भगवान विष्णु ने शिवजी को क्यों किया अपना एक नेत्र अर्पित, कैसे पड़ा इनका नाम कमल नयन, जानिए इस रोचक कथा के बारे में...

Samachar Jagat | Friday, 07 Jun 2019 08:47:26 AM
Why did Lord Vishnu offer Shiva to one of his eyes know about this interesting story

धर्म डेस्क। भगवान विष्णु को कमल नयन भी कहा जाता है, वैसे तो कमल नयन का अर्थ होता है कमल के समान नयन वाला, लेकिन भगवान विष्णु का नाम कमल नयन क्यों पड़ा इसके पीछे एक बहुत ही रोचक कथा है। ये पौराणिक कथा क्या है आइए जानते हैं इसके बारे में ...........................

व्यक्ति के जीवन में उथल-पुथल मचाते हैं ये दो ग्रह, बनते हैं सुख-दुख का कारण

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, दैत्यों के अत्याचार से परेशान होकर देवताओं ने भगवान विष्णु से इनका संहार करने की प्रार्थना की। भगवान विष्णु देवताओं को लेकर भगवान शिव के पास कैलाश पर्वत पर पहुंचे और शिव की स्तुति की। भगवान विष्णु ने शिव का एक—एक नाम लेकर उन्हें प्रत्येक नाम के साथ एक कमल का फूल अर्पित किया और इस तरह विष्णु ने एक हजार कमल के फूल शिवजी पर चढ़ाए। भगवान विष्णु की परीक्षा लेने के लिए शिवजी ने इन फूलों में से एक फूल को छिपा दिया।

ड्राइंग रूम पर पड़ता है मेहमानों की सकारात्मक और नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव, ऐसे रख सकते हैं इसे वास्तु दोष से मुक्त

जब भगवान विष्णु ने फूलों की गिनती की तो उन्हें इसमें एक फूल कम मिला, उन्होंने फूल काफी ढूंढा लेकिन जब वो नहीं मिला तो विष्णु ने शिवजी को प्रसन्न करने के लिए कमल के फूल की जगह अपनी एक आंख निकालकर चढ़ाई। कमल के फूल की जगह अपनी आंख शिवजी को अर्पित करने की वजह से ही उन्हें कमल नयन कहा जाता है। यह देखकर शिवजी प्रसन्न हुए और उन्होंने विष्णु जी को मनोवांछित वरदान दिया। जिसकी वजह से श्री हरी विष्णु ने दैत्यों का संहार कर देवताओं को सुख प्रदान किया।

( इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है । )

जो व्यक्ति करता है इन लोगों से मुकाबला, उसे करना पड़ता है हार का सामना

नकारात्मकता का प्रतीक होती हैं ये तस्वीरें, घर में रखने से व्यक्ति को करना पड़ता है अनेक प्रकार की परेशानियों का सामना


 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.