मिर्गी से ग्रस्त मरीजों को नहीं सोना चाहिए पेट के बल

Samachar Jagat | Friday, 08 Dec 2017 11:46:52 AM
Patients suffering from epilepsy should not sleep

लाइफस्टाइल डेस्क। दिनभर की थकान के बाद जब आप आराम करने अपने बिस्तर पर पहुंचते हैं तो इससे ज्यादा सुकून आपको शायद ही कहीं मिलता होगा। पर ये क्या आप पेट के बल सोते हैं? क्या आप जानते हैं आपकी ये आदत आपकी सेहत पर कितनी भारी पड़ सकती है। आइए जानते हैं पेट के बल सोने के ऐसे ही कुछ नुकसान के बारे में जिन्हें पढ़कर आप आज ही अपनी ये आदत बदल देंगे। 

खूबसूरत लाइफ पार्टनर नहीं ऐसे लड़के पसंद होते है लड़कियों को.....


• मिर्गी से ग्रस्त मरीजों में आकस्मिक मौत का खतरा अधिक है। यह बात एक शोध में सामने आई है। मिर्गी मस्तिष्क संबंधी बीमारी है, जिसमें मरीज को बार-बार दौरे पड़ते हैं। करोड़ों लोग इससे पीडि़त हैं। इसलिए इन्हे पेट के बल नहीं सोना चाहिए। 

इस तरह करे भावनाओं पर काबू, नहीं होगी निराश

• जब एक शोध के लिए शोधकर्ताओं ने 25 अध्ययनों की समीक्षा की गयी तो, इसमें शामिल 253 आकस्मिक मृत्यु के मामलों में लोगों की शारीरिक स्थिति को दर्ज किया गया। इस अध्ययन में पाया गया कि पेट के बल सोने की स्थिति के मामलों में 73 प्रतिशत लोगों की मौत हो गई थी।

सफर के दौरान उलटी की समस्या को दूर करेंगे ये नुस्खे

शरीर की एनर्जी को कम थायरॉइड

• डॉक्टरों का कहना है कि पीठ के बल सोने से चेहरा सुंदर बना रहता है, क्योंकि ऐसे सोने से आपका चेहरा दबता नहीं है और झुर्रियां भी नहीं पड़तीं। कई लोग पेट के बल सोते हैं। ऐसे सोने से स्तनों का आकार बिगड़ जाता है। इस पर हुई एक शोध जर्नल एलजेविअर में प्रकाशित भी हो चुकी है कि, पेट के बल सोने पर स्तन काफी देर गद्दे से दबे रहते हैं जिस कारण स्तनों के लिग्मेंट्स खिंच जाते हैं।

sourse google 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2017 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.