इस विधि से स्वस्थ रह सकते है कान और नाक

Samachar Jagat | Thursday, 22 Aug 2019 04:34:15 PM
Ear and nose can be healthy with this method

इंटरनेट डेस्क  शरीर में मौजूद कान, नाक, का विशेष महत्व होता है। इनकी सही तरीके से देख भाल करना बहुत आवश्यक हो जाता है।कभी-कभी सर्दी,जुकाम होने पर कान व नाक में तकलीफ होने लगती है।जैसे नजला, नाक का जाम होना या अधिक बहना। इनसे कान की मांसपेसिया भी प्रभावित होती हैं। ऐसे में नाक की सफाई जरूरी है, जिसके लिए जलनेति या सूत्रनेति मददगार होती है।

सूत्रनेति

सूत्रनेति विधि में एक पतली सूती कपड़े की रस्सी बनाकर पहले नाक के दाएं नथुने में धीरे-धीरे अंदर डालकर सांस अंदर खींच कर धागे को मुंह से बाहर निकाले। यही प्रक्रिया बायें नथुने से भी करें। दोनों नथुनों से ऐसा 10-20 बार करें।

जलनेति

इस विधि में पहले स्वच्छ पानी लेकर उसमें हल्का नमक डालकर गुनगुना गर्म कर रामझारे में भर लें और इसके बाद रामझारे को ऊपर रखकर इसके मुंह को नाक के दाएं नथुने में लगाकर पानी धीरे-धीरे नाक में डाले और बाएं नथुने से पानी बाहर निकालें। इस प्रक्रिया में मुंह खोलकर रखें और नाक से ही सांस लें और छोड़े।

लाभ:

इस विधि के करने से नाक में जमें बैक्‍टीरिया और गंदगी कि सफाई से आंखों की रोशनी बढने के साथ मस्तिष्क तेज बता है। इससे जुकाम-सर्दी होने के अवसर कम हो जाते हैं।

 सूत्रनेति, जलनेति की क्रिया करने से दमा, टी.बी., खाँसी, नकसीर, बहरापन आदि बीमीरियाँ दूर होती हैं।

सावधानी - नाक में इंफेक्शन या हाई ब्लड प्रेशर रहने पर यह क्रिया न करें



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.