तिरुपति बालाजी मंदिर में हुई त्रिमंजनम रस्म

Samachar Jagat | Wednesday, 12 Sep 2018 12:56:56 PM
Trimanjanam ritual at Tirupati Balaji temple

तिरूपति। वार्षिक ब्रह्मोत्सव समारोह से पहले यहां भगवान वेंकटेश्वर के विश्व विख्यात तिरूपति बालाजी मंदिर में वैदिक मन्त्रोचार के बीच चार घण्टे तक त्रिमंजनम रस्म पूरी की गयी जिसके तहत मंदिर की साफ-सफाई की जाती है। कोइल अलवार त्रिमंजनम रस्म के तहत मंदिर के शीर्ष पुजारियों, अधिकारियों और सैंकड़ों कर्मियों ने गर्भ गृह सहित इस वृहद मंदिर के समूचे परिसर की साफ - सफाई की।

भगवान गणेश को प्रसन्न करने के लिए गणेश चतुर्थी पर करें इन मन्त्रों का जाप

एक अधिकारी ने बताया कि इस रस्म के तहत साफ - सफाई की गयी तथा 2000 से अधिक साल पुराने इस मंदिर की दीवारों, छतों एवं स्तंभों पर जड़ी-बूटियों, चंदन, हल्दी एवं पिसे हुए कपूर का लेप किया गया। इस रस्म के तहत भगवान वेंकटेश्वर की प्रतिमा को पूरी तरह से ढंक कर रखा गया है। अधिकारी ने बताया कि इस रस्म के दौरान सदियों पुरानी देवी-देवताओं की सचल प्रतिमाओं तथा पूजा से जुड़े सोने - चांदी के बर्तनों एवं अन्य सामग्री को गर्भ गृह से स्थानांतरित कर अन्य स्थानों पर ले जाया गया।

अगर हथेली पर है इस तरह का निशान, तो आप हैं दुनिया के सबसे भाग्यशाली इंसान

इस रस्म के कारण श्रद्धालुओं को दोपहर के बाद ही मंदिर में जाने की अनुमति दी गयी। चंद्र आधारित भारतीय कैलेंडर में इस वर्ष में 13 माह थे, जिन्हें अधिक मास के रूप में जाना जाता है। इस लिए इस बार तिरूपति मंदिर में नौ - नौ दिन के दो ब्रह्मोत्सव मनाए जाएंगे। अधिकारी ने बताया कि पहला अधिक मास ब्रह्मोत्सव 13 सितंबर से मनाया जाएगा। नियमित नवरात्र ब्रह्मोत्सव 10 अक्टूबर से शुरू होगा। इस समारोह के लिए सुरक्षा के व्यापक प्रबंध किए गए हैं। साथ में अन्य तैयारियां भी जारी हैं। - एजेंसी 

ओप्पो ने लॉन्च किया वाटरड्रॉप नॉच डिस्प्ले वाला स्मार्टफोन Oppo A7X, जानें कीमत और फीचर्स

अलीबाबा के जैक मा 54 साल की उम्र में हो जाएंगे सेवानिवृत्त, शिक्षा के क्षेत्र में लगाएंगे बाकी का समय और पैसा



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.