लंबे समय तक प्रदूषित हवा में सांस लेने से गणित के ज्ञान पर पड़ता है बुरा असर

Samachar Jagat | Saturday, 01 Sep 2018 01:15:22 PM
Bad effect on Mathematics knowledge By breathing in long-term polluted air

बीजिंग। जहरीली हवा बीमारियों का कारण तो बनती ही है इसके साथ ही लोगों की जिंदगी भी छीन रही है। लंबे समय तक प्रदूषित हवा में सांस लेने से संज्ञानातमक संबंधी कौशल पर असर पड़ता है जिससे मौखिक और गणित परीक्षा के अंकों में कमी आ सकती है। चीन में किए गए एक शोध में आगाह किया गया है कि सामाजिक कल्याण पर प्रदूषण का अप्रत्यक्ष तौर पर असर सोच से कहीं ज्यादा हो सकता है। यह शोध पत्रिका पीएनएएस में प्रकाशित हुआ है।

कार्बन डाईऑक्साइड के कारण कम हो रही पौष्टिकता, भारतीयों में पोषक तत्वों की हो सकती है कमी

अमेरिका में अंतरराष्ट्रीय खाद्य नीति शोध संस्थान में वरिष्ठ शोधार्थी शिओबो झांग ने कहा, ''चीन के शहरों के मुकाबले भारतीय शहरों में वायु प्रदूषण की स्थिति ज्यादा गंभीर है इसलिए मुझे संदेह है कि भारत में इसका असर बेहद बुरा होगा।’’ झांग ने कहा, ''लंबे समय तक प्रदूषित वायु में सांस लेने से मौखिक और गणित परीक्षाओं में ज्ञानात्मक प्रदर्शन में बाधा उत्पन्न होती है।’’

कम नींद लेने से पुरुषों में हार्ट अटैक होने की होती है दोगुनी संभावना

चीन में पेकिग विश्वविद्यालय में प्रोफ़ेसर झांग ने कहा, ''वायु प्रदूषण से संज्ञानात्मक कौशल को होने वाले नुकसान से मानवीय क्षमता के विकास में भी बाधा पैदा होने की आशंका होती है।’’ भारत में वायु प्रदूषण लगातार बढ़ता जा रहा है अगर इसे रोकने के प्रयास नहीं किए गए तो हवा में सांस लेना मुश्किल हो जाएगा। वायु प्रदूषण को रोकने में पेड़ सबसे ज्यादा सहायक होते हैं।  वायु प्रदूषण को रोकने के लिए सरकार को प्रयास करने की आवश्यकता है। ऐसे में सरकार को पेड़ों की कटाई रोकनी होगी और ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाने होंगे । - एजेंसी

लड़कियों से ज्यादा लड़के करते हैं डेटिंग में हिंसा के अनुभवों की शिकायत : अध्ययन

कार्यस्थल पर तापमान बढ़ने से घटने लगती है कर्मचारियों की उत्पादकता



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.