दिल की बीमारी का पता लगाने में हो सकता है एमआरआई का इस्तेमाल

Samachar Jagat | Saturday, 01 Jun 2019 10:52:42 AM
MRI can be used to detect heart disease

वाशिंगटन । किसी स्वस्थ व्यक्ति और किसी हृदय रोगी दोनों के दिल कितना ऑक्सीजन इस्तेमाल करते हैं, इसका पता लगाने के लिए मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग (एमआरआई) का प्रयोग किया जा सकता है। एक अध्ययन में यह जानकारी मिली है। अमेरिका में लॉसन हेल्थ रिसर्च इंस्टीट्यूट और सेडार्स-सिनाई मेडिकल सेंटर के अनुसंधानकर्ताओं ने बताया कि पश्चिमी देशों में लोगों की मौत का एक प्रमुख कारण दिल की मांसपेशियों तक खून का कम प्रवाह भी है।

Rawat Public School

सिर दर्द हो या मुहासों की समस्या, सभी के लिए रामबाण इलाज है पेपरमिंट एसेंशियल ऑयल

मौजूदा समय में दिल तक खून के प्रवाह को मापने के लिए उपलब्ध नैदानिक परीक्षण के लिए ऐसे रेडियोधर्मी रसायनों या कंट्रास्ट एजेंट को इंजेक्शन के माध्यम से शरीर में पहुंचाना जरूरी होता है जो एमआरआई संकेत को बदले और रोग का पता लगाए। इस परीक्षण में छोटे लेकिन कई खतरे हैं और गुर्दे की बीमारी से ग्रस्त मरीजों को ऐसे परीक्षण कराने की सिफारिश नहीं की जाती है। लॉसन हेल्थ रिसर्च इंस्टीट्यूट के फ्रैंक प्रेटो ने कहा, यह नया तरीका है। 

तनाव और थकान को दूर कर मानसिक शांति प्रदान करता है रोज ऑयल, जानिए कैसे करना चाहिए इसका इस्तेमाल

कार्डियक फंक्शनल एमआरआई (सीएफएमआरआई) के लिए शरीर के अंदर नीडल लगाने या इंजेक्शन के माध्यम से रसायनों को पहुंचाना जरूरी नहीं होता। प्रेटो ने कहा, इससे मौजूदा खतरों को कम करता है और सभी मरीजों पर इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। प्रेटो ने कहा, हमारी खोज में यह पता चला है कि हम दिल की मांसपेशियों की गतिविधि के अध्ययन के लिए एमआरआई का इस्तेमाल कर सकते हैं। -एजेंसी

बड़े काम का होता है पान की तरह दिखने वाला गिलोय, सेवन करने से मिलती है इन बीमारियों से निजात



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.