भगवान शिव को बहुत प्रिय है ये पक्षी, सावन मास में इसके दर्शन करने से होता है लाभ

Samachar Jagat | Monday, 13 Aug 2018 05:41:44 PM
This bird is very much like Lord Shiva, By seeing it in the saawan month, the profit is

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

धर्म डेस्क। भगवान शिव को नीलकंठ कहा जाता है, आपको बता दें कि नीलकंठ नाम का एक पक्षी भी होता है। इस पक्षी को भगवान शिव ( नीलकंठ ) का प्रतीक माना जाता है। उड़ते हुए नीलकंठ पक्षी का दर्शन करना सौभाग्य का सूचक माना जाता है। सावन का महीना भगवान शिव की भक्ति का महीना होता है ऐसे में अगर सावन माह में किसी व्यक्ति को इसके दर्शन हो जाएं तो उसकी तो किस्मत ही चमक जाती है।

वहीं इस पक्षी को लेकर कुछ मान्यताएं भी जुड़ी हुई हैं ये माना जाता है कि ये पक्षी व्यक्ति के जीवन में शकुन और अपशकुन को दर्शाता है, इसके बारे में पौराणिक शास्त्रों में वर्णन किया गया है। आइए आपको बताते हैं इसके बारे में.......

खगोपनिषद् के अनुसार अगर किसी व्यक्ति के पास से नीलकंठ पक्षी उड़ता हुआ जाता है तो यह व्यक्ति के लिए सौभाग्य का प्रतीक होता है। ऐसे व्यक्ति की आयु पांच वर्ष और अधिक बढ़ जाती है। 

अगर किसी स्त्री को नीलकंठ भूमि पर बैठा दिखाई देता है तो उस स्त्री को उदर संबंधी विकार या रोग होने की संभावना होती है।

अगर आपके घर में है किसी की शादी तो बिना पंड़ित के पास जाए इस तरीके से निकालें विवाह का मुहूर्त

अगर व्यक्ति को नीलकंठ किसी वृक्ष की हरी डाली पर बैठा दिखाई दे तो प्रेम सुख की प्राप्ति होती है वहीं सूखे वृक्ष की डाली पर बैठा दिखाई देने से दांपत्य जीवन में कलह पैदा होती है।

शास्त्रों के अनुसार नीलकंठ का जूठा किया हुआ फल खाने से मनवांछित लाभ, सौभाग्यवृद्धि एवं सुखमय वैवाहिक जीवन का योग बनता है।

( इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है। )

भगवान शिव के भी परमप्रिय सेवक हैं धन के देवता कुबेर, प्रसन्न करने के लिए करें इस मंत्र का जाप

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.