और आपके जीवन में घटित हो रही घटनाओं में भिन्नता हो सकती है। पूर्ण जानकारी के लिए कृपया किसी पंड़ित या ज्योतिषी से संपर्क करें।)

सत्यवती ने इन तीन शर्तों को पूरा करने के बाद किया था ऋषि पाराशर के प्रेम को स्वीकार, जानिए क्या था इसका महाभारत से संबंध

जानिए! चारों युगों में पाप और पुण्य की मात्रा के अलावा और किन-किन चीजों में हुआ परिवर्तन



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.