शराब पीने का कोई सुरक्षित स्तर नहीं, कैंसर और हृदय संबंधी बीमारियों से है शराब का ठोस संबंध

Samachar Jagat | Tuesday, 28 Aug 2018 09:40:00 AM
Cancer and cardiovascular diseases have a strong connection to alcohol, No safe level

वाशिंगटन। मदिरापान का कोई सुरक्षित स्तर नहीं होता है..जी हां वर्ष 2016 में दुनियाभर में शराब पीने से करीब 30 लाख लोगों की मौत होने का दावा करने वाले एक नए अध्ययन में यह पाया गया है। पत्रिका 'लान्सेट’ में प्रकाशित अध्ययन में 195 देशों और क्षेत्रों में शराब के उपयोग और उससे स्वास्थ्य पर पड़ने वाले असर का आंकलन किया गया। अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ वाशिंगटन से एम्मेनुएला गाकीदोऊ ने कहा, ''शराब से स्वास्थ्य को बड़ा खतरा है।’’ गाकीदोऊ ने कहा, ''हमारे निष्कर्ष हाल ही में हुए अन्य अध्ययनों के अनुरूप हैं, जिनमें मदिरापान और असामयिक मृत्यु, कैंसर तथा हृदय रोगों में स्पष्ट एवं ठोस संबंध पाए गए हैं।’’

कई वर्षों से विशेषज्ञ कहते आए हैं कि थोड़ा-बहुत (प्रतिदिन महिलाओं के लिए एक पेग और पुरुषों के लिए दो पेग) शराब पीना संभवत: समग्र स्वास्थ्य के लिए बुरा नहीं होता। गाकीदोऊ ने कहा, ''बिल्कुल शराब ना पीने से समग्र स्वास्थ्य पर उत्पन्न खतरा कम हो सकता है।’’ अध्ययन में पाया गया कि वर्ष 2016 में दुनियाभर में करीब 30 लाख लोगों की जान शराब पीने से हुई। इनमें से 12 प्रतिशत पुरुष थे जो 15 से 49 वर्ष की आयु के थे। बहरहाल, शोधकर्ता सामान्य तौर पर शराब पीने के कारण हुईं मौत के सभी मामलों और उससे स्वास्थ्य पर पड़ने वाले परिणामों के अनुरूप उक्त निष्कर्षों पर पहुंचे हैं।

अनुसंधानकर्ताओं ने बताया कि प्रत्येक साल अल्कोहल की वजह से कैंसर और हृदय संबंधी बीमारियों सहित सड़क दुर्घटनाओं के चलते दुनिया भर में 28 लाख लोगों की मौत होती है। अनुसंधानकर्ताओं को इस बात का कोई सबूत नहीं मिला है कि थोड़ी मात्रा में अल्कोहल सेवन से लोगों को स्वस्थ रहने में मदद मिलती है। इसके अलावा उन्हें इस बात के भी सबूत नहीं मिले हैं कि किसी तरह का भी अल्कोहल पीना स्वस्थ रहने में मददगार साबित हो सकता है। विस्तृत अनुसंधान के मुताबिक कभी-कभार भी शराब पीना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। 'लांसेट’ मेडिकल जर्नल में छपी रिपोर्ट के मुताबिक साल 2016 में शराब की वजह से 28 लाख लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी।- एजेंसी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.