07 जनवरी : बस एक क्लिक में पढ़िए, दिनभर की 10 बड़ी खबरें

Samachar Jagat | Monday, 07 Jan 2019 04:41:58 PM
07 January top 10 news

अयोध्या मामले में न्यायालय पर अशोभनीय टिप्पणी करने वालो पर हो सख्त कार्रवाई : आजम

Ayodhya verdict on the indefensible comments on the court, be strict action: Azam

वाराणसी। उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री एवं समाजवादी पार्टी (सपा) के वरिष्ठ नेता आजम खां ने अयोध्या में राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद ममाले में कथित तौर पर एकतरफा फैसले के लिए उच्चतम न्यायालय पर दबाव बनाने एवं अशोभनीय टिप्पणियां कर देश का माहौल बिगाने वालों पर सख्त कानूनी कार्रवाई करने मांग न्यायालय से की है।

खां ने रविवार को यहां कहा कि शीर्ष न्यायालय द्वारा अयोध्या विवाद की सुनवायी के लिए सिर्फ तारीख मुकर्रर करने भर की बात पर 24 घंटे में कई व्यक्तियों, संगठनों, मजबी दावेदारों एवं धर्माबलंबियों की ओर से धमकी,अपशब्द और अशेभनीय टिप्पणियां की गईं। इन अशोभनीय बयानों के सहारे सर्वोच्च अदालत को डराने के प्रयास कर देश के संविधान पर एक तरह का हमला किया गया। इसलिए इस मामले में उच्चतम न्यायालय को स्वत: संज्ञान लेकर ऐसे लोगों पर तत्काल कानूनी कार्रवाई की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि ये प्रयास अयोध्या विवाद पर सिर्फ एकतरफा फैसले के लिए किये जा रहे हैं, जिससे देश का माहौल बिगड़ सकता है। 

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं देश पर हूकूमत करने वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को सलाह देते हुए कहा कि उन्हें जिम्मेवारी लेनी चाहिए कि फैसला किसी के हक में आए तो उसे ढता से लागू करवायेगी। खां ने आरोप लगाते हुए कहा कि यह पहला मौका नहीं कि अदालती फैसलों को लेकर अशोभनीय टिप्पनियां की गईं। इससे पहले सत्ताधारी पार्टी के कई नेताओं ने कुछ धार्मिक मामलों में अपरोक्ष रुप से अदालत पर ऐसी टिप्पिनियां कीं, जिसे किसी भी तरह से उचित नहीं माना जा सकता है। 

उन्होंने एक सवाल पर कहा कि अयोध्या में 1949 से ही राम मंदिर है और वहां रामलला विराजमान हैं। उन्होंने तंज भरे लहजे में कहा कि वर्ष 1992 में शिवसेना ने बाबरी मस्जिद ढ़हा दी, लेकिन उसका लाभ भाजपा उठा रही है। भाजपा ने कभी नहीं चाहा कि अयोध्या में राम मंदिर बने, वह तो ‘जख्मों’ को भजदा रखकर जनता का वोट हासिल करना चाहती रही है।

एचएएल की प्रतिभाओं को अम्बानी दें नौकरी : राहुल

Job offers talent to HAL: Rahul

नयी दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी हिंदुस्तान एरोनेटिक्स लिमिटेड (एचएएल) का राफेल विमान का ठेका अनिल अम्बानी की कंपनी को दिया गया जिससे एचएएल की हालात ज्यादा खराब हो गयी है और उसके पास अब कर्मचारियों को देने के लिए पैसा भी नहीं है।

गांधी ने सोमवार को ट्वीट कर कहा ‘‘आश्चर्य की बात है कि एचएएल के पास अपने कर्मचारियों को वेतन देने के लिए पैसे नहीं हैं। अनिल अम्बानी को राफेल विमानों का ठेका मिला। उनको चाहिए कि वे अब एचएएल के प्रतिभाशाली कर्मचारियों को अपने यहां ठेके पर लें।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि राफेल विमान निर्माण का सौदा नहीं मिलने से एचएएल की हालत और खराब हो गयी है और वहां की प्रतिभाएं अब अम्बानी की कंपनी का रुख करेंगी। उन्होंने कहा ‘‘बिना वेतन के एचएएल के प्रतिभाशाली इंजीनियर और वैज्ञानिक अब अनिल अम्बानी की कंपनी का ही रुख करेंगे। इसके साथ ही उन्होंने वह खबर भी पोस्ट की है जिसमें लिखा गया है कि एचएएच ने अपने कर्मचारियों को वेतन देने के लिए एक हजार करोड़ रुपए उधार लिए हैं।

ग्वाटेमाला ने संयुक्त राष्ट्र समर्थित भ्रष्टाचार जांचकर्ता को देश में प्रवेश करने से रोका

Guatemala prevented UN-backed corruption investigator from entering country

ग्वाटेमाला सिटी। ग्वाटेमाला सरकार और संयुक्त राष्ट्र समर्थित भ्रष्टाचार निरोधक आयोग के बीच बढ़ते तनाव के बीच ग्वाटेमाला के अधिकारियों ने रविवार को राजधानी के हवाई अड्डे पर जांच आयोग के एक सदस्य को रोककर उन्हें देश में प्रवेश देने से मना कर दिया।

ग्वाटेमाला के आव्रजन अधिकारियों ने कोलंबियाई नागरिक यीलेन ओसोरियो को शनिवार दोपहर हवाईअड्डे पर पहुंचने पर हिरासत में ले लिया। ये कदम अदालत के उस आदेश के बावजूद उठाया गया है जिसमें अदालत ने सरकार को आदेश दिया था कि सीआईसीआईजी नामक आयोग के सदस्यों को वीजा और प्रवेश दिया जाए।

इस आयोग ने ग्वाटेमाला की सरकार के शीर्ष सदस्यों के साथ ही राष्ट्रपति जिमी मोराल्स के बेटे और उनके भाई की भी जांच की है। हालांकि उन लोगों ने भ्रष्टाचार के आरोपों से इनकार किया है। ग्वाटेमाला के अटॉर्नी जनरल ने ओसोरियो की सुरक्षा के लिए 30 से अधिक प्रतिनिधियों और सुरक्षा कर्मियों को हवाई अड्डे पर भेजा।

इस बीच, नागरिक समूहों ने हवाई अड्डे के बाहर उनको हिरासत में लिए जाने के फैसले का विरोध किया। वहां पर 100 से अधिक पुलिस कर्मी मौजूद थे। हालांकि, इस गतिरोध पर अभी तक राष्ट्रपति कार्यालय की तरफ से कोई बयान जारी नहीं किया गया है।

थाईलैंड में तूफान पाबुक का कहर, चार लोगों की मौत

Thunder storm hits Thailand, four people die

बैंकॉक। थाईलैंड में तूफान 'पाबुक’ की चपेट में आकर चार लोगों की मौत हो चुकी है। थाइलैंड के दक्षिणी इलाके के तटों पर गत शुक्रवार को आए 'पाबुक’ को दशक का सबसे भयंकर तूफान माना जा रहा है। पुलिस ने रविवार को बताया कि दक्षिणी थाइलैंड के सूरत थानी प्रांत में रविवार की सुबह एक महिला (57) का शव बरामद किया गया जो तूफान आने की संभावना के कारण गांव से निकालकर एक राहत शिविर में शरण लेने के लिए घर से निकली थी।

महिला का शव नहर में तैरता पाया गया। उसके शरीर पर किसी प्रकार के हमले या चोट के निशान नहीं पाये गये। इसके साथ ही पाबुक के कारण मरने वालों की संख्या बढकर चार हो गई है। ग्रामीणों के अनुसार उक्त महिला शनिवार को ही अपने घर से राहत शिविर में जाने के लिए मोटरसाइकिल से घर से निकली लेकिन लौटकर नहीं आयी। पुलिस का मानना है कि दुर्घटना के बाद महिला नहर में गिरी होगी। 

थाईलैंड के नखोन सी थम्मारात प्रांत में तूफान पाबुक शुक्रवार को दोपहर बाद 12.45 बजे 75 किमी प्रति घंटा की तेज हवाओं के साथ नखोन सी थम्मारात पर पहुंच गया। तूफान के मद्देनजर पहले ही लगभग 7,000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया है। आपदा रोकथाम एवं शमन विभाग के मंत्री उधोमपोर्न कान ने बताया कि सूबे में 80,000 लोगों को निकालने के प्रयास किए जा रहे हैं।तूफान से देश में पर्यटकों के साथ कुछ लोकप्रिय द्बीप प्रभावित हुए हैं तथाकई घर क्षतिग्रस्त हो चुके हैं।

तूफान की वजह से थाईलैंड के दक्षिणी तट पर भारी बारिश की आशंका है। इस दौरान बाढ और भूस्खलन का भी खतरा है। सामुई, ताओ और फान्गन पर्यटक द्बीपों तक चलने वाली नौका सेवाओं को रोक दिया गया है और स्थानीय प्रशासन बाढ़ की स्थिति को लेकर निकासी प्रक्रिया के लिए तैयार है। मछली पकड़ने वाले गांवों में भी तूफान की वजह से कामकाज रोक दिया गया है।

मैं गिर सकता हूं, लेकिन कोशिश करना बंद नहीं करूंगा: विक्की कौशल

I can fall, but I will not stop trying: Vicky koushal

मुंबई। साल 2018 में एक के बाद एक कई हिट फिल्में देने के साथ ही विक्की कौशल अपने छोटे से करियर में भले ही सबसे व्यस्त अभिनेताओं में शुमार हो गये हैं, लेकिन उनका कहना है कि सफलता और विफलता तो साथ-साथ चलती रहती है।‘‘राजी’’, ‘‘संजू’’, ‘‘मनमर्जिया’’ और नेटफ्लिक्स की ‘‘लस्ट स्टोरीज’’ और ‘‘लव पर स्क्वायर फुट’’ जैसी फिल्मों में काम कर चुके 30 वर्षीय अभिनेता ने कहा कि एक कलाकार के रूप में उनका उद्देश्य खुद के किरदार को दोहराना नहीं है। 

विक्की ने पीटीआई को बताया, ‘‘मेरा एकमात्र प्रयास दर्शकों को आश्चर्यचकित करना है। मैं उस किरदार के प्रति ईमानदार रहना चाहता हूं, जिसे मैं निभाता हूं। मैंने अभी शुरू किया है, मैं गिर सकता हूं, उठ सकता हूं, फिर गिरूंगा और फिर उठूंगा और ऐसा होता रहेगा। लेकिन मैं कोशिश करना बंद नहीं करूंगा।’’अभिनेता ने इस साल एक बहुमुखी कलाकार के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनाई और उन्हें लगता है कि उन्हें दर्शकों से काफी प्यार मिला है। विक्की अब अगली बार फिल्म ‘‘उरी: द सर्जिकल  स्ट्राइक’’ में दिखाई देंगे। यह फिल्म 11 जनवरी को रिलीज होने जा रही है।

दीपिका के साथ फिर काम करना चाहते हैं रणवीर

Ranveer wants to work with Deepika again

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता रणवीर सिंह फिर से अपनी पत्नी और अभिनेत्री दीपिका पादुकोण के साथ फिर से काम करना चाहते हैं। रणवीर ने दीपिका के साथ हाल ही में शादी की है। रणवीर और दीपिका ने साथ में गोलियों की रासालीला रामलीला, बाजीराव मस्तानी और पद्मावत जैसी फिल्मों में काम किया है। इन फिल्मों में काम करने के दौरान दोनों की नजदीकियां बढ़ी और उन्होंने शादी करने का निर्णय ले लिया लेकिन अब इन दोनों की एक साथ कोई फिल्म नहीं आ रही।

रणवीर सिंह इन दिनों फिल्म 83, गली ब्वॉय और तख्त के काम में व्यस्त हैं। वहीं दीपिका ने मेघना गुलजार की फिल्म छपाक साइन कर रखी है लेकिन दोनों एक साथ काम नहीं कर रहे हैं। रणवीर सिंह ने बताया कि वह दीपिका के साथ एक बार फिर काम करना चाहते हैं और वह चाहते हैं कि निर्माता-निर्देशक उनके पास ऐसी कहानियां लेकर आए, जिसमें एक बार फिर दोनों काम कर सके।

क्वार्टर फाइनल का टिकट पक्का करने उतरेगी नाथ एंड कंपनी

Nath and Company to set up quarter-finals

कानपुर। अक्षदीप नाथ की अगुवाई में अब तक अजेय मेजबान उत्तर प्रदेश रणजी ट्राफी एलीट ग्रुप सी क्रिकेट प्रतियोगिता में क्वार्टर फाइनल का टिकट पक्का करने के लिये असम के खिलाफ सोमवार को ग्रीनपार्क मैदान पर जोशीले अंदाज में उतरेगी। 

उत्तर प्रदेश ने अब तक खेले गये आठ मैचों में पांच में सीधी जीत अर्जित की है जबकि तीन मुकाबलों में हारजीत का फैसला नहीं हो सका। अब तक खेले गये मैचों में मेजबान टीम 38 अंक हासिल कर ग्रुप में राजस्थान के बाद दूसरे स्थान पर है वहीं आंकडों के लिहाज से असम कमजोर दिख रही है। मेहमान टीम ने अब तक खेले आठ मैचों में 20 अंक कमाये है और वह अंकतालिका में पांचवे नम्बर पर है।

नाकआउट की दौर से बाहर हो चुकी असम प्रतिष्ठा बचाने के लिये मैदान पर उतरेगी वहीं घरेलू मैदान और दर्शकों की मौजूदगी में नाथ एंड कंपनी का इरादा सीधी जीत हासिल कर मनोवैज्ञानिक बढत के साथ क्वार्टर फाइनल के लिये खुद को तैयार करना होगा।

उत्तर प्रदेश की जीत का प्लेटफार्म तैयार करने की जिम्मेदारी प्रियम गर्ग,भरकू सिंह और खुद अक्क्षदीप नाथ के कंधों पर होगी वहीं अनुभवी सुरेश रैना की मौजूदगी मेजबानो का हौसला बुलंद करने में अहम भूमिका निभायेगी। गेंदबाजी आक्रमण का दारोमदार सौरभ कुमार, अंकित राजपूत,यश दयाल और शिवम मावी के हाथों में होगा जो मैच को किसी भी मोड़ पर अपने पक्ष में करने का माद्दा रखते हैं।

प्रियम ने अब तक सात मैचों में 696 रन ठोक चुके है जिसमें एक दोहरा शतक और एक शतक शामिल है। कप्तान अक्षदीप ने 62़ 80 के औसत से तीन शतकों के साथ 628 रन अपनी टीम के लिये जोड़े है। रिंकू सिंह दो शतकीय पारियों के साथ 654 रन बना चुके है।

मेजबान टीम के सौरभ कुमार अब तक 46 विकेट चटका कर विपक्षी टीम के बल्लेबाजों में खौफ पैदा कर चुके है जिसमें 33 रन पर सात विकेट उनका इस प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है वहीं अंकित राजपूत ने 36,यश दयाल ने 21 और शिवम मावी ने अब तक 15 विकेट चटकाये हैं।

आसमान से ढके बादलों के बीच दोनो टीमों ने रविवार को नेट पर जमकर पसीना बहाया। मौसम विभाग के अनुसार सोमवार को मौसम साफ रहने का अनुमान है जिससे मैच में पूरे ओवर फेंके जाने की संभावना को बल मिला है। दोनो ही टीमें अपनी अंतिम एकादश की घोषणा मैच शुरू होने से पहले करेंगी।

तेज गेंदबाजों के भार को कम करने के लिए तीन और गेंदबाजों की जरूरत: कोहली

Need three more bowlers to reduce the weight of fast bowlers: Kohli

सिडनी। कप्तान विराट कोहली ने ऑस्ट्रेलिया में पहली बार टेस्ट श्रृंखला में जीत के बाद सोमवार को कहा कि वह टीम के मौजूदा तेज गेंदबाजों की कामकाज के भार को कम करने के लिए वह तीन और गेंदबाजों को ढूंढ रहे है। जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी, उमेश यादव, भुवनेश्वर कुमार और इशांत शर्मा की तेज गेंदबाजी इकाई को भारत का अब तक का सर्वश्रेष्ठ आक्रमण कहा जा रहा है। ऑस्ट्रेलिया से पहले तेज गेंदबाजों ने इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका में भी शानदार प्रदर्शन किया लेकिन दोनों दौरे पर बल्लेबाजों ने निराश किया।

कोहली ने मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘ इन खिलाडिय़ों का ध्यान रखना जरूरी है। खासकर उनके कामकाज के बोझ पर ध्यान देना हमारी प्राथमिकता है। इसके साथ ही हमारा ध्यान तीन और गेंदबाजों पर है जो इनकी तरह तेज और बिना थके गेंदबाजी कर सके। भारतीय कप्तान ने कहा कि टीम इस दिशा में काम कर रही है। 

कोहली ने कहा कि कुछ गेंदबाजों को अब अच्छा विश्राम चाहिए। उन्होंने इस ओर इशारा किया कि जसप्रीत बुमराह को आगामी एकदिवसीय श्रृंखला के कुछ मैचों में विश्राम दिया जा सकता है। उन्होंने कहा, ‘‘ इन खिलाडिय़ों का ख्याल रखना सबसे जरूरी है क्योंकि इनके कारण ही हम पहली बार ऑस्ट्रेलिया में पहली बार श्रृंखला जीते हैं।’

बाजार में नकद-धन की दिक्कत होने पर कदम उठाए जाएंगे: रिजर्व बैंक के गवर्नर

Steps will be taken if cash and money problems in the market: Reserve Bank Governor

नयी दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने सोमवार को कहा कि कर्ज देने के लिए बैंकों की नकद धन की आवश्यकताओं को फिलहाल पूरा किया जा चुका है और यदि अर्थव्यवस्था में तरलता की दिक्कत हुई तो केंद्रीय बैंक और कदम उठाएगा। गवर्नर दास ने राजधानी में सोमवार को छोटे एवं मझोले उपक्रमों के संघों के साथ बैठक की। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि मंगलवार को मुंबई में गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) के साथ उनकी स्थिति पर बातचीत की जाएगी। उन्होंने कहा कि बैंकों को एमएसएमई क्षेत्र के वसूली में अटके ऋणों के पुनर्गठन के व्यक्तिगत प्रस्तावों पर गौर करते समय संबंधित इकाई के कारोबार की मजबूती को ध्यान में रखने को कहा गया है।

दास ने तरलता पर कहा, ‘‘हम लगातार इसकी निगरानी कर रहे हैं। हमारा मानना है कि कुल मिला कर तरलता (धन) की जरूरतें पूरी हो रही है। उन्होंने कहा कि यदि तरलता की दिक्कतें हुई तो रिजर्व बैंक कदम उठाएगा। उन्होंने पर्याप्त तरलता बनाये रखने की प्रतिबद्धता जताते हुए कहा कि बाजार की जरूरतों के हिसाब से ही तरलता की मात्रा बढ़ायी जाएगी। एमएसएमई के साथ बैठक के बारे में दास ने कहा कि बैंकों को ऋण के पुनर्गठन से पहले एमएसएमई की वहनीयता परखने के लिये कहा गया है।

155 अंक की बढ़त के साथ बंद हुआ सेंसेक्स

Sensex closes with rise of 155 points

मुंबई। सप्ताह के पहले दिन आज सुबह शेयर बाजार बढ़त के साथ हरे निशान पर खुला, कारोबार की समाप्ति पर भी बाजार में बढ़त देखने को मिली और ये हरे निशान पर बंद हुआ। बढ़त के इस माहौल में कारोबार की समाप्ति पर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( बीएसई ) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 155.06 अंक यानि 0.43 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 35,850.16 के स्तर पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के पचास शेयरों वाले निफ्टी में कारोबार की समाप्ति पर बढ़त देखने को मिली और ये 44.45 अंक यानि 0.41 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 10,771.80 के स्तर पर बंद हुआ।

गौरतलब है कि पिछले सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन शुक्रवार को शेयर बाजार में कारोबार की शुरूआत गिरावट के साथ लाल निशान पर हुई और कारोबार की समाप्ति पर ये बढ़त के साथ हरे निशान पर बंद हुआ। कारोबार की शुरूआत में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( बीएसई ) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 47.71 अंक यानि 0.13 प्रतिशत की गिरावट के साथ 35,466.00 के स्तर पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर ये 181.39 अंक यानि 0.51 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 35,695.10 के स्तर पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ( एनएसई ) का पचास शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी कारोबार की शुरूआत में 17.55 अंक यानि 0.16 प्रतिशत की गिरावट के साथ 10,654.70 के स्तर पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर ये 55.10 अंक यानि 0.52 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 10,727.35 के स्तर पर बंद हुआ।    



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.