एक नहीं हैं शिव-शंकर, अलग-अलग है इनका रूप और महिमा, आइए जानते हैं इसके बारे में .....

Samachar Jagat | Thursday, 28 Feb 2019 03:04:18 PM
What is the difference between Shiva and Shankar

धर्म डेस्क। जब भी भगवान शिव की बात होती है तो उन्हें शिव - शंकर कहकर पुकारा जाता है। ​अधिकतर लोग यही मानते हैं कि शिव और शंकर एक ही ​हैं जबकि आपको बता दें कि शिव और शंकर में बहुत अंतर है। इन दोनों की प्रतिमाएं भी अलग- अलग हैं। आइए जानते हैं क्या है भगवान शिव और शंकर में अंतर ..........

शिव प्रकोप से बचना चाहते हैं तो इस ​महाशिवरात्रि पर भूलकर ​भी भोलेनाथ को अर्पित ना करें ये चीज

शंकर :-

शास्त्रों के अनुसार शंकर ब्रह्मा और विष्णु की तरह सूक्ष्म शरीरधारी हैं और इन्हें महादेव कहकर भी पुकारा जाता है। इनका काम संहार करना है और इन्हें परमपिता शिव ने उत्पन्न किया है यानि ये शिव न होकर शिव के एक रूप हैं। 

इस एक मंत्र में छिपा हुआ है भगवान विष्णु के एक हजार नामों का सार, जाप करने से नहीं होती धन-संपदा की कमी

शिव :-

शिव पूरी सृष्टि के रचनाकार हैं और यही परमेश्वर हैं जिन्होंने ब्रह्मा, विष्णु तथा शंकर की रचना की है। शिव ने ही ब्रह्मा को उत्पत्ति, विष्णु को पालन और शंकर को संहार का कार्य दिया है। इन्हीें तीनों के हाथ में सभी शक्तियां हैं जो शिव ने इन्हें प्रदान की हैं। शिव का कोई रूप नहीं है और ये निराकार स्वरूप में पूरी सृष्टि के कण - कण में विध्यमान रहते हैं। 

(ये सभी जानकारियां शास्त्रों और ग्रंथों में वर्णित हैं, लेकिन इन्हें अपनाने से पहले किसी विशेष पंडित या ज्योतिषी की सलाह अवश्य ले लें।)

कहीं आपकी तरक्की की राह में भी तो बाधाएं उत्पन्न नहीं कर रहीं राशि अनुसार आपके अंदर की ये कमियां

भूत-प्रेत का साया होने पर व्यक्ति को अपने हाथ में रखनी चाहिए ये चीज, आत्माएं नहीं पहुंचा सकती नुकसा



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.