04 दिसंबर : बस एक क्लिक में पढ़िए, दिनभर की 10 बड़ी खबरें

Samachar Jagat | Tuesday, 04 Dec 2018 03:47:58 PM
04 December top 10 news in hindi

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

राहुल गांधी ने किया तीखा प्रहार, कहा-भारत माता की जय बोलकर अंबानी के लिए काम करते हैं मोदी 

rahul gandhi and narendra modi latest news


मालाखेड़ा/अलवर। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बेरोजगारी, भ्रष्टाचार और किसानों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला बोलते हुए मंगलवार को कहा कि मोदी अपने हर भाषण में भारत माता की जय बोलते हैं लेकिन काम करते हैं अनिल अंबानी के लिए। राहुल ने यह भी कहा कि देश के कुछ प्रमुख उद्योगपतियों ने ही मोदी को प्रधानमंत्री बनाया। यहां चुनावी रैली में अपने भाषण के शुरू से ही आक्रामक दिख रहे राहुल ने सबसे पहले रोजगार के मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को घेरा।

उन्होंने अलवर के चार बेरोजगार युवाओं द्बारा एक साथ आत्महत्या किए जाने की घटना का जिक्र करते हुए कहा कि अगर आपने रोजगार दिया तो हिन्दुस्तान के इतिहास में पहली बार अलवर में चार युवाओं ने एक साथ आत्महत्या क्यों की? उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी से कहा कि आप अनिल अंबानी को रोज फोन करते हैं लेकिन क्या कभी आपने इन चारों युवाओं के परिवार को भी फोन किया?

इसके साथ ही राजस्थान में सत्ता में आने पर किसानों का कर्ज माफ करने और युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए काम करने का वादा भी राहुल ने अपनी इस सभा में किया। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि एक तरफ युवा आत्महत्या कर रहे हैं और दूसरी ओर किसान आत्महत्या कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि हर भाषण में मोदी कहते हैं - भारत माता की जय, और काम करते हैं अनिल अंबानी के लिए.. उन्हें अपने भाषण की शुरुआत करनी चाहिए अनिल अंबानी की जय...मेहुल चौकसी की जय.. नीरव मोदी की जय....ललित मोदी की जय से। राहुल ने सवाल किया कि प्रधानमंत्री मोदी भारत माता की बात करते हैं तो आप किसानों को कैसे भूल गए?

आपने 15 लोगों का 3.5 लाख करोड़ रुपए का कर्ज माफ किया मगर अलवर और राजस्थान के किसानों का आपने एक रूपया भी माफ नहीं किया। उन्होंने कहा कि मोदी अब अपने किसी भी भाषण में राफ़ेल की, रोजगार की बात नहीं करते।

कांग्रेस अध्यक्ष ने नोटबंदी को लेकर भी मोदी सरकार पर निशाना साधा और कहा कि नोटबंदी कालेधन के खिलाफ लड़ाई नहीं थी बल्कि यह तो (धन) सफ़ेद करने के लिए थी ... इसलिए मोदी ने आपको कतार में खड़ा कर आपका पैसा लिया उनका पैसा माफ किया।

राहुल ने कहा कि देश के बड़े उद्योगपतियों ने मोदी को प्रधानमंत्री बनाया। उन्होंने कहा कि मोदी की सरकार को हिन्दुस्तान के सबसे बड़े उद्योगपतियों ने बनाया था, मार्केटिग उनकी थी..टेलीविजन पर उनकी फोटो लगाई.. बड़ी बड़ी मीटिग के लिए उनको पैसा दिया..उद्योगपतियों ने नरेन्द्र मोदी को हिन्दुस्तान का प्रधानमंत्री बनाया इसलिए नरेन्द्र मोदी ने अनिल अंबानी को 30 हजार करोड़ रुपए दिए।

उन्होंने कहा कि राजस्थान की सरकार को कोई उद्योगपति नहीं बना रहा है, राजस्थान की सरकार को किसान, मजदूर, छोटे दुकानदार बनाने जा रहे हैं और कांग्रेस पार्टी की जैसे ही सरकार आएगी, दस दिन के अंदर किसानों का कर्ज़ा माफ होगा। केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी उज्ज्वला योजना पर निशाना साधते हुए राहुल गांधी ने कहा कि मोदी हर भाषण में कहते हैं कि हर महिला को गैस सिलेंडर दिया।

लेकिन यह नहीं कहते कि पहले यह सिलेंडर साढे 3 सौ रुपए का मिलता था, अब हजार रुपए में देता हूं और पहले कांग्रेस पार्टी जो केरोसिन देती थी वह भी छीन लिया। कांग्रेस अध्यक्ष ने फसल बीमा योजना को लेकर भी तंज कसे और आरोप लगाया कि इसमें किसानों द्बारा जमा करवाए गए 45000 करोड़ रुपए में से 16000 करोड़ रुपए देश के सबसे अमीर लोगों की जेब में गए हैं।

राहुल ने कहा कि यह बीमा की योजना नहीं है। इसको अनिल अंबानी योजना, मेहुल चोकसी, नीरव मोदी विजय माल्या योजना कहना चाहिए। प्रधानमंत्री का, मुख्यमंत्री का सारा लक्ष्य यही था कि राजस्थान की जनता का पैसा उठाकर इन 15-20 लोगों को दो।

राहुल गांधी ने कहा​ कि पहले प्रधानमंत्री मोदी कहते थे कि 'अच्छे दिन तो जनता जवाब देती थी,, आएंगे। लेकिन अब नया नारा निकला है 'चौकीदार...’ फिर जनता से जवाब मिला '... चोर है। इससे पहले सभा को कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी संबोधित किया।

भारतीय नौसेना दिवस आज, पीएम मोदी ने दी बधाई

Indian Navy Day today

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को भारतीय नौसेना और देशवासियों को नौसेना दिवस की बधाई देते हुए देश की सुरक्षा और आपदा प्रबंधन में उनके योगदान की सराहना की। मोदी ने ट्वीट किया, भारतीय नौसेना के बहादुर जवानों और उनके परिवारों को नौसेना दिवस की बधाई।

देश की रक्षा और आपदा प्रबंधन में नौसेना भूमिका के लिए देश नौसेना के प्रति कृतज्ञ है। नौसेना दिवस वर्ष 1971 में हुए भारत-पाकिस्तान युद्ध की जीत की याद में प्रत्येक वर्ष चार दिसंबर को मनाया जाता है। वर्ष 1971 को पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए नौसेना प्रमुख एडमिरल एस. एम. नंदा के नेतृत्व में 'ऑपरेशन ट्राइडेंट’ चलाया था और कराची में स्थित पाकिस्तानी नौसेना के अड्डों पर हमला करके उसके तीन जहाजों को नष्ट कर दिया था। 

सीतारमण-मैटिस बैठक: भारत, अमेरिका रक्षा और सुरक्षा संबंध आगे बढ़ाने पर सहमत

Sitharaman-mattis meeting

वाशिंगटन। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने अमेरिका के रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस से मुलाकात की और इस दौरान भारत और अमेरिका रक्षा तथा सुरक्षा संबंध तेजी से आगे बढ़ाने के लिए सहमत हुए हैं। मुलाकात में मैटिस ने भारत को पूरे हिंद-प्रशांत क्षेत्र और विश्व भर में स्थायीत्व प्रदान करने वाली ताकत बताया। अमेरिकी रक्षा मंत्री ने अपनी भारतीय समकक्ष के साथ पेंटागन में चौथे दौर की बैठक में सीतारमण का स्वागत किया। भारतीय रक्षा मंत्री अमेरिका की 5 दिवसीय आधिकारिक यात्रा पर हैं। यहां से वह कैलिफोर्निया में रक्षा मंत्रालय के डिफेंस इनोवेशन यूनिट तथा हवाई में हिद प्रशांत कमान मुख्यालय जाएंगी।

मैटिस ने सोमवार को सीतारमण का पेंटागन में दोनों नेताओं के लिए हुई प्रतिनिधि स्तर की बैठक में स्वागत करते हुए कहा कि अमेरिका और भारत ने प्रधानमंत्री(नरेन्द्र मोदी) के शब्दों में, अतीत से चली आ रही हिचकिचाहटों को दूर किया, दोनों देशों ने मित्रता की विरासत को आगे बढ़ाते हुए यह स्पष्ट किया कि सामरिक स्वायत्तता और सामरिक साझेदारी के बीच, कहीं कोई विरोधाभास नहीं है। सीतारमण ने अपनी आधिकारिक यात्रा की शुरूआत विदेश मंत्रालय के फॉगी बॉटम मुख्यालय से की, जहां उन्होंने दिवंगत राष्ट्रपति जॉर्ज एच डब्ल्यू बुश के लिए शोक पुस्तिका में शोक संदेश लिखा। इसके बाद वह आर्लिंगटन नेशनल सीमेट्री गईं जहां उन्होंने अज्ञात सैनिकों की कब्र पर पुष्पचक्र समर्पित किया। 

मैटिस ने कहा कि आ​र्लिंगटन नेशनल सीमेट्री में मंगलवार सुबह अपने देश की ओर से सम्मान व्यक्त करने के लिए हमारे मंत्रालय और हमारे सभी सेनाकर्मियों की ओर से आपका आभार व्यक्त करता हूं। उन्होंने कहा कि सीतारमण की ओर से पुष्पांजलि अर्पित करना यह दिखाता है कि अमेरिका-भारत सैन्य संबंध केवल शब्दों से ही परिभाषित नहीं हैं। बल्कि दोनों देशों के बलिदान तथा शांति, मित्रता और स्वतंत्रता को लेकर उनकी साझेदारी के मानवीय पहलू पर आधारित हैं। मैटिस ने कहा कि विश्व के 2 सबसे बड़े लोकतांत्रिक देशों ने अपने बीच भिन्न संस्कृति और भिन्न इतिहास होने के बावजूद नियम आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था के लिए सिद्धांतों, मूल्यों और सम्मान को साझा किया है।

मैटिस ने कहा कि अमेरिका-भारत संबंध विश्व के प्राचीनतम और विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र के बीच स्वाभाविक साझेदारी है। सीतारमण की यह वाशिगटन डीसी की पहली यात्रा है लेकिन एक साल में दोनों नेताओं की यह चौथी मुलाकात हैं जो भारत और अमेरिका के बीच बढ़ते रक्षा संबंधों को दिखाती है। उन्होंने कहा कि सितंबर में आपके देश की मेजबानी में नई दिल्ली में टू प्लस टू मंत्री स्तरीय वार्ता होने के बाद खास तौर पर अमेरिका भारत रक्षा सहयोग में हमने सार्थक प्रगति की है। मैटिस ने कहा क्षेत्र में और पूरी दुनिया में शांति और सुरक्षा को आगे बढ़ाने में और इसके लिए एक स्थिरताकारक ताकत के तौर पर भारत के नेतृत्व की अमेरिका सराहना करता है।

उन्होंने कहा कि सितंबर में संपन्न टू प्लस टू मंत्री स्तरीय वार्ता ने, अपनी रक्षा भागीदारी को और आगे ले जाने की भारत और अमेरिका की प्रतिबद्धता को भी स्पष्ट कर दिया। अमेरिकी रक्षा मंत्री ने कहा कि आज हम सितंबर में हुए कम्यूनिकेशन्स कम्पैटिबिलिटी एडं सिक्योरिटी एग्रीमेंट (सीओएमसीएएसए) समझौते को लागू करने की दिशा में काम कर रहे हैं। वार्ता के दौरान दोनों देशों ने सीओएमसीएएसए पर हस्ताक्षर किए थे जो भारत को आधुनिक सैन्य हार्डवेयर प्राप्त करने की अनुमति देता है। सीतारमण ने टू प्लस टू बैठक को ऐतिहासिक घटनाक्रम बताते हुए कहा कि इससे दोनों देशों के बीच रणनीतिक विचारविमर्श का आधार तैयार हुआ।

उन्होंने कहा कि नयी दिल्ली में सितंबर में संपन्न और अक्टूबर में सिगापुर में संपन्न टू प्लस टू द्बिपक्षीय बैठकें सकारात्मक और सार्थक रहीं। मैटिस के साथ बैठक की शुरूआत में सीतारमण ने कहा कि दोनों देशों के बीच आपसी विश्वास तथा रक्षा साझेदारी में भरोसा बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि नई अमेरिका राष्ट्रीय सुरक्षा रणनीति में भारत-अमेरिका रक्षा संबंधों को जो महत्व दिया गया है उससे वह उत्साहित हैं।

सीतारमण ने कहा कि भारत अमेरिका रक्षा संबंधों की मजबूत नींव वर्षों में पड़ी है। भारत अमेरिका को रक्षा के क्षेत्र में अहम साझेदार के रूप में देखता है। साथ ही उन्होंने कहा कि दोनों देशों की सेनाओं के बीच बेहतर सहयोग है, इसके अलावा रक्षा, वैज्ञानिक, सह-विनिर्माण और सह-विकास और  औद्योगिक स्तर पर भी सहयोग का स्तर अच्छा है। यह विश्वास जताते हुए कि द्बिपक्षीय वार्ताओं से दोनों देशों के बीच बातचीत और साझेदारी को और तेजी मिलेगी, रक्षा मंत्री ने कहा कि संबंध बहुत मजबूत बने हुए हैं। सीतारमण ने कहा कि दोनों देशों के बीच हाल में हुई बैठकों ने सकारात्मक तरीके से आगे बढ़ने की दोनों देशों की परस्पर इच्छा को रेखांकित किया है।

उच्च-स्तरीय वार्ताएं द्बिपक्षीय संबंधों की गहराई और बेहतरी के साथ-साथ क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर साथ मिलकर काम करने की परस्पर इच्छा को दर्शाती हैं। रक्षा मंत्री ने भारत की संवेदनशीलता पर ट्रंप प्रशासन की प्रतिक्रिया की प्रशंसा की उन्होंने कहा कि खासतौर पर पिछले तीन चार वर्षों में हमने उल्लेखनीय प्रगति की है। साझा लोकतांत्रिक मूल्यों पर आधारित हमारे संबंधों को दोनों देशों में मजबूत राजनीतिक तथा जन समर्थन मिल रहा है। आपसी विश्वास बढ़ रहा है तथा रक्षा साझेदारी में भरोसा भी है।

जलवायु परिवर्तन पर कार्रवाई, नियोजन, निधिकरण और निवेश जरुरी: गुटेरेस

Action on climate change, planning, funding and investment needed: Gutters

न्यूयॉर्क। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा है कि पूरा विश्व जलवायु परिवर्तन से गंभीर संकट में है और धरती के भविष्य के लिए नीति निर्माताओं को अपना ध्यान जलवायु परिवर्तन की कार्रवाई में आगे बढ़ाने, सशक्त नियोजन, अधिक निधिकरण और समझदारी पूर्ण निवेश पर केंद्रित करना होगा। गुटेरेस ने पोलैंड के कैटोविश में जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र की संधि के तहत कॉन्फ्रेंस ऑफ पार्टीज की 24वीं बैठक (सीओपी-24) में शामिल 150 देशों के नेताओं को संबोधित करते हुए यह बात कही। बैठक में जलवायु परिवर्तन समझौते पर हस्ताक्षरकर्ता वाले देशों के समक्ष 2015 के ऐतिहासिक पेरिस समझौते के क्रियान्वयन के लिए समय सीमा तय की गई।

गौरतलब है कि फ्रांस की राजधानी पेरिस में तीन वर्ष पहले 2015 में हुए समझौते में शामिल देश सामूहिक रूप से वैश्विक तापमान को दो डिग्री सेल्सियस से ज्यादा नहीं बढ़ने देने पर सहमत हुए थे और आश्वासन दिया था कि अगर संभव हो तो इस बढ़ोतरी को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित करेंगे।

पोलैंड में अब इन देशों ने इस बात पर सहमति व्यक्त की है कि वे किस प्रकार सामूहिक रूप से इस लक्ष्य हासिल करेंगे। गुटेरेस ने कहा कि हम कैटोविश में असफल नहीं होंगे। उन्होंने कई अन्य उच्च स्तरीय प्रतिनिधियों के साथ कार्यक्रम का शुभारंभ करते हुए बैठक में हिस्सा ले रहे वैश्विक प्रतिनिधियों, गैर लाभकारी संगठनों, संयुक्त राष्ट्र की एजेंसियों और निजी क्षेत्र की कंपनियों के लिए चार महत्वपूर्ण संदेश दिए।

उन्होंने कहा कि हमें अधिक महत्वाकांक्षा के साथ और अधिक कार्रवाई करने की आवश्यकता है। देशों के बीच विश्वास बहाली के लिए दिशानिर्देशों का क्रियान्वय अत्यंत है। जलवायु परिवर्तन पर कार्रवाई के लिए पर्याप्त निधिकरण जरुरी है और जलवायु परिवर्तन पर कार्रवाई सामाजिक और आर्थिक समझदारी के साथ हो।

फिल्म जीरो के अपने किरदार में ढलने के लिए अनुष्का को करनी पड़ी इतनी मेहनत

Anushka's three-month hard work for her character in Zero

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री अनुष्का शर्मा ने फिल्म जीरो में अपने किरदार के लिए तीन माह कड़ी मेहनत की है। आनंद एल राय के निर्देशन में बनी फिल्म जीरो में शाहरुख खान, अनुष्का शर्मा और कैटरीना कैफ की मुख्य भूमिका है। अनुष्का फिल्म के ट्रेलर में व्हीलचेयर पर बैठी नजर आईं। उन्हें बोलने में भी तकलीफ होती है। जीरो में अनुष्का शर्मा सेरेब्रल पाल्सी नाम की बीमारी से जूझ रही हैं।

फिल्म में अनुष्का वैज्ञानिक की भूमिका में हैं। अनुष्का ने अपने किरदार के लिए तीन महीने कड़ी मेहनत की। इस दौरान ऑक्यूपेशनल थेरेपिस्ट और ऑडियोलॉजिस्ट की मदद ली। अनुष्का शर्मा ने बताया है कि मैं यह समझती थी कि यह भूमिका करने के दौरान मुझे किस तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा और इसी कारण मैं यह भूमिका निभाने के लिए उत्साहित हुई।

अनुष्का ने कहा है कि उन्होंने ऑक्यूपेशनल थेरेपिस्ट और ऑडियोलॉजिस्ट के साथ काम किया, जिन्होंने उन्हें यह समझाने में मदद की कि उनके किरदार को किस तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। अनुष्का ने व्हीलचेयर पर भी वक्त बिताया। उन्होंने अपने किरदार के लिए दो प्रोफेशनल ट्रेनर की मदद ली।

अनुष्का ने कहा है कि मैं इस किरदार को सही तरीके से करना चाहती थी। आनंद सर और लेखक हिमांशु शर्मा पहले ही डॉक्टरों के साथ बहुत रिसर्च कर चुके थे, जब वे फिल्म के साथ मेरे पास आए और मेरे किरदार को रचा तो मैंने उनके दृष्टिकोण को समझा और उसके अनुसार डॉक्टरों से मुलाकात की। फिल्म जीरो 21 दिसंबर को रिलीज होगी।

पहले अपनी शादी में आतिशबाजी और अब इस बात के लिए हो रही प्रियंका और निक की निंदा

PETA India condemns the use of animals at Priyanka, Nick's wedding ceremony

मुंबई। हाल ही में बॉलीवुड की देसी गर्ल प्रियंका चोपड़ा ने अपने विदेशी बॉयफ्रेंड निक जोनास के साथ शादी की है। दोनों की शादी जोधपुर के उम्मैद भवन में शाही तरीके से की गई है। वैसे तो प्रियंका और निक जोनास की शादी ने बड़ी सूर्खियां बटौरी है, लेकिन अब उनकी शादी की एक बात को लेकर निंदा हो रही है। मीडिया रिपोट्र्स की माने तो प्रियंका और निक की शादी में जो जिन पशुओं, हाथी-घोड़े आदि के साथ बारात निकालने की बात की निंदा हो रही है।

ये निंदा किसी और ने नहीं बल्कि पेटा ने की है। मीडिया रिपोट्र्स से प्राप्त जानकारी के अनुसार पशुओं के लिए काम करने वाली संस्था पेटा के इंडियन चैप्टर ने अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा और निक जोनस के विवाह समारोह में हाथियों और घोड़ों के साथ बारात निकाले जाने की निंदा की है। प्रियंका और निक हिंदू रीति रिवाजों से रविवार को जोधपुर में विवाह बंधन में बंध गए। इससे पहले शनिवार को उन्होंने इसाई रीति रिवाजों से शादी की थी। पेटा इंडिया ने ट्विटर पर लिखा है कि प्रिय प्रियंका चोपड़ा और निक जोनस।

विवाह में हाथी और घोड़ों को चाबुक और कांटेदार लगाम से नियंत्रित किया जाता है। लोग हाथियों की सवारी बंद कर रहे हैं और शादियों में घोड़ों की सवारी भी खारिज कर रहे हैं। आपको बधाई, लेकिन हमें खेद है कि यह पशुओं के लिए खुशी का दिन नहीं था। पेटा के इस ट्वीट पर हालांकि प्रियंका और निक की ओर से कोई जवाब नहीं आया है।

गौरलतब है कि प्रियंका अस्थमा की मरीज हैं और उन्होंने लोगों से दिवाली पर पटाखें नहीं चलाने की अपील की थी। लेकिन उनकी शादी के बाद जमकर हुई आतिशबाजी पर उनकी आलोचना हुई। इसके लिए प्रियंका को सोशल मीडिया पर ट्रोल होना पड़ा था। 

टीम इंडिया को जीतनी होगी ऑस्ट्रेलिया से टेस्ट सीरीज, नहीं तो गवा देगी ये ताज

India's number one Test ranking at bets against Australia

दुबई। टीम इंडिया के पास अभी टेस्ट रैंकिंग में नंबर वन का ताज है अगर वह ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली जाने वाली टेस्ट सीरीज में अगर हार जाती है तो वह इस ताज को गवा देगी। मीडिया रिपोट्र्स के अनुसार भारत की नंबर एक टेस्ट रैंकिंग ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चार टेस्ट मैचों की सीरीज के दौरान दांव पर होगी लेकिन टीम इंडिया अगर एक मैच ड्रा भी करा लेती है तो अपनी शीर्ष रैंकिंग बचाने में सफल रहेगी। ऑस्ट्रेलिया फिलहाल आईसीसी रैंकिंग में पांचवें स्थान पर चल रहा है।

आईसीसी ने बयान में कहा है कि ऑस्ट्रेलिया अगर 4-0 से जीत दर्ज करता है तो टेस्ट रैंकिंग में नंबर एक बन जाएगा। भारत को शीर्ष स्थान बरकरार रखने के लिए सिर्फ एक टेस्ट ड्रॉ कराने की जरूरत है। शीर्ष 20 बल्लेबाजों की सूची में कोई बदलाव नहीं हुआ है जिसमें भारतीय कप्तान विराट कोहली शीर्ष पर चल रहे हैं। ऑस्ट्रेलिया के प्रतिबंधित बल्लेबाज स्टीव स्मिथ और न्यूजीलैंड के केन विलियमसन क्रमश: दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं। गेंदबाजों की सूची में रविंद्र जडेजा पांचवें स्थान के साथ शीर्ष भारतीय गेंदबाज हैं।

रविचंद्रन अश्विन सातवें स्थान पर बरकरार हैं। चार टेस्ट मैचों की सीरीज की शुरुआत गुरुवार को एडिलेड में होगी। भारत के फिलहाल 116 जबकि ऑस्ट्रेलिया के 102 अंक हैं। आईसीसी ने कहा है कि 14 अंकों के अंतर का मतलब है कि भारत के आसानी से सीरीज जीतने की उम्मीद की जाती है और अपनी विफलता पर एशियाई टीम को अंक गंवाने होंगे।

भारत अगर 4-0 से जीत दर्ज करता है तो उसके 120 अंक हो जाएंगे जबकि ऑस्ट्रेलिया के 97 अंक ही रह जाएंगे। हालांकि अगर ऑस्ट्रेलिया 4-0 से जीत दर्ज करता है तो 110 अंक के साथ शीर्ष पर पहुंच जाएगा जबकि भारत 18 अंक (इंग्लैंड से 0.065 अंक पीछे) के साथ तीसरे स्थान पर खिसक जाएगा। ऑस्ट्रेलिया अगर 3-0 से जीत दर्ज करता है तो कोहली की टीम के 109 अंक जबकि मेजबान टीम के 108 अंक होंगे। ऑस्ट्रेलिया की 3-1 से जीत पर मेजबान टीम के 107 जबकि भारत के 111 अंक होंगे। 

ऑस्ट्रेलियाई पूर्व क्रिकेटरों के लिए कोहली बने सिरदर्द, अब पोटिंग ने कही उनसे निपटने की ये बात!

Ricky Ponting said Kohli can still be upset, let him not dominate

एडिलेड। भारत अभी ऑस्ट्रेलिया दौरे पर है जहां वह विराट कोहली की अगुवाई में मेजबान टीम से चार टेस्ट मैचों की सीरीज खेलेगी। अभी तक पहला टेस्ट शुरू होने में दो दिन बाकी है लेकिन कप्तान विराट कोहली की फॉर्म अभी ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए सिरदर्द बनी हुई है और वह उनसे निपटने की हर कोशिश करने के बारे में प्लान बना रहे हैं।

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग ने कहा है कि विराट कोहली को अब भी परेशान किया जा सकता है तथा ऑस्ट्रेलियाई टीम को चुपचाप बैठने और भारतीय कप्तान को हावी होने देने के बजाय उनको हर तरह से परेशान करना चाहिए। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला मैच गुरुवार से शुरू होगा और पूर्व ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज डीन जोन्स ने कोहली को नहीं उकसाने की सलाह दी है।

विराट कोहली अपने पिछले ऑस्ट्रेलियाई दौरे की तुलना में कुछ नरम हो गए हैं लेकिन पोंटिंग से पूछा गया कि क्या ऑस्ट्रेलिया अपने मैदान पर उन्हें अपने जाल में फंसा सकता है तो उन्होंने कहा कि हां ऐसा हो सकता है। मुझे नहीं लगता कि वह ऐसा खिलाड़ी है जिसे आपको परेशान नहीं करना चाहिए। मैंने उसे परेशान होते हुए देखा है। उन्होंने कहा है कि मिशेल जॉनसन ने निश्चित तौर पर अपनी खतरनाक गेंदबाजी और उसके आस-पास आक्रामक हाव भावों से उसे परेशान किया।

इसलिए मैं चुपचाप बैठकर किसी को हावी होने की अनुमति नहीं दूंगा। पोंटिंग ने कहा है कि हम जिस तरह से विशेषकर स्वदेश में क्रिकेट खेलते रहे हैं वह अच्छे शारीरिक हाव भावों से जुड़ा है। ऑस्ट्रेलियाई इसी अंदाज में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते रहे हैं। उन्होंने कहा है कि अगर वर्तमान टीम आक्रामक मानसिकता के साथ नहीं खेलती है तो वह गलत होगा। पोंटिंग ने कहा है कि हां, पूर्व की ऑस्ट्रेलियाई टीमें कुछ टिप्पणियां करती थी लेकिन इसमें उसे खतरनाक गेंदबाजी का साथ मिलता था। आप इसके बिना ऐसा नहीं कर सकते। अन्यथा यह बकवास है।

चांदी 380 रुपए चमकी, सोना स्थिर

gold and silver price

नई दिल्ली। विदेशी बाजारों में दोनों कीमती धातुओं की चमक बढने के बावजूद घरेलू जेवराती मांग सामान्य रहने से दिल्ली सर्राफा बाजार में सोना मंगलवार को 31,850 रुपए प्रति दस ग्राम पर टिका रहा। इस दौरान औद्योगिक ग्राहकी आने से हालांकि चाँदी की चमक बढी और यह 380 रुपए की छलांग लगाकर 37,740 रुपए प्रति किलोग्राम पर पहुँच गई।

दुनिया की अन्य प्रमुख मुद्राओं के बास्केट में डॉलर के टूटने से विदेशी बाजारों में पीली धातु में आज भी बढत रही। लंदन का सोना हाजिर 6.90 डॉलर की बढत के साथ 1,237.90 डॉलर प्रति औंस पर पहुँच गया। फरवरी का अमेरिकी सोना वायदा भी 3.10 डॉलर की बढत में 1,242.70 डॉलर प्रति औंस बोला गया।

बाजार विश्लेषकों के मुताबिक अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिग के बीच हुई बातचीत को अब निवेशक सशंकित होकर देख रहे हैं। उनका मानना है कि मात्र 90 दिन में दोनों देशों के बीच व्यापार समझौते की जमीन तैयार नहीं हो सकती है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में चाँदी आज 0.10 डॉलर की तेजी के साथ 14.19 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गई। वैश्विक तेजी के बावजूद घरेलू जेवराती माँग सामान्य रहने से आज सोना स्टैंडर्ड 31,850 रुपए प्रति 10 ग्राम पर स्थिर रहा। सोना बिटुर भी 31,700 रुपए प्रति 10 ग्राम पर टिका रहा।

आठ ग्राम वाली गिन्नी हालाँकि 100 रुपए की बढत में 24,800 रुपए पर पहुंच गई। औद्योगिक मांग आने से चाँदी हाजिर 380 रुपए की छलाँग लगाकर 37,740 रुपए प्रति किलोग्राम के भाव बिकी। चाँदी वायदा 620 रुपए की तेजी में 36,370 रुपए प्रति किलोग्राम बोली गई। सिक्का लिवाली और बिकवाली गत दिवस के क्रमश: 72 हजार और 73 हजार रुपये प्रति सैकड़ा पर अपरिवर्तित रहे।

107 अंक की गिरावट के साथ 36,134 के स्तर पर बंद हुआ सेंसेक्स

Sensex closes 107 points down

मुंबई। घरेलू शेयर बाजार में आज कारोबार गिरावट के साथ शुरू हुआ और कारोबार की समाप्ति पर भी ये लाल निशान पर बंद हुआ। गिरावट के इस माहौल में कारोबार की समाप्ति पर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( बीएसई ) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 106.69 अंक यानि 0.29 प्रतिशत की गिरावट के साथ 36,134.31 के स्तर पर बंद हुआ। सेंसेक्स की तरह ही नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के पचास शेयरों वाले निफ्टी में भी कारोबार की समाप्ति पर गिरावट देखने को मिली और ये 14.25 अंक यानि 0.13 प्रतिशत की गिरावट के साथ 10,869.50 के स्तर पर बंद हुआ। 

गौरतलब है कि कल के कारोबार के दौरान शेयर बाजार बढ़त के साथ खुला और बढ़त के साथ ही हरे निशान पर बंद हुआ। कारोबार की शुरूआत में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( बीएसई ) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 202.39 अंक यानि 0.56 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 36,396.69 के स्तर पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर ये 46.70 अंक यानि 0.13 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 36,241.00 के स्तर पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ( एनएसई ) का पचास शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी कारोबार की शुरूआत में 53.95 अंक यानि 0.50 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 10,930.70 के स्तर पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर ये 7.00 अंक यानि 0.064 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 10,883.75 के स्तर पर बंद हुआ। 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 


Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.