14 अगस्त: एक क्लिक में पढ़ें 10 बड़ी खबरें

Samachar Jagat | Tuesday, 14 Aug 2018 05:01:18 PM
14 august latest top ten news

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

मिशन-2019 प्लस 12 पर BJP राष्ट्रीय कार्यकारिणी बनाएगी जीत की रणनीति

BJP National Executive will make a winning strategy on Mission-2019 plus 12

नई दिल्ली। बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की 2 दिवसीय बैठक 18 एवं 19 अगस्त को राष्ट्रीय राजधानी में होगी, जिसमें लोकसभा चुनावों के साथ करीब एक दर्जन राज्यों में एक साथ विधानसभा चुनाव कराये जाने की संभावना के हिसाब से पार्टी की तैयारियों को चाकचौबंद किया जाएगा। सूत्रों के अनुसार राष्ट्रीय कार्यकारिणी का शुभारंभ बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह करेंगे, जबकि समापन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण से होगा। मोदी के समापन भाषण में ही पूरी चुनावी तस्वीर साफ हो जाने की उम्मीद है। पार्टी ने कांग्रेस के कथित दुष्प्रचार खासकर राफेल के मुद्दे को लेकर सरकार पर आरोपों पर जवाबी हमले और भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़ाई की रणनीति पर आगे बढने के संकेत दिए हैं।

राजनीतिक एजेंडे में राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा दिलाने और अनुसूचित जाति जनजाति अत्याचार निवारण कानून को कठोर बनाने के कदम को लेकर देशभर में राजनीतिक आंदोलन छेड़ने की रूपरेखा पर विचार विमर्श आरंभ किया है। 

बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की वर्ष 2018 में होने वाली इस दूसरी बैठक के बाद राजस्थान, मध्यप्रदेश छत्तीसगढ और मिजोरम के विधानसभा चुनावों के लिए फोकस होने की उम्मीद की जा रही थी लेकिन पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के विधि आयोग को'एक देश एक चुनाव’के मुद्दे पर पत्र लिखने और पार्टी सूत्रों द्बारा 12 राज्यों में लोकसभा चुनाव के साथ विधानसभा चुनाव कराने की तैयारियां शुरू होने के संकेत दिए जाने से फोकस बदल गया है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि मिजोरम, राजस्थान, मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ विधानसभाओं के कार्यकाल फरवरी के प्रथम सप्ताह तक हैं जबकि इसके दो माह बाद ही लोकसभा चुनाव होने हैं। लोकसभा चुनाव के साथ ही तेलंगाना, ओडिशा, सिक्किम और आंध्रप्रदेश में चुनाव होते हैं जबकि लोकसभा चुनाव के चंद माह बाद हरियाणा, महाराष्ट्र, झारखंड में भी चुनाव होंगे।

सूत्रों के अनुसार बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी मन बना रहे हैं कि लोकसभा चुनावों के साथ विधानसभा चुनाव हो जाएं। इस प्रकार से करीब 12 राज्यों के चुनाव एकसाथ होने की संभावना बन सकती है। सूत्रों ने कहा कि राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ में में लोकसभा चुनाव तक दो माह के लिए राष्ट्रपति शासन लगाया जा सकता है। इस लिहाज से राष्ट्रीय कार्यकारिणी की यह बैठक भाजपा के लिए बेहद खास और महत्वपूर्ण मानी जा रही है। पार्टी राजनीतिक मुद्दों को तय करके विपक्ष को घेरने की रणनीति बनाने के बाद एक साथ चुनाव कराके विपक्षी महागठबंधन को भ्रमित करके धराशायी करने की रणनीति बना रही है।

बैठक कनॉट प्लेस के निकट नई दिल्ली नगरपालिक निगम परिषद (एनडीएमसी) के सभागार में होगी जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद रहेंगे। सूत्रों के अनुसार पहले दिन 18 अगस्त को राष्ट्रीय पदाधिकारियों की बैठक बुलाई गई है। इसमें सभी राष्ट्रीय पदाधिकारी, प्रदेश प्रभारी, सह प्रभारी, प्रदेश अध्यक्ष, प्रदेश महामंत्री (संगठन) मौजूद रहेंगे। यह बैठक सुबह 10 बजे से नई दिल्ली में शुरू होगी और दोपहर 2 बजे तक चलेगी।

इसके बाद राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक 18 अगस्त को दोपहर बाद 4 बजे से शुरू होगी। अगले दिन 19 अगस्त को शाम 5 बजे समापन होगा। बैठक की अध्यक्षता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह करेंगे। राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित अन्य सभी वरिष्ठ पदाधिकारी मौजूद रहेंगे।

सूत्रों के अनुसार राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक में 7 प्रमुख एजेंडे पर विचार विमर्श किया जाएगा। इसमें गत कार्यवाही की पुष्टि, पिछली बैठक से अब तक की प्रमुख गतिविधियों और कार्यक्रमों की जानकारी, संगठनात्मक विषयों पर चर्चा होगी। इसके अलावा राजनीतिक एवं आर्थिक प्रस्तावों पर चर्चा होगी और आगामी कार्यक्रमों की रूपरेखा तय की जाएगी। इसके अलावा भी अन्य कुछ विषयों पर भाजपा अध्यक्ष की अनुमति से चर्चा की जा सकती है। पार्टी मुख्यालय ने देशभर के सभी पदाधिकारियों को पत्र जारी कर दिया है। 

नेतन्याहू और अल-सिसी ने गुप्त मुलाकात में की गाजा पर चर्चा

Netanyahu and Al-Sisi discussed Gaza in a secret meeting: Channel Ten

येरूशलम। इजरायल के एक टेलीविजन न्यूज चैनल की रिपोर्ट के मुताबिक इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सिसी के बीच मई में एक गुप्त शिखर सम्मेलन आयोजित किया गया जिसमें दोनों नेताओं ने गाजा पट्टी में दीर्घकालिक युद्धविराम पर चर्चा की। 

इजरायल के चैनल टेन न्यूज ने सोमवार को अपनी एक रिपोर्ट में अज्ञात अमेरिकी अधिकारियों का हवाला देते हुए बताया कि यह गुप्त बैठक 22 मई को मिस्र में आयोजित की गयी।  रिपोर्ट के अनुसार दोनों नेताओं ने गाजा की नाकाबंदी को आसान बनाने, इसके बुनियादी ढांचे को ठीक करने और युद्धविराम की शर्तों पर चर्चा की। श्री नेतन्याहू के प्रवक्ता ने इस रिपोर्ट पर टिप्पणी करने से इंकार कर दिया। मिस्र के अधिकारियों की ओर से भी इस संबंध में कोई बयान जारी नहीं किया गया है। 

उल्लेखनीय है कि मिस्र और संयुक्त राष्ट्र इजरायल तथा गाजा पर शासन करने वाले इस्लामिक संगठन हमास के बीच दीर्घकालिक संघर्ष में मध्यस्थता करने की कोशिश कर रहे हैं। पिछले कुछ महीनों के दौरान गाजा पट्टी क्षेत्र में हिसा में काफी इजाफा हुआ है जिसके मद्देनजर दोनों के बीच संघर्ष विराम लागू करने के प्रयास किए जा रहे हैं। 

सुरक्षा संबंधी चिताओं का हवाला देते हुए, इजरायल और मिस्र ने गाजा के साथ अपनी सीमा पर कड़े प्रतिबंध लगा रखे हैं। इजरायल ने हमास तथा लड़ाकों के अन्य संगठनों तक हथियारों की आपूर्ति को रोकने के लिए नाकाबंदी को सही ठहराया है। हमास और इजरायल एक दूसरे पर हवाई हमले करते रहते हैं। 

गौरतलब है कि गाजा पट्टी में 20 लाख से अधिक फिलीस्तीनी नागरिक गहरे आर्थिक संकट का सामना कर रह रहे हैं। विश्व बैंक ने पानी, बिजली और दवाइयों की कमी के कारण गाजा पट्टी की स्थिति को मानवतावादी संकट करार दिया है।

इजरायल-गाजा की सीमा पर 30 मार्च से शुरू हुए साप्ताहिक विरोध प्रदर्शन के दौरान इजरायली सेना की ओर से की गयी गोलीबारी में अब तक कम से कम 161 फिलीस्तीनी मारे गए हैं। इस हिसा में फिलीस्तीनी स्नाइपर की गोली से एक इजरायली सैनिक भी मारा गया है। 

207 अंक की बढ़त के साथ बंद हुआ सेंसेक्स

Sensex closes with a gain of 207 points

मुंबई। शेयर बाजार जब आज सुबह खुला तो उसमें उछाल देखा गया, सेंसेक्स और निफ्टी दोनों ने ही बढ़त बनाते हुए कारोबार की शुरुआत की और ये बढ़त कारोबार की समाप्ति पर भी कायम रही । कारोबार की समाप्ति पर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स बढ़त बनाते हुए 207.10 अंक यानि 0.55 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 37,852.00 के स्तर पर बंद हुआ। सेंसेक्स की तरह ही नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के पचास शेयरों वाले निफ्टी पर भी कारोबार की समाप्ति पर बढ़त का असर देखने को मिला और ये हरे निशान पर पहुंचकर 79.35 अंक यानि 0.70 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 11,435.10 के स्तर पर बंद हुआ।

गौरतलब है कि कल जब सुबह शेयर बाजार खुला तो उसमें गिरावट देखी गई, सेंसेक्स और निफ्टी दोनों ने ही गिरावट के साथ कारोबार की शुरुआत की और कारोबार की समाप्ति पर भी घरेलू शेयर बाजार गिरावट के साथ लाल निशान पर बंद हुआ। काराबोर की शुरुआत में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( बीएसई ) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 261.75 अंक यानि 0.69 प्रतिशत की गिरावट के साथ 37,607.48 के स्तर पर खुला और काराबोर की समाप्ति पर ये 224.33 अंक यानि 0.59 प्रतिशत की गिरावट के साथ 37,644.90 के स्तर पर बंद हुआ।

वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ( एनएसई ) का पचास शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी भी काराबोर की शुरुआत में 74.75 अंक यानि 0.65 प्रतिशत की गिरावट के साथ 11,354.75 के स्तर पर खुला। सेंसेक्स की तरह निफ्टी पर भी कारोबार की समाप्ति पर गिरावट हावी रही और ये 73.75 अंक यानि 0.65 प्रतिशत की गिरावट के साथ 11,355.75 के स्तर पर बंद हुआ। 

सीनियर टीम में नहीं चुने जाने से अय्यर के प्रदर्शन पर पड़ रहा असर

Shreyas Iyer said performance affected by not selection in senior team

बेंगलूरू। आईपीएल में अपनी बल्लेबाजी से सभी को दिवाना बनाने वाले दिल्ली डेयरडेविल्स के कप्तान और बल्लेबाल श्रेयस अय्यर को सीनियर भारतीय टीम में न चुनेे जाने का अफसोस है। उनका मानना है कि सीनियर भारतीय टीम में न चुने जाने के कारण उनके प्रदर्शन पर भी असर पड़ता है। ये बात खुद श्रेयस अय्यर ने कही है।

रिपोट्र्स के अनुसार भारत ए के कप्तान श्रेयस अय्यर ने कहा है कि लगातार अच्छे प्रदर्शन के बावजूद सीनियर राष्ट्रीय टीम में नहीं चुने जाने के कारण इस बात का असर कभी कभार उनके प्रदर्शन पर असर पड़ता है। श्रेयस अय्यर ने पत्रकारों से रू-ब-रू होते हुए कहा कि ‘‘ सब्र बनाये रखना बहुत मुश्किल होता है। जब आप लगातार अच्छा खेल रहे हैं, रन बना रहे हैं और फिर भी सीनियर टीम में नहीं है तो यह आपके जेहन में कौंधता रहता है। जब आप शीर्ष स्तर पर अच्छे गेंदबाजों का सामना करते हैं तो आपके प्रदर्शन में उतार चढ़ाव आता रहता है।

आपको फोकस करना पड़ता है लेकिन कई बार असर पड़ ही जाता है।’’ घरेलू सर्किट में अच्छे प्रदर्शन के बाद अय्यर को वनडे टीम में जगह मिली थी। उसने इस साल फरवरी में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भारत के लिए आखिरी वनडे खेला था। पिछले साल अय्यर ने न्यूजीलैंड ए के खिलाफ भारत ए के लिए 317 रन बनाए थे। तीन साल पहले उन्हें आईपीएल में दिल्ली डेयरडेविल्स ने चुना और दो सत्र बाद वह कप्तान बने। अय्यर ने कहा कि कप्तानी से उन्हें दबाव के हालात में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन की प्रेरणा मिलती है।

उन्होंने कहा कि ‘‘ मुझे कप्तानी पसंद है। कप्तानी से मेरा रवैया बिल्कुल बदल जाता है और मैं दबाव के हालात में अपने और टीम की ओर से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन की कोशिश करता हूं।’’ उल्लेखनीय है कि आइपीएल सीजन 11 में गौतम गंभीर के दिल्ली डेयरडेविल्स की कप्तानी छोडऩे के बाद टीम की फ्रेंचाइजी ने श्रेयस अय्यर को डीडी का कप्तान बनाया था। इस दौरान अय्यर ने शानदार प्रदर्शन किया था और कई मैचों में अपनी शानदार कप्तानी और बल्लेबाजी से दिल्ली को मैच भी जीताएं थे।

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर इस मामले मोदी करेंगे राजीव और नरसिम्हा राव की बराबरी

Modi will equate Rajiv and Narasimha Rao

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वतंत्रता दिवस पर बुधवार को जब लाल किले के प्राचीर पर राष्ट्रीय ध्वज फहरायेंगे तो वह पांच या उससे अधिक बार यह सम्मान हासिल करने वाले देश के सातवें और दूसरे गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री होंगे। मई 2014 में देश की बागडोर संभालने वाले मोदी ने उस वर्ष स्वतंत्रता दिवस पर पहली बार लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया था और बुधवार को वह पांचवीं तथा अपने मौजूदा कार्यकाल में अंतिम बार लालकिले पर तिरंगा फहरायेंगे। ऐसा करने वाले वह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के दूसरे नेता होंगे। 

पूर्व प्रधानमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता अटल बिहारी वाजपेयी छह बार लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहरा चुके हैं। अगले वर्ष होने वाले आम चुनाव में यदि मोदी दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने में सफल रहते हैं तो वह इस मामले में वाजपेयी से आगे निकल सकते हैं। पूर्व प्रधानमंत्रियों राजीव गांधी और पी वी नरसिम्हा राव ने भी पांच-पांच बार लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया और बुधवार को मोदी उनके बराबर आ जायेंगे। स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लाल किले की प्राचीर पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने की बात की जाये तो अब तक पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु का रिकार्ड नहीं टूट पाया है। 

पंडित नेहरु ने 1947 से लेकर 1963 तक लगातार 17 बार लाल किले की प्राचीर पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया और राष्ट्र को संबोधित किया। उनकी पुत्री और देश की एकमात्र महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी इस रिकार्ड के निकट तक पहुंची लेकिन वह इसकी बराबरी नहीं कर पायी। इंदिरा गांधी को 16 बार तिरंगा फहराने का अवसर मिला। 

उन्होंने 1966 से लेकर 1976 तक लगातार 11 बार तथा 1980 से लेकर 1984 तक पांच बार लालकिले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया। नेहरु गांधी परिवार के एक अन्य सदस्य राजीव गांधी को पांच बार यह सम्मान मिला। नेहरु, इंदिरा के बाद सबसे अधिक 10 बार राष्ट्रीय ध्वज फहराने का मौका डॉ मनमोहन सिंह को मिला।

उन्होंने 2004 से लेकर 2013 तक लाल किले के प्राचीर पर तिरंगा फहराया। कांग्रेस से चुनकर आये प्रधानमंत्रियों ने 55 बार लालकिले पर तिरंगा फहराया और राष्ट्र को संबोधित किया। इसमें से 38 बार यह गौरव नेहरु-गांधी परिवार के सदस्यों को मिला। नेहरु, इंदिरा और राजीव गांधी के अलावा डॉ मनमोहन सिंह ने 10 बार, पी वी नरसिंह राव ने पांच बार तथा पंडित नेहरु की मृत्यु के बाद देश की बागडोर संभालने वाले लाल बहादुर शास्त्री ने दो बार लालकिले के प्राचीर पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया।

गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्रियों में वाजपेयी सबसे आगे हैं। उसके बाद मोदी हैं। आपातकाल के बाद 1977 में केंद्र में बनी पहली गैर कांग्रेसी सरकार का नेतृत्व करने वाले मोरारजी देसाई को दो बार लालकिले के प्राचीर पर झंडा फहराने का मौका मिला। चार प्रधानमंत्रियों चौधरी चरण सिंह, विश्वनाथ प्रताप सिंह, एच डी देवेगौड़ा और इंद्र कुमार गुजराल को एक-एक बार यह सम्मान मिला।

चंद्रशेखर एकमात्र ऐसे प्रधानमंत्री हैं जिन्हें लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने और राष्ट्र को संबोधित करने का अवसर नहीं मिला। पंडित नेहरु और लाल बहादुर शास्त्री की मृत्यु होने के समय दो बार कुछ कुछ समय के लिये प्रधानमंत्री का पद संभालने वाले गुलजारी लाल नंदा को भी यह राष्ट्रीय अवसर नहीं मिला।

फिल्म 'पद्मावत' में महारावल रत्नसिंह के किरदार के लिए शाहिद कपूर नहीं बल्कि ये सुपरस्टार था भंसाली की पहली पसंद

Sanjay Leela Bhansali's film Padmaavat was not Shahid Kapoor but Prasad was the first choice

मुंबई। दक्षिण भारतीय फिल्मों के सुपरस्टार बाहुबली फेम प्रभास को लेकर एक खबर सामने आई हैं। जिसकी वजह से वे सुर्खियों का हिस्सा बने हुए हैं। जी हां बॉलीवुड की सबसे विवादित फिल्म पद्दमावत को एक लंबे अरसे के बाद कानूनी लड़ाई लड़ने के बाद रिलीज के लिए हरी झंडी मिली थी। इस ऐतिहासिक फिल्म के साथ कंट्रोवर्सी का नाता इस कद्र था कि फिल्म की सफलता ने ये साबित कर दिया कि विवाद के बावजूद भी फिल्म को दर्शकों द्दारा इतना पसंद किया कि यह साल की अब तक की सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म बनी।  

अब खबरों की मानें तो फिल्म की रिलीज के कुछ महीनो बाद इस बात का खुलासा हुआ है कि इस फिल्म में शाहिद कपूर के रोल महारावल रतनसिंह का किरदार बाहुबली स्टार प्रभास को ऑफर किया गया था। लेकिन उन्होंने इस फिल्म में काम करने से मना कर दिया। प्रभास ने बाहुबली और बाहुबली 2 जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्मों में काम किया है।

कहा जा रहा है कि इस साल की सुपरहिट फिल्म पद्मावत में प्रभास को काम करने का प्रस्ताव मिला था लेकिन उन्होंने इंकार कर दिया। बताया जा रहा है कि पद्मावत के निर्देशक संजय लीला भंसाली ने बाहुबली फिल्म देखी और वो प्रभास की एक्टिंग और फिजिक से काफी इंस्पायर हुए। उन्होंने फिल्म पद्मावत में प्रभास को राजा रतन सिंह का रोल ऑफर किया। प्रभास उस समय बाहुबली पार्ट 2 की शूटिंग कर रहे थे, इसलिए उन्होंने फिल्म में काम करने से इंकार कर दिया।

बताया जाता है कि प्रभास को फिल्म पद्मावत में जो रोल ऑफर किया गया वो फिल्म में बाकी किरदारों के मुकाबले उन्हें हल्का लगा। साथ ही उनको वो रोल सुपरहिट फिल्म बाहुबली में उनके द्वारा निभाए गए किरदार से कम प्रभावशाली लगा। इतना शक्तिशाली किरदार निभाने के बाद अचानक राजा रतन भसह का किरदार निभाना उनके करियर के लिए रिस्की हो सकता था। इसी कारण उन्होंने फिल्म में काम करने से इंकार कर दिया। बाद में शाहिद कपूर ने इस किरदार को निभाया और दर्शकों की वाहवाही लूटी।

पाकिस्तान चुनाव आयोग को मतदान में गड़बड़ी के आरोपों पर गौर करना चाहिए : ममनून

Pakistan EC should look into allegations of polling in poll: Mamunoon

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने स्वतंत्रता दिवस पर देश को संबोधित करते हुए हाल ही में संपन्न हुए चुनावों में गड़बड़ी के आरोपों का मुद्दा उठाते हुए कहा कि चुनाव आयोग को प्रमुख राजनीतिक दलों की शिकायत पर गौर करना चाहिए ताकि चुनाव प्रक्रिया को ''पूरी तरह पारदर्शी’’ बनाया जा सके।

'जिन्ना कन्वेंशन सेंटर’ में आयोजित 72वें स्वतंत्रता दिवस के आधिकारिक समारोह के दौरान हुसैन ने कहा कि देश के लिए राज्य की संस्थाओं को मजबूत और स्वतंत्र बनाना बेहद महत्वपूर्ण है। देश में हाल ही में संपन्न हुए चुनावों में इमरान खान की 'पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ' की जीत पर कई पार्टियों ने सवाल उठाए थे और निष्पक्ष जांच की मांग की थी।

'पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज’ (पीएमएल-एन) के अध्यक्ष शहबाज शरीफ ने कल आरोप लगाया था कि 25 जुलाई को हुए चुनावों में ''ऐतिहासिक गड़बड़ी’’ की गई।'पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ' पाकिस्तान की कौमी असेंबली के लिए हुए आम चुनावों में 342 सीटों में से 158 सीटों पर जीत हासिल कर सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी जबकि पीएमएल-एन 82 सीट हासिल कर दूसरे नंबर पर रही।

पीटीआई के प्रमुख इमरान खान 18 अगस्त को प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे। राष्ट्रपति हुसैन ने कहा कि चुनाव और पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस के जश्न का कुछ ही समय के अंतराल में हो रहा है और ''यह हमें याद दिलाता है कि जिस तरह से यह देश जनसंकल्प के साथ अस्तित्व में आया था..वैसे ही, इसके भविष्य का निर्णय भी जनादेश के माध्यम से किया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि चुनाव पाकिस्तान के चुनाव आयोग (ईसीपी) को और शक्तिशाली और स्वतंत्र बनाने के लिए पिछली सरकार के दौर में बनाए गए नए कानून के तहत आयोजित किए गए। उन्होंने कहा कि चुनाव प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने के लिए देश एकजुट है और ईसीपी को सशक्त करने के लिए ही पुरानी सरकार के प्रतिनिधियों ने कानून बनाया।

हुसैन ने कहा कि इसे पारदर्शी बनाने के प्रयास के बावजूद अगर कुछ समूहों ने इस मुद्दे पर चिता व्यक्त की है तो यह ईसीपी की जिम्मेदारी है कि उन्हें दूर करे और ऐसे कदम उठाए जिससे मतदाता आश्वस्त हो कि राज्य के मामलों के बारे में उनके निर्णय स्वीकार किए जाएंगे और उनका क्रियान्वयन भी होगा।

कश्मीर का मुद्दा उठाते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों के अधीन कश्मीर का मुद्दा हल करने के लिए पाकिस्तान आर्थिक एवं राजनीतिक मदद मुहैया करता रहेगा। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से गुहार लगाई कि कश्मीर के लोगों को उनके ''बकाया अधिकार’’ दिलाने के लिए वह आवाज उठाए। पाकिस्तान 14 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाता है।

इस दिन आखिरी ब्रिटिश वाइसराय ने कराची में पाकिस्तान की नई सरकार को सत्ता हस्तांतरित की थी। बहरहाल, स्वतंत्रता का पहला दिन 15 अगस्त होता है। पाकिस्तान ने आज अपने 72वें स्वतंत्रता दिवस का जश्न धूमधाम से मनाया और देश में जगह जगह समारोह आयोजित किए गए।

दिन की शुरुआत मस्जिदों में नमाज अदा करने और सभी प्रमुख सरकारी इमारतों पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने के साथ हुई। सभी प्रमुख सरकारी इमारतों को झंडियों और रोशनी से सजाया गया है। स्वतंत्रता दिवस का जश्न मनाने के लिए राजधानी में 31 तोपों की सलामी दी गई। इसके बाद चारों प्रांतीय राजधानियों में 21 तोपों की सलामी दी गई।

ICC टेस्ट रैंकिंग में कोहली को बड़ा झटका, अब ये ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी बने दुनिया के नंबर वन बल्लेबाज

Kohli lost first place in ICC Test rankings

दुबई। इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे टेस्ट में लचर प्रदर्शन के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली ने सोमवार को आईसीसी टेस्ट बल्लेबाजों की रैंकिंग में नंबर एक का स्थान गंवा दिया। कोहली की जगह अब ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ नंबर एक पर काबिज हो गए हैं जो गेंद से छेड़खानी विवाद में एक साल का प्रतिबंध झेल रहे हैं।

भारतीय कप्तान ने 23 और 17 रन की पारियां खेल। भारतीय टीम पहली पारी में 107 और दूसरी में 130 रन पर आउट हो गई और उसे एक पारी तथा 159 रन से पराजय झेलनी पड़ी।  भारतीय आफ स्पिनर आर अश्विन बल्लेबाजों की रैंकिग में 67वें से 57वें स्थान पर पहुंच गए। अश्विन हरफनमौलाओं की सूची में दक्षिण अफ्रीका के वेर्नोन फिलैंडर को पछाड़कर तीसरे स्थान पर पहुंच गए। दूसरी ओर हार्दिक पंड्या गेंदबाजों की रैंकिग में 25 पायदान चढकर 74वें स्थान पर पहुंच गए। 

इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन 38 साल में 900 अंक पार करने वाले इंग्लैंड के पहले और कुल सातवें गेंदबाज हो गए। एंडरसन ने दूसरे टेस्ट में 43 रन देकर नौ विकेट लिये जिससे उनके 903 अंक हो गए हैं। उनसे पहले सिडनी बर्नेस (932) , जार्ज लोहमैन (931) ,टोनी लोक (912) , इयान बाथम (911) , डेरेक अंडरवुड (907) और एलेक बेडसर (903) यह आंकड़ा पार कर चुके हैं।

बाथम (1980) के बाद इस आंकड़े को पार करने वाले एंडरसन इंग्लैंड के पहले गेंदबाज हैं। वह गेंदबाजों की सूची में दक्षिण अफ्रीका के कागिसो रबाडा से 21 अंक पीछे दूसरे स्थान पर है। इंग्लैंड के लिये नाबाद शतक बनाने और चार विकेट लेने वाले क्रिस वोक्स 34 पायदान चढकर 50वें स्थान पर पहुंच गए हैं । जानी बेयरस्टा बल्लेबाजों की रैकिग में नौवें स्थान पर हैं। जोस बटलर एक पायदान चढकर 69वें और ओलिवर पोप 125वें स्थान पर हैं।

मुख्यालय से दूसरे राज्यों में दी जाने वाली सेवाओं के वेतन पर लगेगा 18 प्रतिशत जीएसटी

18 percent GST will be charged on the salaries of the services given from the headquarter in other states

नई दिल्ली। किसी कंपनी के मुख्यालय द्वारा दूसरे राज्यों में स्थित उसकी शाखाओं को दी जाने वाली एकाउंभटग, आईटी, मानव संसाधन जैसी सेवाओं के लिए दिए जाने वाले वेतन पर 18 प्रतिशत जीएसटी लगेगा। एडवांस रूलिंग अथॉरिटी (एएआर) की कर्नाटक पीठ द्वारा जारी आदेश के अनुसार दो कार्यालयों के बीच इस तरह की गतिविधियां जीएसटी कानून के तहत आपूर्ति मानी जाएगी।

एएआर ने कहा, ''एकाउंटिंग, अन्य प्रशासनिक और आईटी प्रणाली के रखरखाव के संदर्भ में कारपोरेट कार्यालय में कार्यरत कर्मचारी अन्य राज्यों में स्थित शाखाओं के लिये जो काम करते हैं, उन पर केंद्रीय माल एवं सेवा कर कानून 2017 (सीजीएसटी कानून) की धारा 25 (4) के तहत सीजीएसटी कानून की अनुसूची एक की प्रविष्टि दो के अंतर्गत आपूर्ति माना जाएगा।"

विशेषज्ञों के अनुसार इस व्यवस्था का मतलब है कि जिन कंपनियों के विभिन्न राज्यों में कार्यालय हैं, उन्हें मुख्य कार्यालय में कर्मचारियों द्वारा अन्य राज्यों में स्थित शाखाओं को कामकाज में मदद के एवज में माल एवं सेवा कर (जीएसटी) वसूलना होगा। हालांकि, ऐसी आपूर्ति पर लिये जाने वाले जीएसटी के सदर्भ में 'इनपुट टैक्स क्रेडिट' (आईटीसी) का दावा किया जा सकता है।  जिन कंपनियों को जीएसटी से छूट है, वे क्रेडिट का दावा नहीं कर पाएंगी। साथ ही इससे कंपनियों का अनुपालन बोझ बढ़ेगा क्योंकि उन्हें अंतर-राज्यीय सेवाओं के लिये बीजक बनाना होगा।

एएमआरजी एंड एसोसिएट्स पार्टनर रजत मोहन ने कहा कि इस तरह से सेवाओं की आपूर्ति पर 18 प्रतिशत की दर से जीएसटी लगेगा। यह देशभर में काम करने वाली कंपनियों के लिये झटका है। उनके मुताबिक दिये गये जीएसटी पर कर क्रेडिट मिलेगा। हालांकि, शिक्षा, अस्पताल, एल्कोहल और पेट्रोलियम जैसे क्षेत्र को जीएसटी से छूट प्राप्त है।- एजेंसी

रात को खाना खाकर बैक कैशियर लौट रहा था अपने घर और रास्ते में उसके साथ हुआ ये...

Bank cashier murder by unknown criminals in Banda

बांदा। उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में में एक बैंक कैशियर की हत्या का मामला सामने आया है। यहां एक बैंक कैशियर को अज्ञात अपराधियों ने गोली मारकर मौत की नींद सुला दिया। मामला बांदा जिले के नगर कोतवाली इलाके की बताई जा रही है। उधर बैक कैशियर की अज्ञात अपराधियों द्वारा हत्या के बाद इलाके में दहशत फैली हुई है। उधर मामले की जानकारी लगने पर पहुंची पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर उसे पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भिजवाया है।

पुलिस ने अज्ञात अपराधियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस अपराधियों की गिरफ्तारी के प्रयास में जुटी हुई है। जानकारी के अनुसार जिले के नगर कोतवाली इलाके में नवाब टैंक के पास कोऑपरेटिव बैंक के कैशियर को अज्ञात बदमाशों ने गोली मार कर घायल कर दिया। कैशियर की अस्पताल में मौत हो गई। आरोपी फरार हैं जिनकी तलाश की जा रही है।

मीडिया रिपोट्र्स के अनुसार नगर कोतवाली पुलिस ने बताया है कि कोऑपरेटिव बैंक, बांदा में तैनात कैशियर रजनीश करवरिया (32) सोमवार और मंगलवार की दरम्यानी रात करीब दस बजे अतर्रा रोड स्थित एक ढाबे से खाना खाकर अपने घर जा रहे थे। पहले से घात लगाए बैठे बाइक सवार तीन अज्ञात बदमाशों ने उन्हें गोली मार कर घायल कर दिया और फरार हो गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने गंभीर रूप से घायल करवरिया को इलाज के लिए सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया, जहां इलाज के दौरान कुछ ही देर में उनकी मौत हो गई

पुलिस ने बताया है कि शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है और फरार अज्ञात बदमाशों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। पुलिस अधीक्षक शालिनी और अपर पुलिस अधीक्षक लाल भरत कुमार पाल ने भी घटनास्थल का जायजा लिया और बदमाशों की गिरफ्तारी के निर्देश दिए हैं। पुलिस ने लूट की आशंका जताई लेकिन कहा कि लूट हुई या नहीं, अभी पता नहीं चला है। मामले की जांच की जा रही है।

 

 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.