4 मई को है शनिश्चरी अमावस्या, सुख-समृद्धि के लिए राशि अनुसार करें ये उपाय

Samachar Jagat | Friday, 03 May 2019 07:00:01 AM
Take these measures according to the Zodiac on Shanichari Amavasya for happiness and prosperity

धर्म डेस्क। वैशाख मास की अमावस्या 4 मई को है और इस बार ये शनिवार के दिन पड़ रही है इसीलिए ये शनिश्चरी अमावस्या कहलाएगी। शनिश्चरी अमावस्या के दिन अगर कुछ खास उपाय किए जाएं तो इससे विशेष फल की प्राप्ति होती है, वहीं अगर ये उपाय राशि अनुसार किए जाएं तो और भी प्रभावकारी होते हैं, आइए आपको बताते हैं शनिश्चरी अमावस्या पर किए जाने वाले इन उपायों के बारे में ..........

मेष राशि :-

मेष राशि के जातक शनिश्चरी अमावस्या पर घर में हवन करवाएं और शिवजी की पूजा करें।

वृष राशि :-

वृष राशि के जातक शनिश्चरी अमावस्या पर किसी कुएं में एक चम्मच दूध डालें, लाभ होगा।

मिथुन राशि :-

मिथुन राशि के जातक शनिश्चरी अमावस्या पर एक पानी का नारियल लें और उसके पांच बराबर टुकड़े करके शिवजी को अर्पित करें।

कर्क राशि :-

कर्क राशि के जातक शनिश्चरी अमावस्या पर किसी मंदिर में जाकर अभिमंत्रित धागा लें और इसे पहन लें।

सिंह राशि :-

सिंह राशि के जातक शनिश्चरी अमावस्या पर किसी काले कुत्ते को तेल की रोटी खिलाएं, कष्टों का निवारण होगा।

कन्या राशि :-

कन्या राशि के जातक शनिश्चरी अमावस्या पर एक नींबू अपने सर से सात बार उतारकर, चार बराबर भागों में काटकर किसी चौराहे पर रख दें। नौकरी, व्यवसाय में लाभ होगा।

तुला राशि :-

तुला राशि के जातक शनिश्चरी अमावस्या पर मछलियों को आटे की गोलियां खिलाएं, कष्टों का निवारण होगा।

वृश्चिक राशि :-

वृश्चिक राशि के जातक शनिश्चरी अमावस्या पर बहते नदी के पानी में पांच लाल फूल और पांच जलते हुए दीए छोड़ें, धन लाभ होगा।

धनु राशि :-

धनु राशि के जातक शनिश्चरी अमावस्या पर मंदिर में एक घी का दीया जलाएं, लाभ मिलेगा।

मकर राशि :-

मकर राशि के जातक शनिश्चरी अमावस्या पर गाय को हरा चारा खिलाएं।

कुंभ राशि :-

कुंभ राशि के जातक शनिश्चरी अमावस्या पर शनिमंदिर में जाकर सरसों का तेल चढ़ाएं।

मीन राशि :-

शनिश्चरी अमावस्या पर मीन राशि के जातक आटे में हल्दी डालकर इसकी पांच लोईयां बनाएं और इसे गाय को खिलाएं।

(आपकी कुंडली के ग्रहों के आधार पर राशिफल और आपके जीवन में घटित हो रही घटनाओं में भिन्नता हो सकती है। पूर्ण जानकारी के लिए कृपया किसी पंड़ित या ज्योतिषी से संपर्क करें।)

सत्यवती ने इन तीन शर्तों को पूरा करने के बाद किया था ऋषि पाराशर के प्रेम को स्वीकार, जानिए क्या था इसका महाभारत से संबंध

जानिए! चारों युगों में पाप और पुण्य की मात्रा के अलावा और किन-किन चीजों में हुआ परिवर्तन



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.