बच्चों को हर बुरी नजर से बचाए रखता है ये छोटा सा धागा

Samachar Jagat | Friday, 10 Aug 2018 09:48:57 AM
This small thread keeps kids from every evil eye

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

धर्म डेस्क। आपने अक्सर देखा होगा कि कुछ लोग अपने हाथ कि उंगलियों और पैरों में काला डोरा बांधकर रखते हैं, अधिकतर महिलाएं तो अपने पैरों में काला धागा बांधकर रखती ही हैं। वैसे तो ये आजकल की फैशन भी बन गया है और लड़कियां स्टाइलिश दिखने के लिए एक पैर में काला धागा बांधकर रखती हैं।

वहीं कुछ लोग गले में किसी भी भगवान के लॉकेट के साथ काला धागा पहनकर रखते हैं। आपको बता दें कि काले धागे का बड़ा ही धार्मिक महत्व होता है। क्या आप जानते हैं क्यों बांधा जाता है, हाथों और पैरों में काला धागा, आइए आपको बताते हैं इसके बारे में......

अगर आप भी अपने घर में करने जा रहे हैं शिवलिंग की स्थापना तो इन बातों का रखें ध्यान

आपको बता दें कि काला धागा नकारात्मक ऊर्जा को व्यक्ति से दूर रखता है जो लोग काला धागा हाथ, पैर या गले में बांधकर रखते हैं नकारात्मक ऊर्जा उनसे कोसों दूर रहती है। इसके साथ ही भूत-प्रेत जैसी बाधाएं भी उस पर कोई असर नहीं कर पाती हैं।

जब भी आप अपने शरीर के किसी भी अंग पर काला धागा बांधे तो इसके लिए आप मंगलवार और शनिवार का दिन चुनें।

इसके साथ ही हनुमान जी के मंदिर में जाकर पहले इस धागे को अभिमंत्रित करवा दें। इससे धागा और भी प्रभावकारी बन जाता है।

एक छोटा सा काला धागा बड़े ही काम का होता है, अगर आपके बच्चे को बार-बार नजर लग जाती है तो आप अपने बच्चे को हनुमान जी के लाॅकिट में डालकर काला धागा पहनाएं, इससे बच्चे को नजर नहीं लगती है।

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

भगवान शिव के भी परमप्रिय सेवक हैं धन के देवता कुबेर, प्रसन्न करने के लिए करें इस मंत्र का जाप

अगर पैसों की कमी चल रही है तो इस छोटी सी चीज को रखें अपनी जेब में

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...


Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.