13 अक्टूबर: एक क्लिक में पढ़ें दिनभर की 10 बड़ी खबरें

Samachar Jagat | Saturday, 13 Oct 2018 04:37:59 PM
13 october top 10 news in hindi

रिहा किए गए अमेरिकी पादरी ब्रूनसन तुर्की से रवाना, व्हाइट हाउस में मिलेंगे ट्रंप से

American pastor Brunson sailed from Turkey Meet with Trump in White House

इजमिर। तुर्की में दो साल तक हिरासत में रखे जाने के बाद एक अदालत द्वारा रिहा किए गए अमेरिकी पादरी एंड्रयू ब्रूनसन इस देश से रवाना हो गए हैं और व्हाइट हाउस में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ट ट्रंप उनकी अगवानी करेंगे। ब्रूनसन इजमिर के एजियन शहर में अदनान मेंडेरेस हवाई अड्डा से शुक्रवार को अमेरिकी सैन्य विमान से जर्मनी में अमेरिकी रामस्टाइन हवाई ठिकाना के लिए रवाना हुए। वहां से वह अमेरिका के लिए अपनी यात्रा जारी रखेंगे। ब्रूनसन को हिरासत में लिए जाने से अमेरिका और तुर्की के संबंध काफी बिगड़ गए थे।

ट्रंप ने पादरी को रिहा करने के लिए अमेरिका पर काफी दबाव डाला था। उन्होंने कहा कि ब्रूनसन के अमेरिका पहुंचने के बाद वह उनकी अगवानी करेंगे। सिनसिनाटी में चुनाव प्रचार करने पहुंचे ट्रंप ने कहा, शुभ समाचार। पादरी ब्रूनसन रवाना हो गए हैं। उन्होंने कहा, ज्यादा संभावना है कि वह शनिवार को ओवल ऑफिस में आ रहे हैं। ट्रंप प्रशासन ने ब्रूनसन को रिहा कराने के लिए तुर्की पर प्रशुल्क लगाया और दो मंत्रियों पर प्रतिबंध लगाए। ब्रूनसन का मामला राष्ट्रपति के कंजरवेटिव ईसाई आधार के लिए एक मुद्दा बन गया था।

ट्रंप ने कहा, हमने तुर्की से बातचीत की और एक व्यवस्था से चले। कोई सौदा नहीं हुआ है। हवाई अड्डा के प्रतीक्षालय में ब्रूनसन के साथ मीडिया को जाने की इजाजत नहीं दी गई। हालांकि, उन्हें हवाई अड्डा पर अपनी पत्नी नोरिन के साथ आते देखा गया। सरकारी अनाडोलू संवाद समिति ने ब्रूनसन के तुर्की से रवाना होने की पुष्टि की। एजेंसी ने कहा कि उम्मीद है कि वह जर्मनी में रुकेंगे और उसके बाद स्वदेश के लिए रवाना होंगे। 

फाइनल में हारे सेन, युवा ओलंपिक में रजत से संतोष

Badminton latest news

ब्यूनस आयर्स। इंडिया के प्रतिभावान बैडमिंटन खिलाड़ी लक्ष्य सेन युवा ओलंपिक खेलों के फाइनल में चीन के लि शिफेंग से सीधे गेम में हार गए और उन्हें रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा। मौजूदा जूनियर एशियाई चैम्पियन सेन को 42 मिनट तक चले इस मुकाबले में 15.21, 19.21 से पराजय झेलनी पड़ी।

उसने जुलाई में एशियाई चैम्पियनशिप क्वार्टर फाइनल में शिफेंग को सीधे गेम में हराया था लेकिन चीनी खिलाड़ी ने इसका बदला चुकता कर लिया। पहले गेम में शिफेंग ने शुरूआती बढत लेकर स्कोर 14.5 कर लिया। सेन ने हालांकि अंतर 13.16 का किया लेकिन लय बरकरार नहीं रख सके।

चीनी खिलाड़ी ने लगातार 5 अंक लेकर पहला गेम जीत लिया। दूसरे गेम में शुरू में शिफेंग 8.7 से आगे था लेकिन बाद में सेन ने अंतर 11.14 का कर दिया। चीनी खिलाड़ी ने तीन अंक का अंतर बनाएं रखा और 19.21 से ये गेम भी अपनी झोली में डाला।

सेन ने फाइनल के बाद कहा कि उसने बहुत अच्छा प्रदर्शन किया। मैं लय बरकरार नहीं रख सका। मुझे हालांकि खुशी है कि इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट में पदक जीतने वाला दूसरा भारतीय बना। भारतीय बैडमिंटन संघ के अध्यक्ष हेमंत विश्व शर्मा ने कहा कि लक्ष्य विश्व स्तरीय खिलाड़ी है और मैं पदक के लिये उसे बधाई देता हूं। मुझे खुशी है कि सेमीफाइनल में उसने जबर्दस्त जुझाारूपन दिखाकर जीत दर्ज की।

राफेल पर हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स के कर्मचारियों से बात करने बेंगलुरु पहुंचे राहुल

Rahul came to Bangalore to speak to Rafael employees of Hindustan Aeronautics

बेंगलुरु। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी शनिवार को राफेल सौदे पर हिन्दुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के कर्मचारियों से बात करने के लिए कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु पहुंचे।

गांधी के यहां केम्पेगौड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा पहुंचने पर पूर्व मुख्यमंत्री और राज्य की कांग्रेस-जनता दल (सेक्युलर) गठबंधन सरकार समन्वय समिति के अध्यक्ष सिद्दारामैया, कर्नाटक कांग्रेस के अध्यक्ष दिनेश गुंडु राव, पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष ईश्वर खांडरे, कर्नाटक सरकार में मंत्री डी के शिवकुमार और अन्य ने गांधी का स्वागत किया।

बेंगलुरु पहुंचते ही गांधी कुमार कुरुप स्टेट गेस्ट हाउस के लिए रवाना हो गए जहां वे 3 नवंबर को राज्य की 3 लोकसभा और 2 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए उम्मीदवारों के चयन पर कांग्रेस नेताओं के साथ चर्चा करेंगे।

इसके अलावा गांधी पार्टी नेताओं के साथ कांग्रेस-जनता दल (सेक्युलर) की गठबंधन सरकार से संबंधित मुद्दों पर भी चर्चा करेंगे। कांग्रेस नेताओं ने कहा कि गांधी बेंगलुरु स्थित एचएएल मुख्यालय के सामने मिन्सक स्क्वायर पर कंपनी के वर्तमान और सेवानिवृत्त अधिकारियों के साथ खुली चर्चा करेंगे।

कुछ समाचार चैनलों और समाचार पत्रों रिपोर्ट का हवाला देते हुए एचएएल ने साफ किया है कि उसने अपने अधिकारियों को खुली चर्चा में भाग लेने से रोकने के कोई नोटिस जारी नहीं किया है लेकिन कंपनी ने केवल यह कहा है कि कंपनी कर्मचारियों को काम की शर्तों के अनुसार अनुशासन का पालन करना होगा।

'हाऊसफुल-4' की शूटिंग रुकी, साजिद खान को छोडऩी पड़ी निर्देशक की कुर्सी

'Housefull 4' shooting stops Sajid Khan leaves director's chair

मुंबई। पत्नी ट्विंकल खन्ना के ट्वीट के बाद अभिनेता अक्षय कुमार ने अपनी अगली फिल्म 'हाऊसफुल4' से मुंह मोड़ लिया जिसके बाद निर्देशक साजिद खान को अपनी कुर्सी छोडऩी पड़ी है। दरअसल फिल्म के निर्देशक साजिद खान और मुख्य कलाकारों में शामिल नाना पाटेकर पर यौन शोषण के आरोप लगने के बाद 'मी टू' अभियान के समर्थन में उतरीं ट्विंकल खन्ना ने फिल्म के कलाकारों से कहा था कि वह निर्देशक के खिलाफ लगे आरोपों पर ''कड़ा रूख" अपनाएं।

खन्ना ने ट्वीट किया, ''(यौन) शोषण की कई घटनाओं के बारे में सुनकर सकते में हूं और इन महिलाओं ने जो कुछ भी झेला है उसके बारे में सुनना बहुत दुखद है। हाऊसफुल के साथ जुड़े सभी लोगों को इसके खिलाफ खड़ा होने की जरूरत है। ऐसा नहीं चल सकता है।" पत्नी के ट्वीट के बाद हाऊसफुल सीरिज के मुख्य कलाकार अक्षय कुमार ने भी कहा कि फिलहाल फिल्म की शूभटग बंद की जा रही है। उन्होंने लिखा, ''मैं कल रात ही देश वापस लौटा हूं और इन सभी खबरों को पढऩा बहुत परेशान करने वाला है। मैंने हाऊसफुल4 के निर्माताओं से अनुरोध किया है कि वह जांच पूरी होने तक शूटिंग रद्द कर दें।"

51 वर्षीय अभिनेता ने कहा, ''इस मुद्दे पर कड़ी कार्रवाई की जरूरत है। मैं किसी भी दोषी के साथ काम नहीं करूंगा और जिन लोगों को भी इस प्रताडऩा से गुजरना पड़ा है उनका पक्ष सुना जाना चाहिए और उन्हें न्याय मिलना चाहिए।" पति-पत्नी के ट्वीट के कुछ देर बाद हाऊसफुल4 के निर्देशक साजिद खान ने ट्विटर पर कहा कि वह फिल्म के निर्देशन की कमान छोड़ रहे हैं और मीडिया से अनुरोध किया कि सच्चाई सामने आने तक उन्हें ''जज" ना किया जाए। खान ने लिखा है कि वह अनैतिक जिम्मेदारी" लेते हुए आरोपों के निराकरण तक निर्देशक की कुर्सी छोड़ रहे हैं।"

उन्होंने ट्वीट किया है, ''मेरे ऊपर लगे आरोपों और मेरे परिवार, मेरे निर्माताओं और मेरी फिल्म हाऊसफुल4 के कलाकारों पर बनाए जा रहे दबाव के मद्देनजर, मुझे निर्देशक की कुर्सी छोडऩे की नैतिक जिम्मेदारी लेनी चाहिए, उस वक्त तक जब तक कि आरोपों का निराकरण ना हो जाए और सच्चाई साबित ना हो, मैं मीडिया में अपने मित्रों से अनुरोध करता हूं कि सच्चाई सामने आने तक वह मेरे खिलाफ कोई फैसला ना दें।"

खान के खिलाफ अभिनेत्री सलोनी चोपड़ा और एक पत्रकार ने यौन शोषण के आरोप लगाए हैं। इस फिल्म में नाना पाटेकर की भी भूमिका है। उनके खिलाफ अभिनेत्री तनुश्री दत्ता ने करीब दो सप्ताह पहले यौन शोषण के आरोप लगाए थे। अभिनेत्री के आरोप के बाद से ही भारत में 'मी टू' अभियान की शुरूआत हुई है। हालांकि पाटेकर ने आरोपों से इंकार किया है और यह मामला फिलहाल अदालत में है।

योगी सरकार के मंत्री का दावा: अगले लोकसभा चुनाव में बीजेपी की हार तय

Yogi government ministers claim: BJP defeat in next Lok Sabha elections

बलिया (उप्र.)। उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ बीजेपी की सहयोगी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्यक्ष और राज्य सरकार के कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने शनिवार को कहा कि लोकसभा के आगामी चुनाव में बीजेपी की पराजय होनी तय है।

राजभर ने जिले के रसड़ा कस्बे में स्थित अपने आवास पर मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि केन्द्र की बीजेपी सरकार ने अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति कानून को लेकर उच्चतम न्यायालय का फैसला पलट दिया। इसके अलावा उसने कई अन्य विवादास्पद कदम भी उठाए हैं।

उन्होंने बताया कि अगर बीजेपी सरकार की ऐसी ही कार्यपद्धति रही तो इस पार्टी की आगामी लोकसभा चुनाव में हार निश्चित है। गोरखपुर, फूलपुर और कैराना लोकसभा उपचुनाव से इसका आगाज हो चुका है। बीजेपी जब एससी/एसटी एक्ट को लेकर सीमा लांघेगी और भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर उर्फ रावण को रिहा करेगी तो 'लंका दहन’ होना तय है।

सपा से अलग होकर समाजवादी सेक्युलर मोर्चा गठित करने वाले पूर्व मंत्री शिवपाल सिंह यादव को पूर्व मुख्यमंत्री मायावती द्बारा खाली किया गया सरकारी बंगला आबंटित किए जाने के बारे में पूछे गए सवाल पर राजभर ने कहा कि सपा को कमजोर करने के लिये शिवपाल को वह आवास आवंटित किया गया है।

राजभर ने कहा कि अधिकारी वर्ग मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेशों का पालन नहीं कर रहा है। जनता की शिकायतों का भी सही तरीके से निस्तारण नहीं हो रहा है। नौकरशाह शिकायत के निस्तारण की केवल खानापूर्ति कर रहे हैं।

सूबे में कानून व्यवस्था को लेकर पूछे गए सवाल पर उन्होंने पुलिस की कार्यप्रणाली पर प्रश्न खड़े किए और कहा कि पुलिस मुठभेड़ के बहुत से दावे फर्जी हैं। पुलिस गरीब लोगों को उसके घर या दुकान से उठाती है, उनका दो बार चालान करती है, फिर मुठभेड़ में मार डालती है।

प्रसिद्ध हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीतकार अन्नपूर्णा देवी का निधन

Famous Hindustani classical musician Annapurna Devi dies

मुंबई। भारत रत्न से सम्मानित दिवंगत सितारवादक पंडित रविशंकर की पूर्व पत्नी एवं हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत की दिग्गज संगीतकार अन्नपूर्णा देवी का शनिवार तड़के मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में निधन हो गया। वह 91 वर्ष की थीं। मुंबई स्थित अन्नपूर्णा देवी फाउंडेशन के एक प्रवक्ता ने बताया कि वह पिछले कुछ वर्षों से उम्र संबंधी बीमारियों से जूझ रही थीं।

अस्पताल के अधिकारियों ने बताया कि उन्हें तड़के तीन बजकर 51 मिनट पर मृत घोषित किया गया। उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।प्रवक्ता ने बताया कि उनका जन्म मध्य प्रदेश के मैहर शहर में उस्ताद 'बाबा' अलाउद्दीन खान और मदीना बेगम के घर में हुआ था। प्यार से लोग उन्हें 'मां' बुलाते थे। वह चार भाई-बहनों में वह सबसे छोटी थीं।  प्रवक्ता ने बताया कि महान सरोद वादक उस्ताद अली अकबर खान उनके भाई थे।

अन्नपूर्णा देवी अपने पिता की शिष्या थीं। पांच साल की छोटी उम्र से ही उन्होंने संगीत की शिक्षा आरंभ की और और वह सितार से लेकर सुरबहार तक में पारंगत हो गईं। अपने जीवन का ज्यादातर हिस्सा उन्होंने एकांतवास में बिताया। उन्होंने अपना ज्यादातर समय चुनिंदा छात्रों के समूह को प्रशिक्षित करने में व्यतीत किया। उन्होंने सितारवादक पंडित रविशंकर से शादी की थी और उनका एक बेटा शुभेन्द्र 'शुभो' शंकर था, जिनका 1992 में निधन हो गया था। उन्होंने 1982 में एक प्रबंधन सलाहकार रूशि कुमार पांड्या से शादी थी। पांड्या का 2013 में निधन हो गया।

प्रवक्ता ने बताया कि उनके शिष्यों में आशीष खान (सरोद), अमित भट्टाचार्य (सरोद), बहादुर खान (सरोद), बसंत काबरा (सरोद), हरिप्रसाद चौरसिया (बांसुरी), जतिन भट्टाचार्य (सरोद), निखिल बनर्जी (सितार), नित्यानंद हल्दीपुर (बांसुरी), पीटर क्लाट (सितार), प्रदीप बारोट (सरोद), संध्या फड़के (सितार), सास्वती साहा (सितार), सुधीर फड़के (सितार), सुरेश व्यास (सरोद) शामिल हैं।

महंगाई की मार रावण के पुतलों पर, इस बार भी रहेगा जीएसटी का असर

dussehra 2018 latest news

जयपुर। असत्य पर सत्य एवं बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक दशहरा पर्व पर दहन के लिए राजस्थान की राजधानी जयपुर में सजे रावण बाजार में लोगों को आकर्षित करने के लिए घूमने वाले रावण के पुतले समेत विभिन्न प्रकार के तैयार पुतलों पर इस बार भी वस्तु सेवा कर (जीएसटी) से बढी महंगाई का असर नजर आ रहा हैं।

जयपुर के न्यू सांगानेर रोड स्थित मेट्रो स्टेशन के पास स्थित रावण मंडी में  इन पुतलों को विभिन्न आकार देने में जुटे जोगी समाज के अध्यक्ष जगदीश महाराज ने बताया कि जीएसटी से बढी महंगाई एवं बरसात के भय की वजह से इस बार भी गत वर्षों की तुलना में बहुत कम पुतले तैयार किए गए हैं।

हर वर्ष जयपुर में विभिन्न जगहों पर करीब बारह हजार छोटे बड़े रावण एवं उसके कुनबे के पुतले तैयार किए जाते थे लेकिन गत वर्ष से इन 2 वर्षों में पुतले बनाने के लिए काम में ली जा रही कागज की पन्नी, बांस, रद्दी, मैदा तथा अन्य सामान के दामों में वृद्धि की वजह से पुतले बनाने में बहुत कमी आई हैं और इस बार पूरे जयपुर में केवल करीब पन्द्रह सौ पुतले ही तैयार किये जा सके।

उन्होंने बताया कि दशहरा पर लोगों को आकर्षित करने के लिए घूमने वाला रावण का पुतला तैयार किया गया हैं, जिसमें रावण के पुतले का सिर घूमेगा। पुतले में रावण के अहास को प्रदर्शित करने के लिए अठारह हजार रुपए का उपकरण लगाया गया हैं।

ये पुतला 61 फुट ऊंचा हैं और इसकी कीमत अस्सी हजार रुपए से अधिक हैं। इसे तथा अन्य बड़े पुतलों को तैयार करने के लिए मध्यप्रदेश के उज्जैन, गुजरात के सूरत तथा राजस्थान के जोधपुर से कारीगर बुलाए गए। उन्होंने बताया कि घूमने वाला पुतला बीकानेर के लूणकरणसर में दहन होगा।

इसी तरह उनकी मंडी में तैयार सबसे ऊंचे 71 फुट के रावण का पुतला दौसा जिले के बांदीकुई में दहन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि इसके अलावा उनके तैयार 25 फुट से लेकर 50 फुट तक ऊंचे रावण एवं उसके कुनबे के पुतले राजस्थान के सीमांत जैसलमेर जिले के पोकरण, भरतपुर, बीकानेर, टोंक जिले समेत विभिन्न हिस्सों में दहन के लिए ले जाया जायेगा।

इसके अलावा गुजरात के धानेरा में दहन किए जाने वाले पुतले भी यहां तैयार किये जा रहे हैं। इस बार लम्बी मूंछे, चमकदार मुंह और आंखों में रोशनी, हाथ में तलवार वाले पुतलों के साथ पुतलों को अलग रुप देने के लिए ऊपर नीचे 2 मुंह वाले रावण के पुतले भी तैयार किए गिए हैं।

उन्होंने बताया कि उनके समाज के लोग जयपुर में गुर्जर की थड़ी, मालवीय नगर, विधाधर नगर, चौंमू पुलिया, खातीपुरा पुलिया और अन्य स्थानों पर रावण, मेघनाथ, एवं कुंभकर्ण के पुतले तैयार कर रहे हैं। इन मंडियों में दो फुट से लेकर 71 फुट ऊंचे पुतले तैयार किए जा रहे हैं।

महाराज ने कहा कि उनके समाज के लोग गत चालीस साल से जयपुर में पुतले तैयार कर रहे हैं और उनको इस समय पुतले तैयार करने में कई समस्याओं का सामना करना पड़ता हैं, लेकिन सरकार उनकी मदद के लिए आगे नहीं आती।

खातीपुरा पुलिया के पास पुतले तैयार करने वाले कारीगर पारस जोगी ने बताया कि महंगाई की वजह से इस बार उनका परिवार ज्यादा पुतले तैयार नहीं कर पा रहे हैं और दशहरे तक छोटे बड़े करीब सौ पुतले ही तैयार कर पाएंगे। उन्होंने बताया कि उन्होंने पचास रुपए से लेकर तीन-चार हजार रुपए तक के पुतले तैयार कर रहे हैं।

उन्होंने बताया कि लोगों को आकर्षित करने के लिए अक्सर रावण के पुतले के मुंह को ही विभिन्न आकार दिया जाता हैं लेकिन उन्होंने इस बार लम्बे पंजे वाला रावण का पुतला तैयार किया गया हैं जिसे लोगों को आकर्षित करने के साथ खड़ा करने में भी आसानी रहेगी। हालांकि दशहरा पर्व में अभी पांच-छह दिन शेष हैं लेकिन लोगों ने पुतले खरीदना शुरु कर दिया हैं और अपनी अपनी पसंद के पुतले खरीदने लगे हैं। 

एसजी टेस्ट गेंद से निचले क्रम को रोकना मुश्किल था: उमेश

It was difficult to stop lower order from the SG test ball: Umesh

हैदराबाद। तेज गेंदबाज उमेश यादव भी एसजी टेस्ट गेंद का विरोध करने वाले भारतीय खिलाड़ियों की जमात में शामिल हो गए जिन्होंने शुक्रवार को कहा कि इसके पुराने होने पर निचले क्रम को रोकना मुश्किल हो रहा है। भारतीय कप्तान विराट कोहली पहले ही इंग्लैंड में बनने वाली ड्यूक गेंद की पैरवी कर चुके हैं।

उमेश ने दूसरे टेस्ट के पहले दिन का खेल समाप्त होने के बाद प्रेस काफ्रेंस में कहा कि यदि आप कह रहे हैं कि निचले क्रम ने रन बनाए हैं तो आपको समझना होगा कि इस तरह की सपाट पिचों पर एसजी टेस्ट गेंदों से खेलना मुश्किल है। इससे रफ्तार या उछाल नहीं मिलती।

उन्होंने कहा कि आप एसजी गेंद से एक ही जगह पर गेंद डाल सकते हैं लेकिन पिच से मदद नहीं मिलने पर कुछ नहीं हो सकता। मध्य और निचले क्रम के आने पर गेंद नरम हो जाती है और बल्लेबाजी आसान हो जाती है। उन्होंने कहा कि पुछल्ले बल्लेबाजों को पता है कि गेंद ना तो स्विंग लेगी और ना ही रिवर्स।

आपको बस प्रयास करते रहना होता है। बड़े मैदान पर ऐसा नहीं हो सकता। शरदुल ठाकुर की ग्रोइन चोट की वजह से वे लंबे स्पैल के लिए तैयार थे। उन्होंने कहा कि शरदुल खेलता तो मैं स्पिनरों की और मदद कर सकता। मुझे 3 विकेट मिले और अगर वे भी 2 विकेट ले लेता तो हमारी टीम को मदद मिलती। लेकिन आप कुछ नहीं कर सकते। ये खेल का हिस्सा है। 

प ने कहा, अमेरिका ने चीन के खिलाफ अब तक के सबसे कड़े कदम उठाए

Trump said, America has taken the most stringent measures against China so far

वॉशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि उनकी सरकार ने व्यापार में चीन के अनुचित व्यवहार को समाप्त कराने के लिए 'अब तक के सबसे कड़े' कदम उठाए हैं। ट्रंप इस साल जून से अपने यहां चीन से आने वाले माल पर धीर धीरे आयात शुल्क बढ़ा रहे हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति ने शुक्रवार को ओहियो में एक चुनावी रैली में कहा, चीन की अनुचित व्यापारिक गतिविधियों को रोकने के लिए हमने अब तक के सबसे कड़ कदम उठाए हैं।

श्रोताओं ने उनकी इस बात पर खुशी प्रकट की। ट्रंप ने अपनी चीन नीति को अपने प्रशासन की सबसे बड़ी उपलब्धियों के रूप में गिनाया और कहा कि इससे अमेरिका की अर्थव्यवस्था को मजबूती देने एवं रोजगार के सृजन में मदद मिली है। चीन के साथ द्विपक्षीय व्यापार में अमेरिका का आयात उसके निर्यात से 500 अरब डालर के बरारब कम है।

ट्रंप का कहना है कि इस तरह का व्यापार लंबे समय तक नहीं टिक सकता। उन्होंने चीन से आयात किए जाने वाले 250 अरब डालर के माल पर 25 प्रतिशत का अतिरिक्त आयात शुल्क लगा दिया है। साथ ही अमेरिका ने चीन से परमाणु प्रौद्योगिकी के व्यापार पर भी कई अंकुश लगा दिए हैं।

दिल्ली मेट्रो जैसी परिवहन प्रणाली पूरी तरह सब्सिडी पर नहीं चल सकती: मंगू सिंह

Transport system like Delhi Metro can not run completely subsidy

फरीदाबाद। दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) के प्रबंध निदेशक मंगू सिंह ने शुक्रवार को कहा कि दिल्ली मेट्रो जैसी स्वपोषित सार्वजनिक परिवहन प्रणाली पूरी तरह से सब्सिडी पर नहीं चल सकती।  उन्होंने कहा कि सब्सिडी से केवल किराए में कुछ समय के लिए राहत मिल सकती है लेकिन इससे सार्वजनिक परिवहन प्रणाली का अपना वहनीय मॉडल प्रभावित होता है। सिंह यहां जे सी बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में सतत शहरी यातायात के रूप में मेट्रो विषयक एक सेमीनार में बोल रहे थे। इस सेमीनार की अध्यक्षता विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने की। सिंह ने मेट्रो किराया संशोधन को लेकर एक विद्यार्थी द्वारा पूछे गए सवाल पर कहा कि मेट्रो का किराया आठ वर्ष के अंतराल के बाद वर्ष 2017 में संशोधित किया गया। इससे पहले यह संशोधन वर्ष 2009 में हुआ था। डीएमआरसी को जापान अंतरराष्ट्रीय सहयोग एजेंसी (जेआईसीए) का कुल 28,000 करोड़ रुपए का ऋण चुकाना है। 

उन्होंने कहा कि इस समय दिल्ली मेट्रो की भूमिगत लाइन की प्रति किलोमीटर की कुल निर्माण लागत 600 से 700 करोड़ रुपए है और ऊपरी लाइन की निर्माण लागत प्रति किलोमीटर 280 से 300 करोड़ रुपए है। यदि मेट्रो का किराया निरंतर अंतराल पर न बढ़ाया जाए तो दिल्ली मेट्रो द्बारा ऋण नहीं चुकाया जा सकता। मंगू सिंह ने बताया कि दिल्ली मेट्रो डायनेमिक ट्रेन शेड्यूलिंग, रिजनरेटिंग ब्रेकिंग सिस्टम तथा स्टेशन की छतों पर सौर ऊर्ज़ा जैसी नई तकनीक अपना रहा है जिससे बिजली की खपत कम होगी। 

उन्होंने कहा कि दिल्ली मेट्रो को संचालन में दक्षता लाने के लिए नए तकनीकी सुधारों की जरूरत है। उन्होंने कहा कि दिल्ली मेट्रो ने अपने परिसर में सौर ऊर्ज़ा उत्पादन परियोजना के संचालन के लिए भारतीय सौर ऊर्ज़ा निगम के साथ एक समझौता किया है। समझौते के तहत डीएमआरसी अपने परिसर में उत्पन्न होने वाली सौर ऊर्ज़ा को अगले 25 वर्षों तक उत्पादनकर्ता से खरीदेगा और इसके तहत डीएमआरसी ऊर्ज़ा उत्पन्न होने में हुई वास्तविक लागत का ही भुगतान करेगा। इस समय डीएमआरसी के कुल खर्च का 38 प्रतिशत ऊर्ज़ा संसाधनों पर खर्च होता है।

 



 
loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.