षटतिला एकादशी : पूजा में तिल का उपयोग अवश्य करें

Samachar Jagat | Friday, 12 Jan 2018 09:37:41 AM
shetilla ekadashi fast and pujan vidhi

धर्म डेस्क। आज षटतिला एकादशी है, जो व्यक्ति अजा एकादशी व्रत करता है उसके लिए मोक्ष के द्वार खुल जाते हैं। इससे सांसारिक लाभ तो प्राप्त होता ही है साथ में मृत्यु उपरांत परलोक में आनंद मिलता है। वहीं इस दिन भगवान विष्णु की विशेष पूजा-अर्चना करने से वे अत्यंत प्रसन्न होते है। आज के दिन पूजा में तिल का उपयोग अवश्य करें। आइए आपको बताते हैं व्रत के नियम और विधि के बारे में ......

भगवान श्रीकृष्ण ने इस छोटी सी चीज को क्यों दिया इतना महत्व

विधि-विधान से करें पूजन :-

इस एकादशी के दिन जो व्यक्ति व्रत रखता है। वह इस दिन प्रातः स्नान करके भगवान का स्मरण करते हुए विधि के साथ पूजा करे और आरती करके भगवान को भोग लगाएं । इस दिन भगवान विष्णु की पूजा का विशेष महत्व होता है। साथ ही ब्राह्मणों तथा गरीबों को भोजन या फिर दान देना चाहिए। यह व्रत बहुत ही फलदायी होता है। इस व्रत को करने से समस्त कामों में आपको सफलता मिलती है। भगवान को तिल के लड्डू या गजक का भोग लगाकर इसे गरीबों में बांटे।

आज भी अनसुलझे हैं तिरुपति बालाजी मंदिर के ये रहस्य 

एकादशी व्रत पूजा विधि :-

इस दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर भगवान का मनन करते हुए सबसे पहले व्रत का संकल्प करें। इसके बाद सभी कामों से निवृत्त होकर स्नान करें। इसके बाद पूजा स्थल में जाकर भगवान विष्णु की पूजा विधि-विधान से करें, रात को दीपदान करें। इस दिन रात को सोएं नहीं। 

इस राक्षस की वजह से यहां पर मिलता है पितरों को मोक्ष

सारी रात जगकर भगवान का भजन-कीर्तन करें, इसी के साथ भगवान से अपनी गलतियों के लिए क्षमा मांगे। इसके बाद ब्राह्मणों को ससम्मान आमंत्रित करके भोजन कराएं और उन्हे भेट और दक्षिणा दें। इसके बाद सभी को प्रसाद देने के बाद खुद भोजन करें।

Source-Google

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

शास्त्रों के अनुसार क्यों नहीं लगाना चाहिए झाड़ू को पैर

 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.