कार्बन डाईऑक्साइड के कारण कम हो रही पौष्टिकता, भारतीयों में पोषक तत्वों की हो सकती है कमी

Samachar Jagat | Wednesday, 29 Aug 2018 03:34:06 PM
Lowering nutrition due to carbon dioxide

बोस्टन। भारत में कार्बन डाइऑक्साइड के स्तर में वृद्धि के कारण 2050 तक करोड़ों लोगों के शरीर में पोषक तत्वों की कमी होने का खतरा है क्योंकि एक नए अध्ययन में दावा किया गया है कि इस गैस के कारण चावल और गेहूं जैसी मुख्य फसलें कम पौष्टिक होती जा रही हैं। अमेरिका के हार्वर्ड टीएच चान स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के अनुसंधानकर्ताओं ने पाया है कि मानव गतिविधियों से सीओ 2 के स्तर में हो रही वृद्धि से दुनिया भर में 17.5 करोड़ लोगों में जिक की कमी और 12.2 करोड़ लोगों में प्रोटीन की कमी हो सकती है।

इन 4 नामों वाली लड़कियां पार्टनर को कभी नहीं देती धोखा, हर कंडीशन में देती है साथ

'नेचर क्लाइमेट चेंज’ जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में पाया गया है कि एक अरब से अधिक महिलाओं और बच्चों के आहार में लौह-तत्व की उपलब्धता में भारी कमी हो सकती है। इससे उनके अनीमिया और अन्य बीमारियों की चपेट में आने का खतरा बढ़ जाता है। अध्ययन में पाया गया है कि भारत को सबसे अधिक नुकसान उठाना पड़ सकता है और करीब पांच करोड़ लोगों में जिंक की कमी होने का अनुमान जताया गया है।

शराब पीने का कोई सुरक्षित स्तर नहीं, कैंसर और हृदय संबंधी बीमारियों से है शराब का ठोस संबंध

अनुसंधानकर्ताओं के मुताबिक भारत में 3.8 करोड़ लोगों में प्रोटीन की कमी हो सकती है और लौह तत्वों में कमी के कारण 50.2 करोड़ महिलाओं और बच्चों के इससे संबंधित बीमारियों के चपेट में आने का खतरा है। उन्होंने कहा है कि दक्षिण एशिया, दक्षिणपूर्व एशिया, अफ्रीका और पश्चिम एशिया के अन्य देशों पर भी इसका विशेष प्रभाव देखने को मिल सकता है।– एजेंसी

अगर आप भी है अधिक इटेंलीजेंट तो हो जाएं अलर्ट, अधिक बुद्धिमान लोगों को नहीं मिलते रोमांटिक साथी

अध्ययन में हुआ खुलासा समय पर दवा लेने की याद दिलाने वाली मोबाइल एप्प कारगर



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.