सिंजारा आज, विवाहित महिलाएं कर रही हैं तीज की तैयारी

Samachar Jagat | Sunday, 12 Aug 2018 03:46:00 PM
Today Sinjara, married women are preparing for Teej

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

जयपुर। सावन मास के शुक्ल पक्ष में आने वाली तीज हो हरियाली तीज कहा जाता है। इस दिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखती हैं, वहीं जिन लड़कियों की शादी की पहली तीज होती है या जिनका विवाह पक्का हो चुका है वे भी इस दिन अपने पति या होने वाले पति की लंबी उम्र के लिए मां पार्वती की पूजा करती हैं। ये माना जाता है कि माता पार्वती ने जब भगवान शिव को पाने के लिए कठोर तपस्या की तब इसी दिन भगवान शिव ने माता पार्वती की तपस्या से प्रसन्न होकर उन्हें दर्शन दिए और उन्हें विवाह का वरदान दिया। 

ये माना जाता है कि जो अविवाहित लड़कियां इस दिन सच्चे मन से माता पार्वती की पूजा करती हैं उन्हें मनोवांछित वर की प्राप्ति होती है। वहीं तीज से एक दिन पहले सिंजारा मनाया जाता है, यह त्योहार नवविवाहित जोड़ों के लिए विशेष महत्व रखता है। तीज कल है और आज सिंजारा बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है। सिंजारे के दिन महिलाएं सजती-संवरती हैं और तीज की तैयारियां करती हैं। 

विवाहित स्त्रियों के साथ ही जिन लड़कियों की शादी पक्की हो चुकी है वे अपने हाथों में मेहंदी लगा रही हैं। इस दिन लड़कियों के ससुराल से उनके लिए सिंजारा आता है, सिंजारे में साड़ियां, कपड़े और घेवर भेजे जाते हैं। जो कपड़े और गहने ससुराल से आते हैं दूसरे दिन उन्हीं को पहनकर महिलाएं माता पार्वती की पूजा करती हैं। 

( इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है। )

भगवान शिव के भी परमप्रिय सेवक हैं धन के देवता कुबेर, प्रसन्न करने के लिए करें इस मंत्र का जाप

अगर पैसों की कमी चल रही है तो इस छोटी सी चीज को रखें अपनी जेब में

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...


Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.