पंचामृत पीते समय करना चाहिए इस विशेष मंत्र का जाप, होगी संसार के सभी सुखों की प्राप्ति

Samachar Jagat | Thursday, 21 Feb 2019 03:28:25 PM
When drinking panchamrit, you should chant this special mantra

धर्म डेस्क। हिंदू धर्म में पंचामृत को अमृत के समान माना जाता है और जब भी किसी प्रकार की पूजा होती है तो भगवान को पंचामृत का भोग लगाया जाता है। वहीं जब भगवान की मूर्ति की स्थापना की जाती है या किसी विशेष अवसर पर भगवान को स्नान कराया जाता है तो भी पंचामृत की पांचों चीजों से भगवान का अभिषेक किया जाता है। 

इस मंदिर में रात को रूकना है मना, जो रूका वो नहीं देख पाया सुबह का सूरज

आपको बता दें कि पंचामृत बनाने के लिए दूध, दही, तुलसी के पत्ते, शहद और गंगाजल को काम में लिया जाता है और इन सभी चीजों को मिलाकर पंचामृत बनाया जाता है। शास्त्रों के अनुसार, पंचामृत अकाल मृत्यु से रक्षा करता है और सभी रोगों का नाश करता है। पंचामृत का पान करने से व्यक्ति को कई प्रकार के रोगों से मुक्ति मिलती है और उसके अंदर सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। 

श्रीमद भगवद गीता के श्लोकों में छिपा हुआ है डायबिटीज का इलाज

शास्त्रों में कहा गया है कि श्रद्धापूर्वक पंचामृत का पान करने वाले मनुष्य को संसार के सभी सुखों की प्राप्ति होती है और वह जन्म-मरण के चक्र से मुक्त हो जाता है। पंचामृत का पान करते समय एक विशेष मंत्र का जाप भी करना चाहिए, ये मंत्र इस प्रकार है ...............

ॐ माता रुद्राणां दुहिता वसूनां, स्वसादित्यानाममृतस्य नाभिः ।
प्र नु वोचं चिकितुषे जनाय, मा गामनागामदितिं वधिष्ट ।।

(ये सभी जानकारियां शास्त्रों और ग्रंथों में वर्णित हैं, लेकिन इन्हें अपनाने से पहले किसी विशेष पंडित या ज्योतिषी की सलाह अवश्य ले लें।)

कहीं आपकी तरक्की की राह में भी तो बाधाएं उत्पन्न नहीं कर रहीं राशि अनुसार आपके अंदर की ये कमियां

भूत-प्रेत का साया होने पर व्यक्ति को अपने हाथ में रखनी चाहिए ये चीज, आत्माएं नहीं पहुंचा सकती नुकसान



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.