इस शिव मंदिर में आकर एक अंग्रेज की पत्नी की मनोकामना हुई थी पूरी, पति से मिलने के बाद करवाया मंदिर का जीर्णोद्धार

Samachar Jagat | Thursday, 16 May 2019 12:47:25 PM
The desire of an Englishmans wife was fulfilled in this temple

धर्म डेस्क। मध्यप्रदेश के आगर मालवा का श्री बैजनाथ महादेव मंदिर बहुत ही प्रसिद्ध है और यहां की मान्यता के अनुसार जो भी व्यक्ति यहां आकर पूरी श्रृद्धा से भगवान शिव की पूजा करता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। इस शिवमंदिर के गर्भग्रह के बीचोंबीच आग्नेय पाषाण का शिवलिंग स्थापित है। शिवलिंग के अलावा मंदिर में ब्रह्मा और विष्णु जी की प्रतिमाएं भी विराजमान हैं, यह मंदिर करीब 50 फुट ऊंचा है और इसके शिखर पर सोने का कलश जड़ा हुआ है।

यहां के लोगों का कहना है कि 1880 में इस मंदिर का जीर्णोद्धार एक अंग्रेज दंपति ने करवाया था। जब भारत में अंग्रेजों का शासन था उस समय एक अंग्रेज कर्नल मार्टिमन अफगान युद्ध पर गया हुआ था और उसकी पत्नी आगर मालवा में ही रहती थी। वह अपनी कुशलता का संदेश पत्र के माध्यम से अपनी पत्नी को भेजता था, एक समय ऐसा आया जब खतों का सिलसिला बंद हो गया। 

जिस घर में होता है ये छोटा सा पौधा उस घर से नकारात्मक शक्तियां रहती हैं दूर और कभी नहीं होती है धन की कमी

पति की चिंता में अंग्रेज की पत्नी परेशान रहने लगी और एक दिन वह अचानक आगर मालवा के बैजनाथ मंदिर के पास से गुजरी। मंदिर से शंख की ध्वनि और मंत्रों की आवाजें आ रही थीं, इसे सुनकर वह मंदिर पहुंची और वहां पुजारियों को अपनी व्यथा सुनाई। पुजारी ने अंग्रेज पत्नी को ओम नम: श‍िवाय मंत्र का लघुरुद्री अनुष्ठान करने को कहा। माना जाता है कि इस अनुष्ठान को करने से पहले अंग्रेज पत्नी ने ये मन्नत मांगी कि अगर उनका पति सही सलामत लौट आता है तो वह इस मंदिर का जीर्णोद्वार कराएगी। 

नया व्यवसाय शुरू करने जा रहे हैं तो अपनी राशि के अनुसार इन अक्षरों से शुरू करें नाम, व्यापार में मिलेगी सफलता

कहा जाता है कि जैसे ही अनुष्ठान पूरा हुआ वैसे ही मिसेज मार्टिन के पास उनके पति का खत आया और उन्हें खत पढ़कर बहुत हैरानी हुई, खत में लिखा था कि कैसे शेर की खाल पहने और हाथ में त्रिशूल लिए एक योगी ने अफगानों के चंगुल से उनके पति को बचाया। पत्र में कर्नल मार्टिन ने लिखा था क‍ि उस योगी ने उन्हें बताया क‍ि वह उनकी पत्नी की तपस्या से प्रसन्न होकर उन्हें बचाने आया है। जब कर्नल मार्टिन वापस लौटे तो इस अंग्रेज दंपति ने अपने वचन का पालन करते हुए मंदिर का 1883 में जीर्णोद्वार करवाया। इस कहानी को श्री बैजनाथ मंदिर में पत्थरों पर उकेरा गया है, तभी से यह मंदिर आस्था का प्रमुख केंद्र बन गया है और यहां आने वाले भक्तों की सभी मनोकामनाएं भगवान बैजनाथ पूरी करते हैं।

( इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है । )

सत्यवती ने इन तीन शर्तों को पूरा करने के बाद किया था ऋषि पाराशर के प्रेम को स्वीकार, जानिए क्या था इसका महाभारत से संबंध



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.