एक मंत्र से करें भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों की पूजा

Samachar Jagat | Tuesday, 13 Feb 2018 05:17:41 PM
Worship 12 Jyotirlingas of Lord Shiva with a mantra
Rajasthan Tourism App - Welcomes to the lend of Sun, Send and adventures

धर्म डेस्क। भगवान शिव प्राग्वैदिक देवता हैं, यानी वैदिककाल के बहुत पूर्व से शिव की उपासना की जा रही है। वेदों में शिव को रुद्र नाम से भी संबोधित किया गया है और शिव की स्तुति में कई ऋचाएं लिखी गईं। भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों का विशेष महत्व है। इन 12 ज्योतिर्लिंगों के दर्शन से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं और अपनी कृपा भक्तों पर सदा बनाए रखते हैं।

इस राक्षस की वजह से यहां पर मिलता है पितरों को मोक्ष!

साथ ही भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। अगर आप इन 12 ज्योतिर्लिंगों के दर्शनों के लिए नहीं जा सकते हैं तो आप शिवरात्रि वाले दिन घर पर भगवान शिव का एक मंत्र से जाप कर सकते हैं। इस एक मंत्र में 12 ज्योतिर्लिंगों के नाम आ जाते हैं और सभी की महिमा का वर्णन हो जाता है। 

आज भी अनसुलझे हैं तिरुपति बालाजी मंदिर के ये रहस्य

एक मंत्र से करें 12 ज्योतिर्लिंगों की पूजा

सौराष्ट्रे सोमनाथश्च श्रीशैले मल्लिकार्जुनम्।
उज्जयिन्नां महाकालमोंकारममलेश्मवरम्।
केदारं हिमवत्पृष्ठे डाकिन्यां भीमशंकरम्।
वाराणस्याश्च विश्वेशं र्त्यम्बकं गौतमीतटे।
वैद्यनाथं चिताभूमौ नागेशं दारुकावने।
सेतुबन्धे च रमेशं घुश्मेशश्च शिवालये।

शिव का अंश ही था उनका सबसे बड़ा दुश्मन

Source-Google

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

शास्त्रों के अनुसार क्यों नहीं लगाना चाहिए झाड़ू को पैर

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the lend of Sun, Send and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.