यहां छोटी बच्चियों को मां काली का स्वरूप मानकर की जाती है उनकी पूजा, युवावस्था तक रहती हैं मंदिर में

Samachar Jagat | Thursday, 11 Apr 2019 08:48:03 AM
The little girls here are worshiped as maa Kali

धर्म डेस्क। नवरात्रे चल रहे हैं और इन दिनों में मां दुर्गा की भक्ति-पूजा का विशेष दौर चलता है और अष्टमी-नवमी को छोटी कन्याओं को भोजन कराकर उन्हें देवी स्वरूप पूजा जाता है। वहीं एक जगह ऐसी है जहां पर छोटी बच्चियों को देवी बनाकर मंदिर में रखा जाता है और मंदिर में किसी मूर्ति की नहीं बल्कि देवी कन्याओं की पूजा होती है। माना जाता है कि नेपाल में एक ऐसा मंदिर है जिसमें छोटी लड़कियों को देवी बनाकर पूजा जाता है, जिस लड़​की को यहां देवी बनाकर रखा जाता है वो घर-परिवार से दूर हो जाती है और जब तक वो युवा न हो जाए तब तक उसे इसी मंदिर में सबसे दूर रहना पड़ता है। 

मां दुर्गा का आर्शीवाद प्राप्त करने के लिए नवरात्र की पूजा करते समय राशिअनुसार पहनें इस रंग के कपड़े 

आपको बता दें कि नेपाल के इस मंदिर में जीवित कन्‍या को देवी बनाकर पूजने की अनोखी प्रथा विकसित है और इन कन्याओं को कुमारी देवी कहा जाता हैं। इन कन्याओं को साक्षात काली का स्‍वरुप मानकर इनकी पूजा की जाती है। जब किसी घर से कुंवारी देवी का चयन किया जाता है तो उसके माता -पिता बहुत खुश होते हैं और वे अपनी पुत्री को खुशी-खुशी देवी बनाना स्वीकार करते हैं। 

जानिए! भगवान शिव को क्यों आया अपने परम भक्त रावण पर क्रोध, लात मारकर गिरा दिया कैलाश पर्वत के नीचे

माना जाता है कि अभी यहां करीब 11 कुमारी देवियां हैं और जैसे ही कोई कुवारी देवी युवा होती है तो उसके स्थान पर किसी दूसरी कन्या का चयन किया जाता है और उसी कन्या को देवी के रूप में स्वीकार किया जाता है जिसकी कुंडली देवी बनने के योग्य होती है। 

( इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है । )

कहीं आपकी तरक्की की राह में भी तो बाधाएं उत्पन्न नहीं कर रहीं राशि अनुसार आपके अंदर की ये कमियां

भूत-प्रेत का साया होने पर व्यक्ति को अपने हाथ में रखनी चाहिए ये चीज, आत्माएं नहीं पहुंचा सकती नुकसान



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.