जानिए! क्यों करना चाहिए मंगलवार के दिन सुंदरकांड का पाठ

Samachar Jagat | Tuesday, 12 Jun 2018 09:46:31 AM
Why should we read Sunderkand on Tuesday

धर्म डेस्क। मरूति नंदन पवन पुत्र हनुमान सभी का कल्याण करने वाले हैं, ये बाल ब्रह्मचारी हैं इसी कारण शास्त्रों के अनुसार महिलाओं को इनकी पूजा नहीं करनी चाहिए। मंगलवार के दिन हनुमान जी के मंदिर में जाकर हनुमान जी को सिंदूर और चोला चढ़ाने से लाभ होता है। इसी के साथ ही इस दिन सुंदरकांड का पाठ भी घर में होना चाहिए। आप चाहें तो खुद पाठ करें या फिर किसी पंडित को बुलाकर सुंदरकांड का पाठ कराएं। आप सोच रहे होंगे कि आखिर मंगलवार के ही दिन सुंदरकांड का पाठ क्यों करना चाहिए तो आइए जानते हैं इसके बारे में......

कर्ज से छुटकारा पाने के लिए करें ये उपाय 

रामायण का सबसे अहम कांड है सुंदरकांड, इसमें हनुमान जी के बल को दर्शाया गया है। जहां हनुमान जी ने माता सीता की खोज करते हुए लंका को जलाकर रावण को अपने बल का परिचय दिया। ये माना जाता है कि मंगलवार के दिन अगर घर में सुंदरकांड का पाठ कराया जाए तो इससे शत्रु परास्त होते हैं।

जानिए कौन था सहस्त्रार्जुन और क्या था इसका रावण से संबंध

मंगलवार का दिन हनुमान जी को बेहद प्रिय होता है इसी कारण मंगलवार के दिन सुंदरकांड का पाठ कराना लाभदायक माना जाता है। सुंदरकांड में हनुमान जी के बल के साथ ही उनकी बुद्धि और ज्ञान का भी प्रदर्शन देखने को मिलता है। सुंदरकांड का पाठ करने के बुद्धि और ज्ञान में वृद्धि होती है। विधार्थियों को परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए मंगलवार के दिन सुंदरकांड का पाठ करना चाहिए।

These measures to be performed on Tuesday are of great work

जिस घर में मंगलवार के दिन सुंदरकांड का पाठ होता है उस घर से नकारात्मक शक्तियां और भूत-प्रेत बाधाएं दूर रहती हैं। वहीं जिस व्यक्ति को भूत-प्रेत बाधाएं सता रही हों उन्हें भी मंगलवार के दिन सुंदरकांड का पाठ करना चाहिए। इससे इन बाधाओं से मुक्ति मिलती है।

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.