12 मई : बस एक क्लिक में पढ़िए, दिनभर की 10 बड़ी खबरें

Samachar Jagat | Sunday, 12 May 2019 03:59:44 PM
12 May top 10 news

वोट देने के बाद प्रधानमंत्री मोदी पर जमकर बरसे राहुल-प्रियंका, कहीं ये बातें

After voting, PM-Modi rubbishes Rahul-Priyanka, these things somewhere

Rawat Public School

नई दिल्ली। देश में लोसकभा के छठवें चरण का मतदान रविवार को हो रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी ने वोट डालने के बाद प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा। राहुल गांधी ने दिल्ली के औरगंजेब लेन इलाके में वोट डाला। वोट डालने के बाद राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस बेरोजगारी, किसान और भ्रष्टाचार, नोटबंदी और जीएसटी के मुद्दे पर चुनाव लड़ रही है। नरेंद्र मोदी ने नफरत का इस्तेमाल किया जबकि हमने प्यार का। मुझे पूरा भरोसा है कि प्यार जीतेगा।

तो वहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने लोधी एस्टेट के सरदार पटेल विद्यालय में ​पति रॉबर्ट वाड्रा के साथ जाकर वोट डाला। मतदान देने के बाद प्रियंका गांधी ने पीएम मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि ये बहुत महत्वपूर्ण चुनाव है क्योंकि हम लोकतंत्र को बचाने के लिए लड़ रहे हैं। देश के लिए लड़ रहे हैं। इसी को ध्यान में रखकर मैंने वोट डाला है।

कांग्रेस महासचिव ने कहा कि यह एकदम साफ है कि लोसकभा चुनावों में भाजपा हार रही है। क्योंकि लोग आक्रोशित एंव व्यथित हैं और वे मतदान के जरिए अपनी भावनाएं व्यक्त करेंगे। अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने के बाद मीडिया से उन्होंने कहा कि यह बहुत साफ है कि बीजेपी सरकार जा रही है।

प्रियंका गांधी ने कहा कि लोगों के अंदर गुस्सा है और वह परेशान हैं। मोदी जी उनके मुद्दों पर बात करने की बजाए इधर-उधर की बात कर रहे हैं। अब, लोग मतदान के जरिए इस सरकार के खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर करेंगे।' उन्होंने कहा कि ऐसा खास कर उत्तर प्रदेश में देखने को मिलेगा।

भ्रष्टाचारी जेल जाने के डर से एकजुट होकर चुनाव मैदान में उतरे: योगी आदित्यानाथ

Fearing fear of going to jail, corrupted: yogi adityanath

वाराणसी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को वाराणसी लोकसभा में चुनावी रैली को संबोधित किया। इस दौरान योगी आदित्यनाथ ने महागठबंधन और ​विपक्ष पर जमकर हमला बोला। विपक्ष पर निशाना साधते हुए योगी ​आदित्यनाथ ने कहा कि 'भ्रष्टाचारी’ जेल जाने के डर से एकजुट होकर चुनाव मैदान में उतरे हैं, लेकिन जनता तय कर चुकी है कि उन्हें ईमानदार प्रधानमंत्री चाहिए।

महागठबंधन को लेकर योगी आदित्यनाथ ने कहा कि  बहुजन समाज पार्टी एवं समाजवादी पार्टी  गठबंधन और कांग्रेस का एक ही एजेंडा है कि कैसे श्री मोदी को हराया जाए, पर सच्चाई यह है कि जनता उन्हें श्री मोदी को बतौर गुजरात मुख्यमंत्री करीब 15 साल और प्रधानमंत्री के तौर पर पांच वर्षों से देख रही है। अपने कार्यकाल में उन्होंने किस तरह से भ्रष्टाचार पर प्रहार करते हुए 'सब का साथ, सबका विकास’ की नीति पर देश को आगे बढ़ाया। पांच वर्षों में देश की जनता उनसे बेहद खुश है और वह 'एक बार फिर मोदी’ के नारे लगा रही है।

चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा यूपी सीएम ने कहा कि अब तक के चुनाव रुझानों से उन्हें पता चला है कि उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी  एवं उसके सहयोगी दल 2014 से भी बेहतर प्रदर्शन करेंगे और श्री मोदी के नेतृत्व में एक बार फिर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की मजबूत सरकार बनेगी।

इसके बाद योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विपक्षी दलों के नेताओं को डर है कि कहीं फिर श्री मोदी की सरकार बन गई तो भ्रष्टाचारियों को जेल जाना पड़ेगा। इसी वजह से वे घबराये हुए हैं और प्रधानमंत्री पर अमर्यादि टिप्पणियां करने से भी बाज नहीं आ रहे।

कुछ लोगों को परेशानी है कि मतदान के बीच मोदी ने आतंकवादियों को क्यों मारा: नरेंद्र मोदी

Some people have trouble: Why Modi has killed the terrorists during voting: Narendra Modi

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कुशीनगर में चुनावी जनसभा को संबधित किया। इस दौरान उन्होंने महागठबंधन और कांग्रेस पर निशाना साधा। चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा कि आज सुबह पता चला कि कश्मीर में कुछ आतंकवादियों को हमारी सेना ने मार गिराया। अब कुछ लोगों को परेशानी है कि आज जब मतदान चल रहा है तब मोदी ने आतंकवादियों को क्यों मारा? इसके बाद पीएम मोदी ने कहा कि वो बम बंदूक लेकर सामने खडा ​है। क्या वहां मेरा जवान चुनाव अयोग की अनुमति लेने जाए कि मै। इसकों गोली मारूं या नहीं मारूं। कश्मीर में जब से हम आए है। हर दूसरे तीसरे दिन सफाई होती रहती है। यह सफाई अभियान मेरा काम है भाई। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि बेटियों पर अत्याचार करने वाले, राक्षसी प्रवृति के लोगों को सजा देने के लिए आपके इस चौकीदार ने फांसी की सजा का प्रावधान किया है। कांग्रेस सरकार की भी नीयत सही होती तो अलवर में जो हुआ उसे छिपाने में दबाने में नहीं लगती। जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि बहन जी आपके साथ गेस्ट हाउस में जो हुआ था। उससे सारे देश की बहनों और बेटियों को पीडा हुई थी। अगर आप बेटियों की रक्षा के प्रति इतनी ईमानदार है। तो आज ही, इसी समय राजस्थान की कांग्रेस की सरकार से समर्थन वापस ले ​लीजिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि भ्रष्टाचार हो, महंगाई हो या 1984 में हजारों सिंखों का कत्ल हुआ हो इनका जवाब यही होता है हुआ तो हुआ। जिस अहंकार में ये लोग कहते है हुआ तो हुआ वो इन लोगों ने देश की सरकार मशीनरी का हिस्सा बना दिया। 

यमन में सड़क किनारे हुआ विस्फोट, एक जावन की मौत, नौ घायल

A roadside bomb exploded in Yemen, a Jawan's death, nine injured

एडेन। यमन के एडेन में शनिवार में सड़क किनारे हुए बम धमाके में सरकार समर्थक जवान की मौत हो गई और अन्य नौ लोग घायल हो गए। इस बात की जानकारी सुरक्षा अधिकारी ने दी। अधिकारी ने बताया कि यह हादसा एडेन प्रांत के डार सद जिले में दो गाड़ियों के काफिले के पास हुआ जिसमें 30 वर्षीय जवान की मौत हो गई और अन्य घायल हो गए।

हालांकि एडेन की पुलिस ने इस हमले के पीछे यमन स्थित अल-कायद का हाथ बताया है और कहा है कि यह संगठन देश में अस्थिरता पैदा करने की कोशिश कर रहा है। एडेन यमन की सरकार पर साल 2015 से आधारित है लेकिन सुरक्षा बलों के तमाम प्रयासों के बावजूद यहां छिटपुट घटनाएं होती रहती है। 

 गौरतलब है कि सऊदी-नीत अरब सैन्य गठबंधन के साथ गठबंधन करने वाली यमन की सरकार चार साल से अधिक समय से देश के नियंत्रण के लिए ईरान समर्थित शिया हौथी विद्रोहियों से लड़ रही है। 

अफगानिस्तान में महिला पत्रकार और संसदीय सलाहकार की गोली मारकर हत्या

Female journalist and parliamentary consultant shot dead in Afghanistan

काबुल। अफगानिस्तान के एक अधिकारी ने कहा कि काबुल में एक महिला पत्रकार और देश की संसदीय सलाहकार मीना मंगल की अज्ञात बंदूकधारियों ने गोली मारकर हत्या कर दी गई है। गृह मंत्रालय के प्रवक्ता नसरत रहीमी ने बताया कि संसद के निचले सदन में सांस्कृतिक सलाहकार और पूर्व  टीवी प्रस्तोत मीना गंगल की शनिवार सुबह काम पर जाते समय हत्या कर दी गई। 

नसरत रहीमी ने बताया कि एक या संभवत: इससे ज्यादा हत्यारे हत्या करके घटनास्थल से फरार हो गए। हालांकि अब काबुल पुलिस ने इस मामले की जांच शुरू कर दी है। लेकिन अभी तक इस हमले की किसी ने भी जिम्मेदारी नहीं ली है। तो वहीं काबुल पुलिस ने कहा कि अभी तक यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि महिला की हत्या की गई या फिर यह आतंकी गतिविधि है। हालांकि मीना गंगल ने हमले से एक दिन पहले सोशल मीडिया पर यह डर व्यक्त किया था कि उनकी जान को खतरा है। 

उन्होंने सबसे पहले पश्तो भाषा के चैनल 'तोलो टीवी’ में प्रस्तोता के तौर पर काम किया इसके बाद में उन्होंने शमशाद टीवी में काम किया। वह महिला अधिकारों की बड़ी पैरोकार थीं। उन्हें हाल ही में संसद के निचले सदन का सांस्कृतिक सलाहकार बनाया गया था। 

इरफान के साथ काम करने का मौका नहीं खोना चाहती थी: करीना कपूर

Kareena Kapoor did not want to miss the opportunity to work with Irrfan:

नई दिल्ली। बॉलीवुड अभिनेत्री करीना कपूर खान इन दिनों अपनी फिल्म 'अंग्रेजी मीडियम' को लेकर चर्चाओं में है। इस फिल्म को लेकर करीना ने कहा है कि उन्होंने फिल्म 'अंग्रेजी मीडियम’ में काम करने की हां इसलिए की क्योंकि वह इरफान खान के साथ काम करने का मौका नहीं खोना चाहती थीं। फिल्म में अपने किरदार को लेकर करीना ने कहा कि किरदार छोटा है लेकिन मैं इरफान खान के साथ काम करने का मौका नहीं खोना चाहती थी। मैं अपने करियर में यह करना चाहती थी, भले ही दृश्य केवल दो या तीन हों या उससे अधिक हों। एक कलाकार के तौर पर अच्छी फिल्म का हिस्सा होने से आपको काफी कुछ सीखने को मिलता है।

करीना ने कहा कि मैंने इसमें काम करने की हामी भर दी और मुझे नहीं पता कि ऐसा मौका मुझे फिर मिलेगा या नहीं। हम नाटकीय रूप से अलग कलाकार हैं। हम एक तरह की फिल्में भी नहीं करते। जब यह किरदार मेरे पास आया तो होमी अदजानिया ने मुझे कहा कि इसे करो क्योंकि यह अच्छा किरदार है, भले ही छोटा है लेकिन मुझे इरफान के साथ काम करने का मौका मिलेगा।

आपको बता दें कि इरफान लंदन में न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर का इलाज कराने के बाद हाल ही में देश लौटे हैं। बीमारी से उबरने के बाद वह 'अंग्रेजी मीडियम’ के जरिए एक बार फिर बड़े पर्दे पर दस्तक देंगे। इस फिल्म में करीना में पुलिसकर्मी की भूमिका में नजर आएंगी। फिल्म का निर्देशन होमी अदजानिया कर रहे हैं। इसमें राधिका मदान और दीपक डोबरियाल जैसे कलाकार भी नजर आएंगे। यह फिल्म साल 2017 में 'हिंदी मीडियम' का सीक्वल है। जो कि अगले साल 25 अप्रैल को रिलीज होगी। 

इस वजह से फिल्मों में किसिंग सीन को लेकर असहज महसूस करते हैं अजय देवगन

Ajay Devgan feels uneasy about Killing Scene

मुंबई। बॉलीवुड के सिंघम स्टार अजय देवगन फिल्मों में किसिंग सीन को लेकर असहज महसूस करते हैं। अजय देवगन को फिल्म इंडस्ट्री में आए हुए करीब तीन दशक हो गए हैं। अजय देवगन ने आमतौर पर ऑनस्क्रीन किसिंग सीन्स से परहेज ही किया है। अजय देवगन ने कहा कि उनकी फिल्में अक्सर फैमिली फिल्में होती हैं और वह अपनी फिल्मों में किसिंग के सहारे फैमिली ऑडियन्स को असहज नहीं करना चाहते हैं।

अजय देवगन ने कहा ,''मैं ज्यादातर उन्हीं फिल्मों की स्क्रिप्ट चुनता हूं जो फैमिली ऑडियन्स के लिए होती है, यही कारण है कि मेरी ज्यादातर फिल्मों में ऑनस्क्रीन किसिंग की खास डिमांड ही नहीं होती है और वैसे भी एक फैमिली थियेटर में फिल्म देखने आई है तो ये मेरी जिम्मेदारी बनती हैं कि मैं और हमारी फिल्म से जुड़ी टीम उन्हें हेल्दी मनोरंजन मुहैया करा सके।’’

अजय देवगन ने कहा , ''मुझे अपने परिवार के साथ फिल्में देखना पसंद है और मुझे लगता है कि कई लोगों को अपने परिवारों के साथ फिल्में देखना पसंद होगा। यही कारण है कि ऑनस्क्रीन किसिंग मेरे लिए थोड़ा असहज हो जाता है खासकर जब कोई बच्चा आपके साथ वो फिल्म देख रहा हो। या फिर कोई बड़ा भी आपके साथ फिल्म देख रहा हो, इसी वजह से मैं कोशिश करता हूं कि मुझे ऑनस्क्रीन किस करने की नौबत ना आए।

IPL 2019: ऋषंभ पंत को लेकर टीम इंडिया के दिग्गज खिलाड़ी ने दिया बड़ा बयान

IPL 2019: Team India's veteran player gave a big statement about Rishabh Pant

स्पोटर्स डेस्क। आईपीएल के 12वें सीजन में दिल्ली कैपिटल्स के युवा खिलाडी ​ऋषंभ पंत ने शानदार प्रदर्शन किया है। लेकिन कई बार पंत की इस बात के लिए आलोचना की जाती है ​कि वे अपनी टीम को फिनिशिंग लाइन तक नहीं ले जाते। पंत को लेकर दिल्ली के स्काउटिंग प्रमुख प्रवीण आमरे ने बडा बयान दिया है। आमरे ने कहा है कि पंत की यह आलोचना बेकार है। क्योंकि आप तरह के विशेष​ खिलाडी की नै​सर्गिक प्रतिभा को नियंत्रित नहीं कर सकते। 

प्रवीण आमरे ने कहा कि मैंने पंत को तीन साल पहले देखा था और जब मैं अब उसे देखता हूं तो मुझे लगता है कि उसमे काफी अच्छी चीजें है। उसमे वो एक्स फैक्टर है और वह अकेले दम पर मैचों में जीत दिला सकता है। इसके बाद प्रवीण आमरे ने कहा कि अगर आप उसकी फिनिशिंग काबिलियत के बारे में बात करते हो तो वह खुद ही इससे वाकिफ है। जब आप मैच विजेता हो तो आपको जीत तक ले जाना होता है। आप सुरक्षित क्रिकेट नहीं खेल सकते, आपको जोखिम लेने होते हैं। इस तरह के खिलाड़ियों के साथ आपको उन्हें सही तरीके से ढालना होता है। आप उनकी नैसर्गिक प्रतिभा में छेड़छाड़ नहीं कर सकते। 

आपको बता दें कि ऋषंभ पंत इस सीजन में अपनी टीम की तरफ से शीर्ष स्कोरर रहे है। उन्होंने 16 मैचों में 488 रन बनाए है। तो वहीं एलिमि​नेटर में हैदराबाद के खिलाफ मैच विजयी पारी खेली थी। लेकिन वह मैच फिनिश नहीं कर पाए थे। प्रवीण आमरे ने इस सीजन में दिल्ली कैपिटल्स के प्रदर्शन पर कहा कि  नतीजा शानदार है क्योंकि रिकी और सौरवकी अगुवाई वाले प्रबंधन ने इस युवा टीम के मार्गदर्शन में काफी प्रयास किए हैं। अंत में हम दिल्ली के प्रशंसकों को सकारात्मक नतीजा दे पाए। 

हिंदुजा बंधुओं ने फिर अपने नाम किया सबसे अमीर ब्रिटिश का ताज

The crown of the richest British then the name of the Hinduja brothers

नई दिल्ली। वाहन, तेल एवं गैस सहित कई क्षेत्रों में कारोबार करने वाले हिंदुजा समूह के मालिक एवं हिंदुजा बंधु के नाम से मशहूर गोपीचंद और श्रीचंद ने एक बार फिर सबसे अमीर ब्रिटिश का ताज अपने नाम कर लिया है।संडे टाइम्स द्बारा आज जारी सबसे अमीर ब्रिटिश की सूची में हिंदुजा बंधु फिर पहले पायदान पर पहुंच गए हैं। 

वर्ष 2018 की सूची में ब्रिटेन के उद्योगपति सर जिम रैटक्लीफ हिंदुजा बंधुओं को पछाड़कर पहले स्थान पर काबिज हुए थे। इस बार की सूची में हिंदुजा बंधुओं ने उन्हें काफी पीछे कर दिया और वह तीसरे स्थान पर आ गए। सर रैटक्लीफ की संपत्ति पिछले साल की तुलना में करीब तीन अरब पाउंड कम हुई है। हिंदुजा बंधु इससे पहले वर्ष 2014 और वर्ष 2017 में इस सूची में अव्वल स्थान पर रहे थे।

हिंदुजा बंधुओं की संपत्ति पिछले साल से 1.36 अरब पाउंड बढ़कर 22 अरब पाउंड हो गई। इस साल दूसरे स्थान पर रयूबेन बंधु हैं। डेविड और साइमन रयूमेन प्रॉपर्टी के कारोबार से जुड़े हैं और उनकी कुल संपत्ति 18.66 अरब पाउंड है। चौथे स्थान पर सर लेन ब्लावत्निक हैं, जिनकी संपत्ति 14.8 अरब पाउंड है। इस सूची में ब्रिटेन के सबसे अमीर 1,000 व्यक्तियों का नाम शामिल है।

Weekly review : वैश्विक संकेतों, वृहद आर्थिक आंकड़ों, कंपनियों के वित्तीय परिणाम से तय होगी शेयर बाजार की दिशा

Global signals, macroeconomic data, financial results of companies will determine the direction of the stock markets

नई दिल्ली। वैश्विक संकेतों, वृहद आर्थिक आंकड़ों और कंपनियों के चौथी तिमाही के कमाई के आंकड़ों से इस सप्ताह शेयर बाजारों की दिशा तय होगी। विशेषज्ञों के मुताबिक चुनावी मौसम को देखते हुए अनिश्चितता की स्थिति बनी रह सकती है और निवेशक सतर्कता का रुख बनाये रख सकते हैं। पिछले सप्ताह अमेरिका एवं चीन के व्यापारिक रिश्तों में तनाव का नकारात्मक असर शेयर बाजारों पर देखने को मिला था। सैमको सिक्योरिटीज एंड स्टॉकनोट के संस्थापक और सीईओ जिमीत मोदी के मुताबिक, इस साल शेयर बाजारों की चाल तीन चीजों पर निर्भर करती है। सबसे पहले तो अमेरिका-चीन के बीच की तनातनी।

राजनीतिक नतीजे एवं तिमाही परिणाम। इनमें से किसी भी एक चीज का असर बाजार के रुख पर देखने को मिल सकता है। उन्होंने कहा कि कंपनियों के तिमाही नतीजों से ज्यादा असर व्यापार युद्ध और चुनावों का देखने को मिलेगा। मोदी ने कहा कि जैसे-जैसे इनसे जुड़ी गहमागहमी बढ़ेगी, अनिश्चितता के स्तर में भी वृद्धि देखने को मिलेगी। विशेषज्ञों के मुताबिक इस सप्ताह मुद्रास्फीति दर की घोषणा की जाएगी, जो बाजार के रुख के लिहाज से काफी अहम साबित होगी। मौजूदा आम चुनाव के लिए सातवें और अंतिम दौर का मतदान 19 मई को होगा और मतों की गिनती 23 मई को होगी। एपिक रिसर्च के सीईओ मुस्तफा नदीम ने कहा, लोकसभा चुनाव खत्म होने के कगार पर है। यह पहले से अनिश्चितता का एक कारक रहा है। लेकिन अब व्यापार युद्ध एवं वैश्विक संकेतों ने उस चीज को काफी हद तक बढ़ा दिया है।

इस सप्ताह आईटीसी, एचडीएफसी लिमिटेड, ल्यूपिन, बजाज ऑटो और हिडाल्को के तिमाही परिणाम आने वाले हैं। शुक्रवार को बाजार बंद होने के बाद औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर में कमी का असर भी देखने को मिल सकता है। पिछले सप्ताह सेंसेक्स में 1,500.27 अंक यानी 3.85 प्रतिशत की भारी गिरावट आई और यह शुक्रवार को 37,462.99 अंक पर बंद हुआ। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.