नया व्यवसाय शुरू करने जा रहे हैं तो अपनी राशि के अनुसार इन अक्षरों से शुरू करें नाम, व्यापार में मिलेगी सफलता

Samachar Jagat | Wednesday, 01 May 2019 07:00:01 AM
Starting a new business, start the name with these letters according to your Zodiac

धर्म डेस्क। जब भी कोई व्यक्ति अपना व्यापार प्रारंभ करता है तो सबसे पहले उसका क्या नाम होगा यही सोचता है। ज्योतिष के अनुसार व्यक्ति को अपने कारोबार का नाम उसी अक्षर से शुरू होता हुआ रखना चाहिए जो उसके लिए राशिअनुसार लाभकारी हो। व्यक्ति को राशि के अनुसार अपने व्यापार का नाम किन अक्षरों पर रखना चाहिए आइए आपको बताते हैं इसके बारे में ..................

Rawat Public School

मेष राशि :-

मेष राशि के जातकों को अ,म,ध,ह अक्षरों से शुरू होता हुआ नाम रखना चाहिए, इससे व्यापार अच्छा चलता है। 

वृषभ राशि :-

वृष राशि के जातकों को अपने व्यापार का नाम प,ज,व अक्षर से शुरू होता हुआ  रखना चाहिए।

मिथुन राशि :-

मिथुन राशि के जातकों को क,र,स अक्षर से शुरू होता हुआ व्यापार का नाम रखना चाहिए।

कर्क राशि :-

कर्क राशि के जातकों को अपने व्यापार का नाम ह,न,ज,द अक्षर से शुरू होने वाला रखना चाहिए।

सिंह राशि :-

सिंह राशि के जातकों को अपने व्यापार का नाम म,ध,अ अक्षर पर रखना चाहिए।

कन्या राशि :-

कन्या राशि के जातकों को प,ज,द,व अक्षर में से किसी एक पर व्यापार का नाम रखने से लाभ होता है। 

तुला राशि :-

तुला राशि के जातकों को अपने व्यापार का नाम र,स,क अक्षर से शुरू होता हुआ रखने से शुभ परिणाम प्राप्त होते हैं।

वृश्चिक राशि :-

वृश्चिक राशि के जातकों को अपने व्यापार का नाम द,ह,न अक्षर पर रखने से लाभ होता है।  

धनु राशि :-

धनु राशि के जातकों को अ,म,क अक्षर से शुरू होता हुआ व्यापार का नाम रखना चाहिए।

मकर राशि :-

मकर राशि के जातकों को अपने व्यापार का नाम प,व,र अक्षर से शुरू होता हुआ रखना चाहिए।

कुंभ राशि :-

कुंभ राशि के जातकों को र,म,क अक्षर से शुरू होता हुआ व्यापार का नाम रखना चाहिए।

मीन राशि :-

मकर राशि के जातकों को अपने व्यापार का नाम ह,न,प अक्षर से शुरू होता हुआ रखना चाहिए।

(आपकी कुंडली के ग्रहों के आधार पर राशिफल और आपके जीवन में घटित हो रही घटनाओं में भिन्नता हो सकती है। पूर्ण जानकारी के लिए कृपया किसी पंड़ित या ज्योतिषी से संपर्क करें।)

सत्यवती ने इन तीन शर्तों को पूरा करने के बाद किया था ऋषि पाराशर के प्रेम को स्वीकार, जानिए क्या था इसका महाभारत से संबंध

जानिए! चारों युगों में पाप और पुण्य की मात्रा के अलावा और किन-किन चीजों में हुआ परिवर्तन



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.