आप नहीं जानते होंगे अपने पूर्वजों के बारे में जितना, उतना जानते हैं ये लोग

Samachar Jagat | Friday, 11 Jan 2019 01:12:45 PM
You will not know as much about your ancestors, These people know so much

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

धर्म डेस्क। जहां आज लोग एकल परिवार में बंधकर पुराने रीति रिवाज और बुजुर्गों को भूलते जा रहे हैं वहीं आज भी पुरोहित हैं जो जजमानों की पीढ़ियों का लेखा - जोखा रख रहे हैं। अगर आज किसी से उसके परदादा या दादी का नाम पुछा जाए तो वो नहीं बता पाएगा लेकिन पुरोहितों को पास लोगों की 500 पीढियों से अधिक का लेखा-जोखा मौजूद रहता है। अधिकतर तीर्थ स्थलों पर आज भी ये परंपरा कायम है और लोग अपना और अपने बच्चों का नाम दर्ज करवाने यहां आते हैं। 


ऑफिस के दरवाजे पर लटकाएं ये कपड़ा, व्यवसाय में होगी वृद्धि

जब वे यहां आते हैं तो उन्हें अपने पूर्वजों के बारे में भी जानकारी मिलती है। लाखों लोगों के ब्यौरे के संकलित करने का यह तरीका इतना वैज्ञानिक और प्रमाणिक है कि पुरातत्ववेत्ता और संग्रहालयों के अधिकारी भी इससे सीख लेते हैं। आपको ये जानकर आश्चर्य होगा की अकेले प्रयागराज में करीब 1000 तीर्थ पुरोहितों के पास रखे बही-खाते बहुत सारे परिवारों, कुनबों और खानदानों के इतिहास का ऐसा दुर्लभ संकलन हैं जिससे कई बार उसी परिवार का व्यक्ति ही पूरी तरह वाकिफ नहीं होता है।

जानिए! तुला राशि के जातकों के लिए कैसा रहेगा साल 2019

पहले यह बहीखाता मोर पंख से लिखा जाता था बाद में नरकट से लिखा जाने लगा, इसके बाद इसे निब वाले पेन से लिखा जाने लगा और अब बहीखातों को स्याही वाले पेनों से लिखा जाता है। इसे लिखने के लिए अधिकतर पुरोहित काली स्याही का उपयोग करते हैं।

(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

कहीं आपकी तरक्की की राह में भी तो बाधाएं उत्पन्न नहीं कर रहीं राशि अनुसार आपके अंदर की ये कमियां

भूत-प्रेत का साया होने पर व्यक्ति को अपने हाथ में रखनी चाहिए ये चीज, आत्माएं नहीं पहुंचा सकती नुकसान

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.