ऑफिस का वास्तु रहे सही इसके लिए अपनाएं ये वास्तु टिप्स

Samachar Jagat | Monday, 14 May 2018 09:55:53 AM
The architecture of the office is right for you to adopt these Vaastu Tips

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

धर्म डेस्क। सभी चाहते है कि वे अपने कारोबार में सफल हों। अपने कारोबार को शुरू करते या उसका विस्तार करते समय अगर वास्तु को ध्यान में रखकर उसका इंटीरियर सेट किया जाए तो उसका प्रभाव सफलता में अवश्य पड़ता है। आज हम आपको बताऐंगे कि ऑफिस में कौनसी चीज कहां रखनी चाहिए। आपके बैठने का स्थान कौनसा होना चाहिए....

धनवान बनने के लिए व्यक्ति की कुंडली में होने चाहिए ये योग

कमरे के दक्षिण-पश्चिम कोने में अलमारी रखनी चाहिए। अलमारी में विशेष कागजात दक्षिण-पश्चिम कोने में रखने चाहिए। अलमारी का मुंह पूर्व या उत्तर की ओर होना चाहिए।

बिजली के सामान जैसे जनरेटर, चाय आदि बनाना हो तो दक्षिण-पूर्व की ओर बनाना चाहिए।

जानिए कौन था सहस्त्रार्जुन और क्या था इसका रावण से संबंध 

प्रयत्न करें कि कार्यालय के वरिष्ठ अधिकारी दक्षिण-पश्चिम दिशा में बैठें एवं उसके दक्षिण या पश्चिम में कोई भी कनिष्ट कर्मचारी न बैठें।

कार्यालय में मुख्य भूमिका मैनेजर या टीम लीडर की होती है। इनके बैठने का स्थान दरवाजे के सामने वाली दीवार के पास सकारात्मक क्षेत्र में रहना चाहिए एवं बैठते समय मुंह दरवाजे की ओर रहना चाहिए। ताकि वह देखता रहे कौन आया और कौन गया।

टेलीफोन, साइड टेबल कमरे के दक्षिण-पश्चिम कोने में रखनी चाहिए।

महाभारत काल में मछली के गर्भ से हुआ इस कन्या का जन्म

माल खरीदने वाले लोगों को दक्षिण-पश्चिम या पश्चिम दिशा में बैठना चाहिए।

जो लोग बाहर जाकर आर्डर बुकिंग करते हैं उनको उत्तर-पश्चिम कोने में स्थान देना चाहिए।

(source-google)

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.