09 जुलाई: एक क्लिक में पढ़ें 10 बड़ी खबरें

Samachar Jagat | Monday, 09 Jul 2018 04:27:23 PM
09 july latest top ten news

अपने कुकर्म छुपाने के लिए धर्म का सहारा लेती है BJP: आप

BJP uses religion to hide its misdeeds: AAP

लखनऊ। आम आदमी पार्टी (आप) ने सोमवार को केन्द्र में सत्तारूढ़ बीजेपी पर अपने कुकर्मों को छुपाने के लिये धर्म का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया। आप के राष्ट्रीय प्रवक्ता संजय सिंह ने यहां प्रेस कांफ्रेंस में बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि दुनिया में बुराइयों को खत्म करने के लिए धर्म आया था, लेकिन बीजेपी ने अपनी बुराइयों और कुकर्मों को छुपाने के लिए मजहब का इस्तेमाल किया। उन्होंने कहा कि अपने हर अपराध और गुनाह को छुपाने के लिए बीजेपी, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ धर्म का बेजा इस्तेमाल करते हैं। कभी गाय का, कभी मंदिर का, कभी लव जिहाद तो कभी कुछ लेकर आते हैं। सिंह ने कहा कि असली हिन्दुस्तान देखना है तो हमें गांवों में जाना होगा।

वाराणसी से बलिया तक की पदयात्रा के दौरान गांवों की बदहाली देखने को मिली। प्रधानमंत्री मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के विकास के दावे धरातल पर झूठे साबित हो रहे हैं। मऊ के मोहम्मदाबाद से बलिया के बरौली के बीच 40 किलोमीटर की सडक़ में सिर्फ गड्ढे ही गड्ढे हैं। योगीराज में गड्ढों का विकास हुआ है और विकास को गड्ढे में डालने का काम किया गया है। आप के राज्यसभा सदस्य ने बताया कि मुठभेड़ में अपराधियों के मारे जाने को लेकर योगी सरकार भले ही अपनी पीठ थपथपा रही हो, लेकिन सचाई यह है कि उत्तर प्रदेश अपराधियों की ऐशगाह बनता जा रहा है।

अखबारों में आए दिन लूट, हत्या और बलात्कार की खबरें आती हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षामित्र, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और संविदाकॢमयों को नौकरी देने का भरोसा देकर चुनाव जीतने वाली बीजेपी अब हक मांगने पर उन पर बर्बर लाठीचार्ज करा रही है। आप प्रवक्ता ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने 4 वर्ष पहले वाराणसी से चुनाव लडऩे के दौरान कहा था कि उन्हें गंगा मैया ने बुलाया है। उनकी सरकार ने अपने अब तक के कार्यकाल में गंगा की सफाई पर 3600 करोड़ रुपए कागजों पर खर्च किए। इसी वजह से गंगा आज भी मैली ही है। उन्होंने सरकारी कर्मियों की पुरानी पेंशन की बहाली की मांग करते हुए कहा कि जब 40 दिन तक सांसद या विधायक रहने वाला कोई व्यक्ति आजीवन पेंशन का हकदार बन सकता है तो 40 वर्ष तक सेवा करने वाले कर्मचारी को पेंशन से महरूम क्यों कर दिया गया। आप की मांग है कि सरकारी कर्मियों की पेंशन बहाल हो।

पूर्व प्रधानमंत्री नवाज और उसकी बेटी मरियम पाकिस्तान लौटेंगे

Former Prime Minister Nawaz and his daughter Mary will return to Pakistan

इस्लामाबाद । पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ तथा उनकी बेटी मरियम नवाज ने सभी अटकलों को खारिज करते हुए पाकिस्तान लौटने का फैसला किया है। पाकिस्तानी अखबार की रिपोर्ट के अनुसार शरीफ और उनकी बेटी के स्वदेश लौटने की खबर की पुष्टि की है। मरियम ने लंदन में रविवार को पत्रकारों से कहा कि उनके पिता शरीफ और वह 13 जुलाई को लाहौर आ सकती हैं। इससे पहले दोनों लंदन से इस्लामाबाद आने वाले थे। उन्होंने कहा कि लोग सजा से बचने के लिए देश से भागते हैं लेकिन हम लोग इसका सामना करने के लिए वापस आ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि शरीफ ने अपनी गिरफ्तारी देने की बात कहकर एक मिसाल कायम की है। उनकी कुर्बानियां बेकार नहीं जाने वाली है। इसका फायदा आने वाले पीढिय़ों को मिलेगा। मरियम ने कहा कि‘वोट को इज्जत दो’आंदोलन अपने आखिरी पड़ाव पर है क्योंकि 25 जुलाई को मतदान है। उन्होंने पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ का नाम लिए बिना कहा कि पूरा देश उनके साथ है। क्योंकि उनके पिता ने स्वदेश वापस आने का निर्णय लिया है लेकिन लोग पीठ में दर्द का बहाना बनाकर देश से भाग जाते हैं। अखबार की रिपोर्ट के अनुसार राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो ने कहा कि शरीफ तथा उनकी बेटी के स्वदेश लौटते ही उन्हें गिरफ्तार करने सम्बंधी सारी औपचारिकताएं पूरी कर ली है।

 उल्लेख है कि आय से अधिक संपत्ति के मामले में शरीफ के दामाद कैप्टन (सेवानिवृत्त) मोहम्मद सफदर, उनकी पत्नी मरियम और शरीफ को शुक्रवार को जेल की सजा दी गई थी। इस्लामाबाद जवाबदेही अदालत ने 68 वर्षीय शरीफ को उनकी गैर मौजूदगी में आय से अधिक संपत्ति के मामले में 10 साल जेल में रहना होगा। कैप्टन सफदर को रविवार को गिरफ्तार कर लिया गया। जब वह पनामा पेपर मामले से जुड़े भ्रष्टाचार के एक मामले में दोषसिद्धि के दो दिन बाद अपने समर्थकों की रैली का नेतृत्व करने के लिए नाटकीय रूप से रावलपिडी में नजर आए। 

पीड़ित महिला का दर्द : शौहर ने तलाक देकर घर से निकाला, ससुर के बाद देवर से हलाला की रखी शर्त

The Pain of Suffering Woman: After father-in-law in brother-in-law of halala

बरेली, (उ.प्र.)। बरेली में तीन तलाक और हलाला का चौंकाने वाला एक कथित मामला सामने आया है। एक शख्स पर उसकी बीवी ने पहले तलाक देकर घर से निकालने और फिर से साथ रखने के लिए अपने ही ससुर के साथ 'हलाला’ कराने और दोबारा तलाक देने के बाद अब देवर से हलाला कराने की जिद करने का आरोप लगाया है।

बरेली शहर के बानखाना निवासी शबीना ने कल आला हजरत हेल्पिंग सोसायटी की अध्यक्ष निदा खान के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में बताया कि उसकी शादी गढ़ी-चैकी के रहने वाले वसीम से वर्ष 2009 में हुई थी। उसका आरोप है कि दो साल बाद शौहर ने उसे तलाक देकर घर से निकाल दिया। बाद में उसी साल वसीम ने अपने पिता के साथ उसका हलाला कराया। उसके बाद वह फिर वसीम के साथ रहने लगी, मगर लड़ाई-झगड़े खत्म नहीं हुए।

शबीना का आरोप है कि वर्ष 2017 में उसके शौहर ने उसे फिर तलाक दे दिया। अब वह अपने भाई के साथ हलाला करने की शर्त रख रहा है। शबीना ने ऐसा करने से इन्कार कर दिया है और अब वह तीन तलाक, हलाला और बहुविवाह पर सख्त कानून चाहती हैं ताकि औरतें इस जुल्म से बच सकें। अपने ही ससुर के साथ हलाला करने के बारे में पूछे गये एक सवाल पर शबीना ने कहा कि उनके पास इसके सिवा और कोई रास्ता नहीं था। वह तो बस अपना उजड़ा घर बसाना चाहती थी।

इस बीच, मुफ्ती खुर्शीद आलम ने बताया कि सबसे पहले तो यह देखना होगा कि ससुर के साथ हलाला कैसे हुआ? अगर ऐसा हुआ तो बड़ा गुनाह है। दूसरी बात, ससुर से हलाला होने पर बहू अपने पहले शौहर पर हराम हो गयी। वह दोबारा अपने पहले शौहर के साथ नहीं रह सकती। आला हजरत हेल्पिंग सोसायटी की अध्यक्ष निदा खान ने इस मौके पर कहा कि औरतों को तीन तलाक, हलाला और बहुविवाह का दंश देने वाले मर्द शरीयत के नाम का खुलकर गलत इस्तेमाल कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि सही फैसलों के लिए जरूरी है कि शरई अदालतों (दारुल क़ज़ा) में औरतों को भी काजी बनाने की व्यवस्था की जाए। उन्होंने कहा कि वह नहीं मानती कि इस्लामी कानून ऐसा है जिसके तहत एकतरफा फैसले दिए जाते हों। इस्लाम में औरतों के अधिकारों के लिये जो व्यवस्थाएं हैं, उन्हें अक्सर छुपाया जाता है ताकि उन्हें इंसाफ ना मिले।

निदा ने कहा कि शौहर के जुल्म से बेघर हुईं औरतें अब कानून का सहारा चाहती हैं। ऐसा सख्त कानून, जो उनका घर उजड़ने से बचाए। साथ ही उन्हें पूरी सुरक्षा भी दे सके। उन्होंने कहा कि तीन तलाक पर अभी कानून संसद में पारित नहीं हुआ है। सरकार को चाहिए कि इसमें हलाला और बहु-विवाह को भी शामिल करे। इससे लाखों औरतों की जिन्दगी नर्क बनने से बच जाएगी।

निर्भया कांड के दोषियों की फांसी की सजा बरकरार, सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया फैसला

Nirbhaya gang rape case latest news

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने 2012 के निर्भया सामूहिक बलात्कार मामले में 3 दोषियों की फांसी की सजा को उम्रकैद में बदलने की गुहार सोमवार को ठुकरा दी। मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली 3 सदस्यीय पीठ ने इस मामले में फांसी की सजा को उम्रकैद में बदलने की पवन, विनय और मुकेश की पुनर्विचार याचिका को खारिज कर दिया। न्यायालय ने तीनों की पुनर्विचार याचिका पर 4 मई को सुनवाई कर फैसला सुरक्षित रखा था।

-दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा दी गई फांसी की सजा बरकरार

इस मामले के एक अन्य दोषी अक्षय ने पुनर्विचार याचिका दाखिल नहीं की थी। पीठ के अन्य सदस्य आर भानुमति और अशोक भूषण थे। गत वर्ष 5 मई को दिए फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने निर्भया सामूहिक बलात्कार के चारों दोषियों मुकेश,विनय, अक्षय और पवन को दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा दी गई फांसी की सजा को बरकरार रखा था। 

16 दिसम्बर 2012 को दक्षिणी दिल्ली के मुनिरका में हुआ था गैंगरेप

गौरतलब है कि 16 दिसम्बर 2012 को दक्षिणी दिल्ली के मुनिरका से निर्भया मित्र के साथ एक निजी बस में सवार हुई तो उसके साथ बस चालक एवं उसके सहयोगियों ने सामूहिक बलात्कार और क्रूरता की थी। बाद में निर्भया की मौत हो गई थी। दोषियों की पुनर्विचार याचिका पर फैसला सुनाए जाने के दौरान निर्भया के परिजन भी न्यायालय कक्ष में मौजूद थे।

'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' में डॉक्टर हंसराज हाथी का किरदार निभाने वाले अभिनेता कवि कुमार आजाद का निधन

Actor Kavi Kumar Azad dies in the role of doctor Hansraj Hathi in Taraka Mehta's Ulta Chashma

एंटरटेनमेंट डेस्क। जाना माना कॉमेडी सीरियल तारक मेहता का उल्टा चश्मा में डॉक्टर हंसराज हाथी का किरदार निभाने वाले अभिनेता कवि कुमार आजाद का निधन हो गया हैं। अभिनेता कवि कुमार आजाद का निधन हार्ट हटैक से हुई हैं। कवि कुमार के अचानक निधन से टीवी इंडस्ट्री को बड़ा झटका लगा हैं। ये खबर सुनते ही सोशल मीडिया पर फैंस द्दारा श्रध्दांजलि दी गई हैं।

खबरों के मुताबिक कवि कुमार की तबियत ठीक नहीं थी जिसकी वजह से वे कुछ दिनों से शूटिंग पर नहीं जा रहे थे। खबरों के मुताबिक कवि कुमार आजाद को ज्यादा तबियत खराब होने पर महाराष्ट्र के मीरा रोड स्थित वोकहार्ड हॉस्पिटल में एडमिट करवाया गया था। जहां कुछ घंटो पहले ही उन्होंने अंतिम सांस ली हैं। बताते चलें कि कॉमेडी शो तारक मेहता का उल्टा चश्मा में कवि कुमार को काफी पसंद किया जाता था। इस शो से ही वे लाखो, करोड़ो लोगों के चहेते बन गए थे।

कवि आजाद को डॉक्टर हंसराज के कैरेटर से हर उम्र के लोगों का प्यार मिला हैं। अपने कैरेटर और कॉमेडी के चलते हंसराज ने भारत के हर घर में जगह बनाने में कामयाब रहे हैं। बताते चलें कि टीवी के इस चर्चित शो को 10 साल पूरे होने वाले हैं। अभिनेता कवि कुमार आजाद ने ना सिर्फ छोटे पर्दे पर काम किया है बल्कि उन्होंने बड़े कलाकारों के साथ भी काम किया हैं। इस लिस्ट में आमिर खान के साथ मेला और परेश रावल के साथ फंटूश जैसी फिल्में शामिल हैं। 

अभिनेत्री सयांतिका बनर्जी को धमकाने पर टीवी अभिनेता जॉय मुखर्जी गिरफ्तार

ctor Joy Mukherjee arrested for threatening actress Sayantika Banerjee

कोलकाता। बीच सड़क पर एक अभिनेत्री की कार रोककर उसे कथित रुप से धमकी देने को लेकर एक टीवी अभिनेता को गिरफ्तार किया गया है। यह जानकारी पुलिस के द्दारा सामने आई हैं। जॉय मुखर्जी नाम से लोकप्रिय टीवी अभिनेता संजय मुखर्जी को टॉलीगंज थानाक्षेत्र से पुलिस ने गिरफ्तार किया।

अभिनेत्री सयांतिका बनर्जी ने शिकायत दर्ज कराई थी कि जॉय मुखर्जी ने उन्हें धमकी दी और बीच सड़क पर उनकी कार रोकी। सयांतिका के अनुसार शुक्रवार दोपहर जब वह साउदर्न एवेन्यू जा रही थीं तब जॉय ने उनकी कार को ओवरेटक किया और उनका रास्ता रोक दिया।

जॉय अपनी गाड़ी से उतरकर उनकी कार के पास आए और उन्होंने जबर्दस्त उनकी कार का दरवाजा खोलने का प्रयास किया। उन्होंने दरवाजे के हैंडल को नुकसान पहुंचाया। जब उनका ड्राइवर जॉय को समझाने बुझाने के लिए कार से बाहर निकला तो उन्होंने उसे मारा। आसपास से गुजर रहे लोगों के हस्तक्षेप से मामला शांत हुआ। ये दोनों अभिनेता - अभिनेत्री 'टारगेट' और ' शूटर' जैसी फिल्मों में साथ काम कर चुके हैं।

बता दें कि सेलिब्रिटी के साथ ये घटनाएं अब आम होती जा रही हैं। हाल ही में टीवी और बॉलीवुड जगत की मशहूर एक्टर अरमान कोहली का मामला सामने आया था। बिग बॉस के एक्स कंटेस्टेंट के ऊपर उनकी गर्लफैंड नीरू रंधावा ने मारपीट का मामला दर्ज कराया था। जिसके बाद से ही अरमान कोहली की तलाश पुलिस को थी। मामलें में कुछ दिनों बाद ही मुंबई पुलिस ने अरमान को अपनी गिरफ्त में ले लिया था। 

20-30 रन और बना लेते तो मैच का परिणाम बदल जाता: मोर्गन

If 20-30 runs were scored and the result of the match changed: Morgan

ब्रिस्टल।  इंग्लैंड के कप्तान इयोन मोर्गन का मानना है कि भारत के खिलाफ तीसरे और निर्णायक टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच में हार के दौरान उनकी टीम ने 20 से 30 रन कम बनाए थे। साथ ही उन्होंने डेथ ओवरों में बल्लेबाजी क्रम के ध्वस्त होने को जिम्मेदार ठहराया। रोहित शर्मा ने अपना तीसरा टी-20 अंतरराष्ट्रीय शतक जड़ा। इसमें भारत ने 199 रन के लक्ष्य को सात विकेट शेष रहते हासिल करके तीन मैचों की श्रृंखला 2-1 से जीत ली। मोर्गन ने मैच के बाद प्रेस कांफ्रेस में कहा था कि हमने संभवत: 20 से 30 रन कम बनाए। 225 या 235 रन इस मैदान पर मुश्किल लक्ष्य होता।

भारत कभी हमारी पकड़ से दूर नहीं था लेकिन हम विकेट हासिल करने में जूझते रहे। उन्होंने कहा कि उन्होंने रन गति बनाए रखी और फिर 16 वें या 17 वें ओवर में वे इस स्थिति में थे कि मैच हमारी पकड़ से दूर कर सकें जो निराशाजनक था। लेकिन जेसन राय और जोस बटलर ने शानदार शुरुआत दिलाई और हमें लगभग 220 रन के स्कोर के बारे में सोचने का मौका दिया।

इंग्लैंड ने बीच के ओवरों में 46 रन पर विकेट गंवाए। इससे टीम की लय टूटी और डेथ ओवरों में भी टीम ने 14 गेंद के भीतर पांच विकेट गंवाए।  भारत के लिए बल्ले से रोहित ने कमाल किया जबकि आलराउंडर हार्दिक पंड्या ने 38 रन पर चार विकेट चटककर भारत को गेंदबाजी में वापसी दिलाई।

मोर्गन ने कहा कि पंड्या ने चीजों को सामान्य रखा। उसने अच्छी लेंथ के साथ गेंदबाजी की और हम बड़े शाट नहीं खेल पाए। अच्छे विकेट और छोटे मैदान पर हमें इससे बेहतर करना चाहिए था। आज संभवत: भारत ने अपना शीर्ष खेल दिखाया और हमने नहीं। उन्होंने कहा है कि हमने कम रन बनाए। पारी के अंत में 20 से 30 रन कम बनाने का खामियाजा हमें भुगतना पड़ा।

भारत की जीत में रोहित और कप्तान विराट कोहली के बीच तीसरे विकेट की 89 रन की साझेदारी की भी अहम भूमिका रही है। मोर्गन ने कहा कि इस श्रृंखला से टीम को काफी चीजें सीखने को मिली। इसका फायदा उन्हें 12 जुलाई से शुरू हो रही तीन मैचों की एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय श्रृंखला के दौरान मिलेगा।

सिंधू और श्रीकांत की नजरें थाईलैंड ओपन खिताब जीतने पर

Sindhu and Srikanth eyes on winning Thailand Open title

बैंकाक। इंडिया के शीर्ष बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधू और किदांबी श्रीकांत मंगलवार से शुरू हो रहे 350,000 डालर इनामी राशि वाले बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर सुपर 500 टूर्नामेंट इंडोनेशिया ओपन में शानदार प्रदर्शन जारी रखकर सत्र का पहला खिताब जीतना चाहेंगे। ओलंपिक रजत पदक विजेता सिंधू और पूर्व विश्व नंबर एक श्रीकांत पिछले सत्र में शानदार फार्म में थे और कई टूर्नामेंट जीतने में सफल रहे लेकिन मौजूदा सत्र में निरंतर प्रदर्शन के बाद भी दोनों कोई बड़ा टूर्नामेंट नहीं जीत सके हैं।

सिंधू इंडियन ओपन और राष्ट्रमंडल खेलों में उपविजेता रही थी। श्रीकांत ने भी गोल्डकोस्ट (राष्ट्रमंडल खेलों) में एकल में रजत हासिल किया था। मिश्रित टीम स्पर्धा में मलेशियाई दिग्गज ली चोंग वेई पर उनकी जीत के कारण भारत को स्वर्ण मिला था। बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर के दक्षिण पूर्व एशिया चरण की पहली दो स्पर्धाओं में लय में होने के बाद भी भारतीय खिलाड़ी खिताब नहीं जीत सके।

सिंधू पिछले दो सप्ताह में क्रमश : सेमीफाइल और क्वार्टर फाइनल में पहुंचने में सफल रहीं तो वहीं दोनों टूर्नामेंट में श्रीकांत  के सफर को जापान के केंतो मोमोता ने क्रमश : सेमीफाइनल और पहले दौर में खत्म किया। सिंधू इस सप्ताह बुल्गारिया की लिंडा जेटचिरि के खिलाफ अपने सफर की शुरूआत करगी जबकि पुरूष एकल में श्रीकांत का सामना क्वालीफायर खिलाड़ी से होगा।

राष्ट्रमंडल खेलों में अपना दूसरा स्वर्ण जीतने वाली साइना नेहवाल थाईलैंड की बुसनान ओंगबुरूंगपान से पहले दौर में भिड़ेंगी। टखने की चोट से उबर कर एचएस प्रणय ने दो बार के ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता लिन डैन को पिछले सप्ताह हराकर चौंकाया था। क्वार्टरफाइनल में हालांकि वे ऑल इंग्लैंड चैम्पियन शी युकी से हार गए थे।

प्रणय गत सत्र में 2 टूर्नामेंटों के सेमीफाइनल में पहुंचे थे और यूएस ओपन जीतने में कामयाब रहे थे। इस टूर्नामेंट के पहले दौर में उनका सामना स्पेन के पाब्लो अबियान से होगा। अबियान ने कल ही व्हाइट नाइट्स टूर्नामेंट का खिताब जीता है। स्विस ओपन के विजेता समीर वर्मा भी टूर्नामेंट में अपनी छाप छोडऩा चाहेंगे जिनका पहले दौर में सामना स्थानीय खिलाड़ी तनोंगसाक सेनसोमबूनसुक से होगा।

पैर में चोट के कारण कोर्ट से दूर रहे 2014 राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता पारूपल्ली कश्यप पहले दौर में चीन के शीर्ष वरीय शी युकी से भिड़ेंगे। विश्व रैंकिंग में 53 वें स्थान पर काबिज वैष्णवी जाक्का रेड्डी पहले दौर में जापान की आठवीं वरीयता प्राप्त सयाका सातो के खिलाफ खेलेंगी।

वैष्णवी की दादी सौजन्य जाक्का रेड्डी ने उन्हें एशियाई खेलों की टीम में जगह नहीं देने पर राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद और बीएआई के खिलाफ दिल्ली उच्च न्यायालय में याचिका दायर की है। पुरुष युगल में राष्ट्रमंडल खेलों के रजत पदक विजेता सात्विकसाइराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी के अलावा राष्ट्रीय चैंपियन मनु अत्री और बी सुमित रेड्डी की जोड़ी चुनौती पेश करेगी।

इनके अलावा तेजी से उभरती अर्जुन एमआर और रामचंद्रन श्लोक की जोड़ी और कोना तरुण और सौरभ शर्मा की नई जोड़ी भी टूर्नामेंट में किस्मत आजमाएगी। मेघना जक्कामपुदि और पूर्विशा एस राम की जोड़ी महिला युगल में चुनौती पेश करेगी। इनके अलावा संयोगिता घोरपड़े और प्राजक्ता सावंत की जोड़ी भी यहां कोर्ट में उतरेगी। मिश्रित युगल में अश्विनी पोनप्पा और सात्विकसाइराज की जोड़ी भारत की अगुवाई करेगी। 

होटल, रेस्तरांओं के लिए मिला-जुला रहा जीएसटी का पहला साल, दरें तर्कसंगत बनाने की जरूरत

The first year of GST mixed for hotels, restaurants, the need to rationalize rates

मुंबई। होटल और रेस्तरां क्षेत्र के लिए जीएसटी का पहला साल मिला जुला रहा है। इस क्षेत्र की कंपनियां चाहती हैं कि इस कर ढांचे को अभी और तर्कसंगत बनाने की जरूरत है। माल एवं सेवा कर (जीएसटी) को लागू हुये एक जुलाई को एक साल पूरा हो गया। फेडरेशन आफ होटल एंड रेस्तरां एसोसिएशन आफ इंडिया (एफएचआरएआई) के अध्यक्ष गरीश ओबराय ने कहा कि जीएसटी के शुरुआती दिन काफी असमंजस वाले रहे।

ओबराय ने कहा, ''होटल एवं आतिथ्य क्षेत्र मानकर चल रहा था कि उसे एक कर स्लैब में रखा जाएगा, लेकिन हमने पाया कि हमें शून्य से 28 प्रतिशत तक सभी स्लैब में रखा गया।" उन्होंने कहा कि अभी यह कहना जल्दबाजी होगा कि जीएसटी का क्षेत्र पर क्या प्रभाव पड़ा। अभी हम जीएसटी व्यवस्था के तर्कसंगत होने का इंतजार करेंगे।

उन्होंने कहा कि कुल मिलाकर क्षेत्र पर जीएसटी का शुरुआती प्रभाव मिला जुला रहा। ओबराय ने दावा किया कि जीएसटी के क्रियान्वयन के बाद उद्योग को कुछ अंतरराष्ट्रीय उच्चस्तरीय बैठकें, प्रोत्साहन, सम्मेलन और कार्यक्रम (एमआईसीई) कारोबार गंवाना पड़ा। उन्होंने कहा कि दुनिया में कहीं भी आप 28 प्रतिशत कराधान दर नहीं देखेंगे। जब तक यह प्रणाली व्यवस्थित हुई ये कारोबार दुनिया में अन्य गंतव्यों पर चले गए।

उन्होंने कहा कि रेस्तरां उद्योग के लिए कर दर को घटाकर पांच प्रतिशत पर लाना सकारात्मक रहा, लेकिन इस दर पर इनपुट क्रेडिट नहीं मिलने की वजह से महानगरों में क ई रेस्तरां प्रभावित हुए हैं। होटल एंड रेस्तरां एसोसिएशन आफ वेस्टर्न इंडिया के अध्यक्ष दिलीप दतवानी ने कहा कि कई ऐसी चीजें थीं जिनकी वजह से अनिश्चितता थी, हालांकि जीएसटी परिषद ने समय के साथ उन चीजों को स्पष्ट किया। 

हालांकि, 28 प्रतिशत की ऊंची दर चिंता का विषय है। दतवानी ने कहा कि पर्यटक हमारे पड़ोसी देशों श्रीलंका, भूटान और यहां तक कि थाइलैंड जाना पसंद कर रहे हैं क्योंकि वहां दरें कम हैं। उन्होंने कहा कि बैठकों, सम्मेलनों और कार्यक्रमों के मामले में जो एक बड़ा मुद्दा है वह इस मामले में कारपोरेट क्षेत्र को इनपुट टैक्स क्रेडिट नहीं मिलना है।

दक्षिण एशिया रेडिसन होटल समूह के मुख्य कार्यकारी अधिकारी राज राणा ने कहा, ''होटल उद्योग के मामले में हमें उम्मीद है कि वर्तमान में जो तीन दरों में जो कर लग रहा है वह एक भसगल ब्रेकिट में पहुंचेगा।"

277 अंक की बढ़त के साथ बंद हुआ सेंसेक्स

Sensex closes 277 points up

मुंबई। घरेलू शेयर बाजार में आज सप्ताह के पहले दिन कारोबार की शुरुआत बढ़त के साथ हरे निशान पर हुई और पूरे दिन के कारोबार के दौरान अंत में घरेलू शेयर बाजार बढ़त के साथ ही बंद हुआ। बढ़त के इस माहौल में कारोबार की समाप्ति पर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स बढ़त बनाते हुए 276.86 अंक यानि 0.78 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 35,934.72 के स्तर पर बंद हुआ। सेंसेक्स की तरह ही नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के पचास शेयरों वाले निफ्टी पर भी कारोबार की समाप्ति पर बढ़त का असर देखने को मिला और ये हरे निशान पर पहुंचकर 80.25 अंक यानि 0.74 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 10,852.90 के स्तर पर बंद हुआ।

गौरतलब है कि पिछले सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन शुक्रवार को  घरेलू शेयर बाजार में कारोबार की शुरुआत बढ़त के साथ हरे निशान पर हुई है। पूरे दिन के कारोबार के दौरान घरेलू शेयर बाजार बढ़त के साथ ही बंद हुआ। काराबोर की शुरुआत में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( बीएसई ) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 93.52 अंक यानि 0.26 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 35,668.07 के स्तर पर खुला और काराबोर की समाप्ति पर ये 83.31 अंक यानि 0.23 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 35,657.86 के स्तर पर बंद हुआ।

वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ( एनएसई ) का पचास शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी भी काराबोर की शुरुआत में 23.35 अंक यानि 0.22 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 10,773.10 के स्तर पर खुला। सेंसेक्स की तरह निफ्टी पर भी कारोबार की समाप्ति पर बढ़त कायम रखता हुआ हरे निशान पर पहुंचकर 22.90 अंक यानि 0.21 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 10,772.65 के स्तर पर बंद हुआ।



 
loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.