भगवान राम के इस मंदिर में लगा हुआ है मन्नत का पेड़, पूजा करने से होती है हर मनोकामना पूरी

Samachar Jagat | Tuesday, 04 Jun 2019 09:13:04 AM
This temple of Lord Rama has a mannat tree Worship is done by every desire

धर्म डेस्क। पूरे भारत में भगवान राम के अनेक मंदिर हैं लेकिन श्रीराम की मां कौशल्या का एक ही मंदिर है और ये मंदिर छत्तीसगढ़ के चंद्रखुरी में स्थित है। सात तालाबों से घिरे जलसेन तालाब के बीच में एक द्वीप है और इसी द्वीप पर मां कौशल्या का मंदिर है और श्री राम यहां पर माता कौशल्या की गोद में बैठे हुए हैं। 

ड्राइंग रूम पर पड़ता है मेहमानों की सकारात्मक और नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव, ऐसे रख सकते हैं इसे वास्तु दोष से मुक्त

इसके अलावा इस मंदिर में भगवान शिव और नंदी की विशाल प्रतिमाएं हैं, मंदिर के द्वार पर हनुमानजी की प्रतिमा लगी हुई है। पौराणिक कथाओं के अनुसार यहां पर एक पेड़ के नीचे सुषेण वैध की समाधि है आपको बता दें कि रामायण के अनुसार सुषेण लंका के राजा रावण का राजवैद्य था। जब रावण के पुत्र मेघनाद के साथ हुए युद्ध में लक्ष्मण मूर्छित हो गए, तब सुषेण ने ही संजीवनी बूटी मंगाकर लक्ष्मण के प्राण बचाए थे। 

व्यक्ति के जीवन में उथल-पुथल मचाते हैं ये दो ग्रह, बनते हैं सुख-दुख का कारण

जब रावण को मारकर श्री राम वापस अयोध्या आए तो सुषेण वैध भी उनके साथ आ गए और यहीं पर उन्होंने अपने प्राणों का त्याग किया इसीलिए उनकी समाधि यहां बनाई गई। यहां पर सीताफल का एक खास पेड़ है जिसे मन्नत का पेड़ कहा जाता है। जो लोग अपनी कोई भी मन्नत लेकर यहां आते हैं वे पर्ची में नाम लिखकर उसे श्रीफल के साथ इस पेड़ पर बांध देते हैं। लोगों के मतानुसार जो भी यहां आकर कुछ मांगता है उसकी मन्नत पूरी होती है।

( इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है । )

जो व्यक्ति करता है इन लोगों से मुकाबला, उसे करना पड़ता है हार का सामना

नकारात्मकता का प्रतीक होती हैं ये तस्वीरें, घर में रखने से व्यक्ति को करना पड़ता है अनेक प्रकार की परेशानियों का सामना



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.