मान्य वर्ग के गरीबों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान शिक्षण संस्थानों में इसी साल से: मोदी

Samachar Jagat | Thursday, 17 Jan 2019 06:26:10 PM
10 percent reservation for poor people of recognized class from same year in educational institutions: Modi

अहमदाबाद। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि सामान्य वर्ग के गरीबों के लिए सरकारी नौकरी और शिक्षण संस्थानों में 10 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था को देश के 900 से अधिक विश्वविद्यालयों और 40 हजार से अधिक सरकारी और निजी कॉलेजों में इस साल के शिक्षण सत्र से ही लागू करने के लिए जल्द ही जरूरी आदेश जारी कर दिये जाएंगे।

मोदी ने गुरुवार को यहां 750 करोड़ रुपए की लागत से अहमदाबाद महानगरपालिका की ओर से तैयार अत्याधुनिक 17 मंजिले अस्पताल सरदार वल्लभभाई पटेल इंस्टीच्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च के लोकार्पण कार्यक्रम में कहा कि जाति वर्ग संप्रदाय आदि से ऊपर उठते हुए सामान्य गरीबों को आरक्षण देने की मांग दशकों से उठती थी पर राजनीतिक इच्छा शक्ति के अभाव में ऐलान नहीं किया जा रहा था।

उनकी एनडीए की सरकार ने ऐसा किया और यह ऐसी व्यवस्था है कि जिसमें बाकी किसी भी वर्ग के हक को छेड़े बगैर यह सुविधा दी गई है। इससे सामाजिक समरसता के नये द्बार खुलेंगे। शिक्षण संस्थानों में दस प्रतिशत सीटें भी बढ़ा दी जायेंगी। गुजरात सरकार इस कानून को सबसे पहले लागू करने के लिये बधाई की पात्र है।

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार हर क्षेत्र अवसरों की समानता उपलब्ध कराने के प्रति प्रतिबद्ध है ताकि कोई भी अवसरों की कमी के चलते पीछे न रहे। देश का कोई कोना विकास की दौड़ में पीछे न छूटे। यह उनकी सरकार का सबका साथ सबका विकास तथा नए भारत के निर्माण का रास्ता है। 

नई पीढी उपयुक्त अवसर मिले। आयुष्मान भारत योजना के तहत प्रति दिन औसतन 10 हजार गरीब लोगों का मुफ्त इलाज हो रहा है। देश में अब तक जेनरिक दवाओं के केंद्र खुलने और इलाज के उपकरणों के सस्ते होने से भी आम लोगों की करोड़ो रुपए की बचत हुई है। सरकार ने मेडिकल की सीटों में भी खासा इजाफा किया है। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.