बड़े काम के हैं गुरूवार को किए जाने वाले ये उपाय, धन लाभ के साथ ही व्यापार वृद्धि में भी होते हैं सहायक

Samachar Jagat | Thursday, 09 May 2019 02:44:21 PM
These measures to be performed on Thursday are of great work

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

धर्म डेस्क। गुरूवार का दिन देव गुरू बृहस्पति को प्रसन्न करने का सबसे उत्तम दिन माना जाता है। अगर इस दिन देव गुरू बृहस्पति को प्रसन्न करने के लिए कुछ खास उपाय किए जाएं तो इससे वे जल्दी ही प्रसन्न होते हैं और भक्त की सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। आज गुरूवार है और आज आप इन उपायों को करके देवगुरू बृहस्पति को प्रसन्न कर सकते हैं, अगर आप ये उपाय करेंगे तो आपको धन लाभ के साथ ही व्यापार में भी फायदा होगा। आइए जानते हैं इन उपायों के बारे में ...........

नया व्यवसाय शुरू करने जा रहे हैं तो अपनी राशि के अनुसार इन अक्षरों से शुरू करें नाम, व्यापार में मिलेगी सफलता

देवगुरू बृ​हस्पति की कृपा सदा आप पर बनी रहे इसके लिए पंचधातु का गुरू यंत्र बनवाकर गुरूवार के दिन इसे अपने पर्स में रखें। 

धन प्राप्ति के लिए आज केले के पौधे की जड़ को पीले रंग के कपड़े में लपेटकर इसकी पूजा करें और पूजा के बाद इसे अपनी तिजोरी या पर्स में रख लें। धन की समस्या से छुटकारा मिलेगी।

जिस घर में होता है ये छोटा सा पौधा उस घर से नकारात्मक शक्तियां रहती हैं दूर और कभी नहीं होती है धन की कमी

अगर आप किसी व्यावसायिक डील के लिए जा रहे हैं तो चावल में हल्दी लगाकर इसे अपनी शर्ट की जेब में रख लें, कार्य में सफलता प्राप्त होगी।

अगर आप आज नौकरी के लिए इंटरव्यू देने जा रहे हैं तो पीले रंग का कपड़ा या रूमाल अपने पास में रखें।

( इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है । )

सत्यवती ने इन तीन शर्तों को पूरा करने के बाद किया था ऋषि पाराशर के प्रेम को स्वीकार, जानिए क्या था इसका महाभारत से संबंध

 

 

loading...


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
loading...


Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.