02 अप्रैल : बस एक क्लिक में पढ़िए, दिनभर की 10 बड़ी खबरें

Samachar Jagat | Tuesday, 02 Apr 2019 04:04:12 PM
02 April top 10 news

कांग्रेस का वादा: गरीबी पर करेंगे न्याय से वार, किसानों के लिए होगा अलग बजट

Congress promises: poverty will be punished, farmers will have different budget

नई दिल्ली। कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव के लिए मंगलवार को अपना घोषणापत्र जारी किया जिसमें गरीबों को न्यूनतम आय योजना (न्याय) के तहत सालाना 72 हजार रुपए देने और किसानों की स्थिति सुधारने के लिए अलग बजट के प्रावधान का वादा किया गया है। पार्टी ने सभी के लिए गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा की उपलब्धता, सरकारी सेवाओं की 22 लाख रिक्तियों को भरने, ग्रामीण स्तर पर हर साल लाखों युवाओं को रोजगार देने, राफ़ेल एवं भ्रष्टाचार के अन्य मामलों की जांच कराने, राष्ट्रीय एवं आंतरिक सुरक्षा पर जोर देने और अनुसूचित जाति, जनजाति, ओबीसी, अल्पसंख्यकों एवं महिलाओं के विकास के लिए कदम उठाने जैसे कई प्रमुख वादे किए हैं।

संप्रग प्रमुख सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, कोषाध्यक्ष अहमद पटेल, घोषणापत्र समिति के प्रमुख पी चिदंबरम, संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल, पूर्व केंद्रीय मंत्री एके एंटनी और पार्टी के कई अन्य वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में यह घोषणा पत्र जारी किया गया। घोषणा पत्र में न्याय योजना का प्रमुखता से उल्लेख है जिसके तहत गरीबों को 72,000 रुपए सालाना देने के वादा किया गया है।

इस मौके पर गांधी ने कहा कि जब एक साल पहले घोषणा पत्र तैयार करने की प्रक्रिया शुरू की गई तो हमने कहा कि इस घोषणापत्र में लोगों की आकांक्षाओं की झलक होनी चाहिए तथा सारे वादे सच्चे होने चाहिए। हम झूठ नहीं बोलना चाहते। प्रधानमंत्री रोज झूठ बोल रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने 15 लाख रूपये का झूठा वादा किया। लेकिन हमने विचार किया कि कुल कितना पैसा लोगों के खाते में डाला जा सकता है।

फिर हमने कहा कि गरीबी पर वार, 72 हजार। गांधी ने कहा कि रोजगार का मुद्दा दूसरा बड़ा वादा है। 22 लाख सरकारी नौकरियां रिक्त हैं। इन रिक्तियों को एक साल में भरा जाएगा। ग्रामीण इलाकों में हर साल 10 लाख युवाओं को रोजगार दिया जाएगा।
उन्होंने कहा युवा कारोबार शुरू करेंगे तो तीन साल तक किसी अनुमति की जरूरत नहीं होगी। मनरेगा में कार्य दिवसों की संख्या को 100 दिन से बढ़कर 150 दिन किया जाएगा।

किसानों के लिए बड़े ऐलान करते हुए गांधी ने कहा कि किसानों के लिए अलग बजट होगा। किसान ईमानदार हैं। हमने निर्णय लिया है कि कर्ज अदायगी नहीं करने पर किसानों के खिलाफ फौजदारी अपराध का मामला दर्ज नहीं होगा, दीवानी अपराध का मामला होगा। उन्होंने कहा कि शिक्षा के लिए बजट का छह फीसदी ख़र्च किया जाएगा और गरीब से गरीब व्यक्ति को उच्च गुणवत्ता वाली स्वास्थ्य सेवा सुनिश्चित की जाएगी।

गांधी ने नरेंद्र मोदी सरकार पर पांच वर्षों में समाज को बांटने का आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार में आने के बाद कांग्रेस देश को जोड़ने का काम करेगी। आंतरिक एवं राष्ट्रीय सुरक्षा पर भी हमारा जोर होगा। उन्होंने कहा कि फिलहाल देश में आर्थिक आपातकाल की स्थिति है और कांग्रेस की सरकार बनने पर अर्थव्यवस्था की गति तेज करने के लिए कदम उठाए जाएंगे। 

कांग्रेस ने यह भी वादा किया कि अनुसूचित जाति-जनजाति, ओबीसी और अल्पसंख्यक समाज के अधिकारों को सुनिश्चित करने के साथ ही उनके विकास के लिए कदम उठाए जाएंगे तथा न्यायपालिका में उनका प्रतिनिधित्व बढ़ाने का प्रयास किया जाएगा।
पार्टी ने महिला सुरक्षा पर विशेष ध्यान देने का वादा करते हुए कहा कि महिलाओं के लिए लोकसभा एवं विधानसभाओं में 33 फीसदी सीटें आरक्षित करने के साथ ही केंद्र सरकार की नौकरियों में उनके लिए 33 फीसदी आरक्षण की व्यवस्था होगी। कांग्रेस ने यह भी वादा किया कि पाकिस्तान पर अंतरराष्ट्रीय दबाव डालकर उसकी धरती से चलने वाली आतंकी गतिविधियों पर पूरी तरह अंकुश लगाया जाएगा।

ओडिशा में पीएम मोदी ने कांग्रेस और BJD पर साधा निशाना, कहा कि...

PM Modi Congress and BJD in Odisha, a simple target, said ...

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज ओडिशा के कालाहांडी में एक जनसभा को संबोधित किया। कालाहांडी में प्रधानमंत्री ने कांग्रेस और बीजू जनता दल पर जमकर निशाना साधा। पीएम ने कहा कि कांग्रेस ने गरीबो को गरीब रखने की साजिश रची। ऐसी साजिश, जिसका पाप ये कभी नहीं धो पाएंगे। हर चुनाव में गरीब, उम्मीदों के साथ इनके साथ जुडा, लेकिन चुनाव जीतने के बाद इन दलों ने गरीबों के साथ धोखा किया है। 

प्रधानमंत्री ने इस जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि मैं विश्वास दिलाता हूं कि ओदिशा में भाजपा सरकार बनने के बाद यहां गरीबों की स्थिति में हम सुधार करके रहेंगे। जो काम 70 सला में नहीं हुए वो हम पांच साल में करेंगे। पीएम ने इस जनसभा में कहा कि आपने अपने इस प्रधानसेवक को पांच साल पहले दिल्ली का दायित्व देकर सेवा करेन का आदेश दिया था। इसके बाद कहा कि बीते 5 साल में मैंने बिना छुट्टी लिए काम किया है। पल-पल उपयोग करके मैंने देश की सेवा करने का प्रयास किया है

प्रधानमंत्री ने कहा कि चाहे देश हित में लिए बड़े फैसलों में मेरा साथ देना हो, या स्थानीय चुनावों में भाजपा को समर्थन देना हो, ओडिशा की जनता पूरी ताकत से अपने चौकीदार के साथ खड़ी है। इसके बाद कहा हकि बीते पांच सालों में ओडिशा में करीब 8 लाख गरीब परिवारों को घर मिल चुके है। 

उत्तर प्रदेश में पहले चरण में बीजेपी की प्रतिष्ठा दांव पर, इन दिग्गज पार्टियों की चुनौती को करना होगा पार

BJP prestige at stake in first phase in Uttar Pradesh

लखनऊ। देश की राजनीति में अहम भूमिका निभाने वाले उत्तर प्रदेश में लोकसभा चुनाव के पहले चरण में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को अपना किला बचाए रखने के लिए कांग्रेस तथा समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन की चुनौती को पार पाना होगा। 7 चरणों में होने वाली चुनाव प्रक्रिया में उत्तर प्रदेेश की भागीदारी शुरू से अंत तक है। पहले चरण में पश्चिमी उत्तर प्रदेश की गाजियाबाद, मुजफ्फरनगर, गौतमबुद्धनगर, बागपत, सहारनपुर, मेरठ, कैराना और बिजनौर में 11 अप्रैल को वोट डाले जायेंगे। अंजाम की बेहतरी के लिये अच्छे आगाज की चाहत में जुटी बीजेपी,कांग्रेस और गठबंधन के बीच चुनावी महासमर में जोरदार संघर्ष की उम्मीद है हालांकि पिछले चुनावों की तरह इस बार भी विकास की बजाय जातीय समीकरणों के यहां हावी रहने के आसार हैं। 

वर्ष 2014 में मोदी लहर पर सवार भाजपा ने इन सभी आठ सीटों पर जीत का परचम लहराया था लेकिन 2017 में कैराना में हुए उपचुनाव में उसे कैराना उसके हाथ से निकल गई थी। भाजपा को दोबारा सत्ता में आने से रोकने के लिये राज्य में दो धुरंधर विरोधी समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने मंच साझा किया है जिनकी मुहिम को सफल बनाने के लिये पश्चिमी उत्तर प्रदेश में खासा प्रभाव रखने वाली राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) ने हाथ मिलाया है। राज्य की राजनीति में हाशिये पर खड़ी कांग्रेस पहले चरण में कुछ कर गुजरने के लिए कमर कस चुकी है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश की विशेषता है कि यहां के लोग मतदान में खासी रूचि दिखलाते है जो स्वस्थ लोकतंत्र का परिचायक है जबकि काम में ढिलायी बरतने वाले दलों और जन प्रतिनिधियों को दरकिनार करने में यहां के बाशिंदे तनिक भी देर नहीं करते।

पहले चरण की आठों सीटों के अंतर्गत 40 विधानसभा सीटों में से 33 पर भाजपा का कब्जा है जबकि तीन पर सपा, दो पर कांग्रेस और बसपा एवं रालोद के खाते में एक-एक सीट है। वर्ष 2014 के चुनाव में सहारनपुर को छोड़ कर भाजपा ने शेष सात सीटों पर एकतरफा जीत हासिल की थी। राजनीतिक ­ष्टि से महत्वपूर्ण सहारनपुर में भाजपा 65 हजार वोटों के अंतर से पर जीत हासिल की थी। मौजूदा सांसद राघव लखनपाल इस बार भी भाजपा प्रत्याशी है जबकि कांग्रेस ने पिछली बार दूसरे स्थान पर रहे इमरान मसूद को फिर से मैदान में उतारा है वहीं गठबंधन की तरफ से बसपा प्रत्याशी फजलुर्ररहमान कुरैशी मैदान में हैं। कैराना में उपचुनाव में करारी शिकस्त झेलने वाली पूर्व सांसद हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह पर भाजपा ने भरोसा नहीं जताते हुए प्रदीप चौधरी को टिकट थमाया है जबकि उपचुनाव में भाजपा को घुटनो पर लाने वाली रालोद की तबस्सुम हसन गठबंधन प्रत्याशी के तौर पर अपनी प्रतिष्ठा बरकरार रखने की भरपूर कोशिश करेंगी। कांग्रेस ने जाट नेता हरेंद्र मलिक को अपना प्रत्याशी बनाया है।

बिजनौर सीट पर भी रोमांचक मुकाबला होने जा रहा है। भाजपा ने एक बार फिर अपने सांसद भारतेंद्र पर भरोसा जताया है जबकी दूसरी ओर से बसपा ने पुराने उम्मीदवार मलूक नागर को टिकट दिया है। कांग्रेस ने यहां से नसीमुद्दीन सिद्दीकी को टिकट देकर मुकाबले को दिलचस्प बना दिया है। सिद्दीकी पहले बसपा में थे लेकिन बाद में कांग्रेस का हाथ थाम लिया। जाटलैंड की उपमा से नवाजे जाने वाला बागपत चौधरी चरण सिह के समय से ही उनके परिवार अभेद्य किला रहा है। यहां मुकाबला इसलिए दिलचस्प है क्योंकि इस बार यहां से अजित सिह की जगह उनके बेटे जयंत चौधरी चुनाव मैदान में है। पिछले चुनाव में भाजपा के उम्मीदवार सत्यपाल सिंह ने रालोद अध्यक्ष अजित सिह को हरा दिया था। अजित सिंह इस बार मुजफ्फरनगर से चुनावी मैदान में उतरेंगे। अगर 2014 के चुनाव को छोड़ दे तो यहां रालोद के अलावा यहां किसी अन्य दल के जीत हासिल करना टेढ़ी खीर साबित हुआ है।

गौतमबुद्धनगर में 2014 के लोकसभा चुनाव में विजय पताका लहराने वाली भाजपा ने वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में भी अपना दबदबा बनाये रखा और पांचों विधानसभा क्षेत्रों में जीत हासिल की थी। भाजपा ने एकबार फिर अपने सांसद महेश शर्मा पर भरोसा जताया है वहीं कांग्रेस ने अरविद सिंह को टिकट दिया है। सतवीर नागर सपा-बसपा गठबंधन की ओर से अपने प्रतिद्बंद्बियों को चुनौती देंगे। कुल मिलाकर यहां त्रिकोणीय मुकाबला होने जा रहा है। गाजियाबाद सीट से भाजपा ने केंद्रीय मंत्री वीके सिंह को फिर से टिकट दिया है जिसके कारण सबकी दिलचस्पी यहां होने वाले चुनावी मुकाबले को लेकर है। सपा-बसपा गठबंधन की ओर से सुरेश बंसल चुनाव मैदान में हैं, वहीं कांग्रेस ने डॉली शर्मा को उम्मीदवार बनाया है। इस सीट पर भाजपा की प्रतिष्ठा दांव पर है।

मुजफ्फरनगर लोकसभा सीट पर भी हर एक की निगाहें टिकी हुई हैं। भाजपा ने इस सीट पर मौजूदा सांसद संजीव बालियान पर फिर से भरोसा जताया है। अब उनका सीधा मुकाबला गठबंधन प्रत्याशी एवं रालोद प्रमुख चौधरी अजित सिंह से होगा। वर्ष 2013 के दंगों के बाद यह सीट हमेशा से ही सुर्खियों में रही है। इस सीट पर जाट और मुस्लिम वोटर हमेशा से निर्णायक भूमिका में रहे हैं। मेरठ सीट पर पिछले दो दशकों से भाजपा का कब्ज़ा है। पिछले चुनाव में भाजपा के राजेन्द्र अग्रवाल यहां से लगातार दूसरी बार सांसद चुने गए थे। इस बार उन्हें गठबंधन के बसपा प्रत्याशी हाजी मो. याकूब और कांग्रेस के हरेन्द्र अग्रवाल से तगड़ीचुनौेती मिलने के आसार हैं।

खशोगी के परिवार का मुंह बंद करने के लिए उन्हें बेतहाशा पैसा खिला रहा है सऊदी अरब

Khashoggi family latest news

वाशिंगटन। इस्तांबुल में रहमस्य तरीके से मौत के घाट उतारे गए सऊदी पत्रकार जमाल खशोगी के परिवार का मुंह बंद रखने के लिए सल्तनत उन्हें बेतहाशा धन दे रहा है। वॉशिंगटन पोस्ट की एक खबर में यह दावा किया गया है कि परिवार को करोड़ों डॉलर के घर दिए गए हैं और साथ ही हर महीने कई हजार डॉलर भी दिए जा रहे हैं।

शोगी वॉशिंगटन पोस्ट के पत्रकार थे और सऊदी सरकार के घोर आलोचक थे। अक्टूबर में  रियाद के 15 एजेंटों की एक टीम ने खशोगी की हत्या कर उनके शव के टुकड़े-टुकड़े कर दिए थे। वॉशिगटन पोस्ट ने अपनी खबर में कहा कि उनके चार बच्चों (दो बेटों और दो बेटियों) को यह पैसे दिया जाना सऊदी अरब द्बारा खाशोगी के परिवार के साथ एक दीर्घकालिक समझौते तक पहुंचने के प्रयास का हिस्सा है।

जिसका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि वे सार्वजनिक तौर पर बयान देने से बचें। समाचार पत्र की खबर के मुताबिक  खशोगी के बच्चों को बंदरगाह शहर जेद्दाह में घर दिए गए हैं, जिनकी कीमत 40 लाख डॉलर है। रिर्पोट में कहा गया है कि खशोगी के सबसे बड़े बेटे सालाह की वहीं रहने की योजना है। जबकि अमेरिका में रहने वाले बाकी बच्चों ने घर को बेचने का निर्णय लिया है।

संपत्ति के अलावा बच्चों को प्रति माह 10,000 डॉलर से अधिक की राशि भी दी जा रही है। इससे अधिक भुगतान भी उन्हें किया जा सकता है जो कि लाखों डॉलर हो सकते हैं। सऊदी अरब के शक्तिशाली क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान पर खशोगी की हत्या की साजिश रचने का आरोप है।

लेकिन सल्तनत ने इन सभी आरोपों को खारिज किया है। सऊदी अरब ने शुरुआत में कहा था कि उसे खशोगी की हत्या की कोई जानकारी नहीं है लेकिन बाद में उसने मौत के लिए एजेंटों को दोषी ठहराया था। सरकारी अभियोजक ने उनकी हत्या के मामले में 11 लोगों के खिलाफ आरोप तय किए हैं।

कॉल सेंटर घोटाला मामले में एक भारतीय को आठ साल की सजा

An Indian sentenced to eight years in the call center scam case

वाशिंगटन। भारत में कॉल सेंटर घोटाला मामले में संलिप्त एक भारतीय नागरिक को मंगलवार को आठ साल नौ महीने की सजा सुनाई गई है। अमेरिकी न्याय विभाग ने यह जानकारी दी। निशित कुमार पटेल (31) ने नौ जनवरी को अपना जुर्म कबूल कर लिया था। उसे अदालत ने 2,00,000 डॉलर देने और अक्टूबर 2018 में जब्त की गई एक 2015 लैंड रोवर भी जमा कराने का आदेश दिया।

पटेल ने अमेरिकी निवासियों से पैसा वसूलने के लिए 2014 और 2016 के बीच आंतरिक राजस्व सेवा (आईआरएस) अधिकारी बन अमेरिका स्थित सह-साजिशकर्ताओं और भारत स्थित कॉल सेंटरों के साथ मिलकर अपराध को अंजाम दिया था। आईआरएस अमेरिका की संघीय सरकार की राजस्व सेवा है।

रणबीर के साथ अभी काम नही करेंगी आलिया!

Aliya will not work with Ranbir yet!

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री आलिया भट्ट अभी रणबीर कपूर के साथ अभी और काम करती नजर नही आयेंगी। आलिया भट्ट और रणबीर कपूर की जोड़ी रील लाइफ के अलावा रियल लाइफ में भी सुर्खियों में है। आलिया और रणबीर इन दिनों फिल्म ब्रह्मास्त्र में काम कर रहे हैं। इस जोड़ी को कई निर्देशकों ने पर्दे पर उतारने का प्लान किया है,लेकिन आलिया और रणबीर ने साथ काम करने को इंकार कर दिया है। चर्चा थी कि आलिया और रणबीर की जोड़ी को लव रंजन की फिल्म में दिखाया जाएगा। अब चर्चा हो रही है कि आलिया ने फिल्म में काम करने से मना कर दिया है।

बताया जा रहा है कि आलिया और रणबीर ने ब्रह्मास्त्र में काम करने की वजह से साथ फिल्म नहीं करने का फैसला किया है। दोनों जब तक ब्रह्मास्त्र का काम पूरा नहीं कर लेते तब तक एक साथ कोई नई फिल्म साइन नहीं करेंगे। बताया जा रहा है कि दोनों को अभी ब्रह्मास्त्र के लिए 150 दिन की शूटिंग पूरी करना बाकी है। ऐसे में फिलहाल रणबीर और आलिया के लिए साथ में काम करना मुश्कलि ही नजर आ रहा है। 

सैफ के बेटे इब्राहिम करेंगे बॉलीवुड में डेब्यू

Saif's son Ibrahim to debut in Bollywood

मुंबई।  जाने माने अभिनेता सैफ अली खान के पुत्र इब्राहिम खान भी अब बॉलीवुड में डेब्यू कर सकते हैं। सैफ अली खान और अमृता सिंह की बेटी सारा अली खान ने पिछले साल बॉलीवुड में डेब्यू किया था। सारा ने केदारनाथ और सिंबा जैसी सुपरहिट फिल्मों में काम करने के बाद अपनी पहचान बना ली है। 

अब चर्चा है कि सारा के बाद सैफ अली खान के बेटे इब्राहिम खान भी बॉलीवुड में कदम रखने को तैयार हैं। इब्राहिम ने अपने पापा सैफ को यह साफ कर दिया है कि वह बहन सारा की तरह बतौर एक्टर काम करना चाहते हैं। बताया जा रहा है कि बेटे इब्राहिम के लिये सैफ ने फिल्म प्रोड्यूस करने का प्लान बनाया है। इब्राहिम को कैमरे पर तैयार करने के लिए खास तैयारी चल रही है। अब यह देखना दिलचस्प होगा कि सारा अली खान की तरह इब्राहिम भी अपना जबरदस्त डेब्यू कर पाते हैं या नहीं।

IPL 2019: ऋषंभ पंत की स्टंप माइक रिकॉर्डिंग पर बीसीसीआई ने कही यह बात

IPL 2019: BCCI on Rishabh Pant Stump Mike Recording

स्पोटर्स डेस्क। आईपीएल 2019 में दिल्ली कैपिटल्स और कोलकाता नाइट राइडर्स के बीच 30 मार्च को मैच खेला गया। इस मैच में सुपर ओवर में दिल्ली कैपिटल्स ने जीत हासिल की। लेकिन यह मैच इन दिनों सुर्खियों में बना हुआ है। इस मैच का एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। वीडियो में दिल्ली के युवा विकेटकीपर पंत की आवाज स्टंप माइक में कैद हुई थी। जो कि अब काफी चर्चाओं में है। 

आपको बता दें कि यह वाकया कोलकाता की पारी के 3.5वें ओवर की है। जब केकेआर के खिलाडी रॉबिन उथप्पा बल्लेबाजी कर रहे थे। यह ओवर दिल्ली की तरफ से संदीप लामिछाने कर र​हे थे। संदीप के गेंद डालने से पहले विकेट से पीछे पंत ने कहा कि यह तो वैसे भी चौका जाएगा और अगली गेंद पर रॉबिन उथप्पा ने चौका लगा दिया।

गौरतलब है कि इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। जिसको लेकर विवाद खडा हो गया है। कुछ लोगों ने तो इस मैच को फिक्स भी बता दिया। हालांकि वीडियो पर बढ़ते विवाद के बाद बीसीसीआई ने इस मामले में अपनी सफाई दी है। बीसीसीआई ने कहा कि किसी ने यह सही नहीं सुना कि पंत क्या कह रहे है। वह श्रेयस अय्यर से सीमा पर फील्डर बढाने के लिए कह रहे थे, ताकि चौका रोका जा सके। 

इसके बाद बीसीसीआई ने कहा कि पंत जैसे युवा खिलाडी को इस तरह सोशल मीडिया पर ट्रोल नहीं किया जाना चाहिए। पंत की इस तरह की निंदा किया जाना दुर्भाग्यपूर्ण है। बिना किसी जांच के सोशल मीडिया पर एक गुट पंत की निंदा करने में जुट गया। 

धोनी के धुरंधरों और रोहित के रणबांकुरों के बीच दिलचस्प रहेगी जंग

IPL 2019 matches

मुंबई। कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के शानदार फार्म के दम पर आत्मविश्वास से ओतप्रोत चेन्नई सुपर किग्स आईपीएल के मैच में बुधवार को मुंबई इंडियंस से खेलेगी जो टूर्नामेंट की सबसे कामयाब दो टीमों के बीच मौजूदा सत्र का पहला मुकाबला दिलचस्प रहेगा। 3 बार की चैम्पियन चेन्नई सुपर किग्स लगातार तीन जीत दर्ज करके अंकतालिका में शीर्ष पर है। दूसरी ओर मुंबई ने तीन में से दो मैच हारे और एक जीता। 

दोनों टीमों के बीच पिछले पांच मुकाबलों में से चार मुंबई ने जीते। कुल मिलाकर दोनों के बीच 26 मैच खेले गए जिनमें से 14 मुंबई ने जीते। इस बार चेन्नई का पलड़ा भारी लग रहा है और खास तौर पर धोनी शानदार फार्म में है जिन्होंने राजस्थान रायल्स के खिलाफ पिछले मैच में 46 गेंद में 75 रन बनाए। 

चेन्नई के पास बल्लेबाजी में गहराई है और स्पिन गेंदबाजी में विविधता है जबकि मुंबई के पास बेहतर तेज आक्रमण है। मुंबई की टीम अपने सलामी बल्लेबाजों रोहित और दक्षिण अफ्रीका के क्विंटन डिकाक पर काफी निर्भर है जबकि बाकी बल्लेबाजों को प्रदर्शन में सुधार करना होगा।

मेजबान के पास वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज अलजारी जोसेफ या हरफनमौला बेन कटिंग को खराब फार्म से जूझ रहे लसिथ मलिगा की जगह उतारने का मौका है। स्पिन विभाग में मुंबई की टीम पीछे है क्योंकि चेन्नई के पास हरभजन जैसा अनुभवी स्पिनर है। उनके अलावा दक्षिण अफ्रीका के इमरान ताहिर और रविंद्र जडेजा भी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं।

39 हजार के पार पहुंचकर बंद हुआ सेंसेक्स, निफ्टी ने किया 11,700 का आंकडा पार

Sensex closes above 39000 mark

मुंबई। घरेलू शेयर बाजार में आज कारोबार की शुरूआत बढ़त के साथ हरे निशान पर हुई और कारोबार की समाप्ति पर भी ये बढ़त के साथ बंद हुआ। बढ़त के इस माहौल में कारोबार की समाप्ति पर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( बीएसई ) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 184.78 अंक यानि 0.48 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 39,056.65 के स्तर पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के पचास शेयरों वाले निफ्टी में भी कारोबार की समाप्ति पर बढ़त देखने को मिली और ये 44.05 अंक यानि 0.38 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 11,713.20 के स्तर पर बंद हुआ।

गौरतलब है कि कल के कारोबार के दौरान सुबह शेयर बाजार बढ़त के साथ हरे निशान पर खुला और बढ़त के साथ ही बंद हुआ। कारोबार की शुरूआत में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( बीएसई ) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 260.47 अंक यानि 0.67 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 38,933.38 के स्तर पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर ये 164.27 अंक यानि 0.42 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 38,837.18 के स्तर पर बंद हुआ। 

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ( एनएसई ) का पचास शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी कारोबार की शुरूआत में 67.60 अंक यानि 0.58 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 11,691.50 के स्तर पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर ये 31.70 अंक यानि 0.27 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 11,655.60 के स्तर पर बंद हुआ।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.