14 जूनः एक क्लिक में पढ़ें 10 बड़ी खबरें

Samachar Jagat | Thursday, 14 Jun 2018 04:34:34 PM
14 june latest top ten news

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

जेटली तथ्यों को पेश करते हैं तोड़-मरोड़कर: सुरजेवाला

aitley presents facts, breaks out: Surjevala

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने पलटवार करते हुए दावा किया कि ‘बिना विभाग के मंत्री’ जेटली राजनीतिक प्रासंगिकता हासिल करने की कोशिश कर रहे हैं। केंद्रीय मंत्री अरूण जेटली की ओर से राहुल गांधी की समझ पर सवाल उठाते हुए कहा था कि यह तो अनुभवों से ही आती है, विरासत में नहीं मिलती।

सुरजेवाला के इस बयान के बाद जेटली ने ट्वीट कर कहा कि रणदीप सुरजेवाला, यह राजनीतिक विमर्श है। अशोभनीय बातें करना जवाब देना नहीं है। तथ्यों के साथ जवाब दीजिए। इस पर कांग्रेस  के मुख्य प्रवक्ता सुरजेवाला ने कहा कि जेटली जी, जब आप तथ्यों को तोड़-मरोडक़र कांग्रेस नेतृत्व, यहां तक कि उच्चतम न्यायालय और कई अन्य लोगों के बारे में भला-बुरा कहते हैं तो वह राजनीतिक विमर्श होता है, लेकिन जब आपको ठोस तथ्यों के साथ सच का आईना दिखाया जाता है तो आप असहज हो जाते हैं और इसे अशोभनीय बात करार देते हैं।

भाजपा के वरिष्ठ नेता जेटली ने एक अन्य ट्वीट में कहा था कि रणदीप सुरजेवाला: अगर आर्थिक  कुप्रबंधन होता तो कमजोर अर्थव्यवस्था वाले पांच देशों (फरगाइल फाइव) और नीतिगत पंगुता से दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था का सफर संभव नहीं हो सकता था। यह जानकारी नहीं होने का एक और मामला है।

इस पर सुरजेवाला ने कहा है कि जेटली जी, मोदी सरकार में पिछले चार साल में विकास दर सबसे निचले स्तर पर है। निर्यात गिर गया है, दो करोड़ों नौकरियों का वादा जुमला निकला, एनपीए 10 लाख करोड़ रुपए पहुंच गया है, निवेश गिर गया है, बैंकों की हालत खराब हो चुकी है और लूट घोटाले आम बात हो गई है, जीएसटी गलत ढंग से लागू की गई, योजनाएं विफल हो रही हैं।

क्या यह सब आर्थिक कुप्रबंधन नहीं है? दोनों नेताओं के बीच इस बहस की पृष्ठभूमि उस वक्त तैयार हुई जब जेटली ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आक्षेपों के लिए एक बार फिर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की समझ पर सवाल उठाया और कहा कि यह तो अनुभवों से ही आती है, विरासत में नहीं मिलती। जेटली ने फेसबुक पर लिखा है कि कांग्रेस पार्टी ‘विचारधारा विहीन’ हो गई है क्योंकि वह ‘केवल एक व्यक्ति नरेंद्र मोदी की रट लगाती है।

सुप्रीम कोर्ट का निर्णय, यूपीपीएससी की मुख्य परीक्षा 18 को 

The Supreme Court's decision, UPPSC's main examination, 18

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने 18 जून को होने वाली उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) की मुख्य परीक्षा पर रोक लगाने से गुरुवार को साफ इनकार कर दिया। इसके साथ ही शीर्ष अदालत ने प्रारंभिक परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं के पुनर्मूल्यांकन के इलाहाबाद उच्च न्यायालय के आदेश को भी रद्द कर दिया।

न्यायाधीश ललित और न्यायाधीश दीपक गुप्ता की अवकाशकालीन पीठ ने उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ यूपीपीएससी की अपील को स्वीकार किया था। पीठ ने कुछ छात्रों द्वारा दायर याचिका को खारिज कर दिया, जिनमें मुख्य परीक्षा पर रोक लगाने की मांग की गई थी और कहा गया था कि यूपीपीएससी ने उच्च न्यायालय के आदेश का पालन नहीं किया।

पीठ ने कहा है कि हम यूपीपीएससी की अपील को मंजूर करते हैं और उच्च न्यायालय के आदेश को रद्द करते हैं। मुख्य परीक्षा पर रोक लगाने की मांग करने वाली याचिकाएं खारिज की जाती हैं। शीर्ष अदालत ने कहा था कि अगर अदालतें प्रतिस्पर्धी परीक्षाएं आयोजित करवाने वाले प्राधिकारों के फैसलों में न्यायिक समीक्षा की अपनी शक्ति के बल पर दखल देती रहेंगी तो इससे परीक्षा की शुचिता खत्म हो जाएगी।

शीर्ष अदालत ने कहा कि परीक्षाएं आयोजित कराने वाले प्राधिकारों के फैसलों की न्यायिक समीक्षा को किस हद तक इजाजत दी जानी चाहिए यह तय करने के लिए एक सीमारेखा खींचे जाने की जरूरत है। अदालत कुछ छात्रों की याचिकाओं की सुनवाई कर रही थी, जिनमें यूपीपीएससी द्वारा आयोजित उच्च अधीनस्थ सेवा परीक्षा पर रोक लगाने अथवा उसे रद्द करने की मांग की गई थी।

छात्रों ने याचिका में आरोप लगाया था कि पिछले वर्ष आयोजित यूपीपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा में पूछे गए कई सवालों के जवाब गलत थे। उनका यह भी कहना था कि यूपीपीएससी ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय के 30 मार्च को आए आदेश का भी पालन नहीं किया। इसमें उसे प्रारंभिक परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं के पुनर्मूल्यांकन का निर्देश दिया गया था। मुख्य परीक्षा पहले टाल दी गई थी अब यह 18 जून को आयोजित होगी।

पाकिस्तान: उच्चतम न्यायालय ने चुनाव लडऩे के लिए मुशर्रफ को दी सशर्त अनुमति वापस ली

Pakistan: Supreme court withdraws conditional permission given to Musharraf for contesting elections

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के उच्चतम न्यायालय ने कोर्ट में पेश नहीं होने के बाद पूर्व सैन्य शासक परवेज मुशर्रफ को चुनाव लडऩे के लिए दी गई सशर्त अनुमति गुरुवार को वापस ले ली। कोर्ट ने गत सप्ताह उन्हें 25 जुलाई को प्रस्तावित आम चुनाव लडऩे की अनुमति दी थी जिसके बाद उन्होंने उत्तरी चित्राल जिले से अपना नामांकन पत्र दाखिल किया था।

कोर्ट ने हालांकि मुशर्रफ को सशर्त अनुमति दी थी कि वे उनकी आजीवन अयोग्यता से जुड़े मामले में 13 जून को कोर्ट के समक्ष पेश होंगे। मुख्य न्यायाधीश साकिब निसार ने कल पूर्व सेना प्रमुख को कोर्ट में पेश नहीं होने के लिए फटकार लगाई थी और गुरुवार दोपहर 2 बजे तक उन्हें पेश होने के लिए कहा था।

सुनवाई के दौरान उनके वकील कमर अफजल ने अदालत को बताया कि मुशर्रफ (74) का लौटना निर्धारित था लेकिन उनके लिए तुरन्त आना संभव नहीं था। अफजल ने कहा कि मैंने मुशर्रफ से बात की है , वह और समय चाहते है। वह पाकिस्तान आने की योजना बना रहे है लेकिन ईद की छुट्टियों और बीमारी की वजह, वे तुरंत यात्रा नहीं कर सकते है।

इसके बाद मुख्य न्यायाधीश ने अनिश्चितकाल के लिए सुनवाई को स्थगित कर दिया और कहा कि अगली सुनवाई तभी होगी जब याचिकाकर्ता इसके लिए तैयार होंगे। न्यायाधीश ने कहा कि ठीक है , हम अनिश्चितकाल तक अदालत की सुनवाई स्थगित कर देंगे , इसे आपकी इच्छा पर रखेंगे।

हालांकि उन्होंने मुशर्रफ को चुनाव लडऩे के लिए दी गई सशर्त अनुमति को वापस लेने के आदेश दिए। इससे पूर्व मुशर्रफ की ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एपीएमएल) ने ट्विटर पर कहा कि उनके (मुशर्रफ) के लौटने की तैयारियां अंतिम चरण में है। मुशर्रफ मार्च 2016 से दुबई में रह रहे है और कई मामलों में वांछित है। 

ट्रंप, किम का समझौता बना चीन की परेशानी का सबब 

Trump, Kim compromises China's trouble

सिंगापुर। अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप और उत्तरी कोरिया के चेयरमैन किम जोंग-उन की मुलाकात सिंगापुर में हुई। इसमें मुख्य बात यह निकल कर आई है कि किम जोंग ने पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण करने पर सहमति जता दी है। इसके साथ ही अमेरिका के राष्ट्रपति टंप ने किम को सुरक्षा की गारंटी प्रदान की है। यह मुलाकात चीन की परेशानी का सबब बनी हुई है।

क्योंकि हमेशा चीन उत्तरी कोरिया को साथ रखकर एशिया में दबदबा बनाए हुए था। चीन को यह दर्द सता रहा है कि किम जोंग -उन का पाला बदलकर चीन से हमेशा के लिए किनारा नहीं कर लें। यह एशिया महाद्वीप के लिए बहुत बड़ी घटना साबित होगी। क्योंकि अभी उत्तरी कोरिया चीन पर ही पूरे तरीके से निर्भर रहता है।

चीन यह भी जानता है कि संयुक्त राज्य अमेरिका अपने आप को विश्व में सर्वेसर्वा बनाए रखने के लिए उत्तरी कोरिया को बहुत कुछ आर्थिक सहायता कर सकता है। चीन का एशिया और विश्व में बढ़ते हुए प्रभाव को रोकने के लिए अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप कुछ भी करने को तैयार है।

क्योंकि वह जानता है अमेरिका के बाजार में भी लोगों को चीन के बनाए खिलौने बहुत पसंद हैं। इसने अमेरिका के मार्केट पर कब्जा कर रखा है। ट्रंप कई बार अपना गुस्सा व्यक्त कर चुके हैं कि चीन अपने उत्पादित वस्तुओं के बदौलत पूरे विश्व की अर्थव्यवस्था को चौपट करने पर तुला हुआ है।अमेरिका अब जानता है कि भारत भी दुनिया में शक्ति बनकर उभर रहा है। वह यह भी जानता है कि चीन को दबाव बनाए रखने के लिए भारत का सहयोग बहुत आवश्यक है। भारत भी परमाणु शक्तिशाली देश है और चीन से युद्ध होता है ऐसी स्थिति में वह भारत की भूमि का युद्ध के लिए उपयोग किया जा सकता है। 

Zero Teaser: सलमान और शाहरुख का ईद मुबारक कहने का ये अंदाज छू लेगा आपका दिल

Salman Khan and Shahrukh Khan says Eid Mubarak through Zero teaser

एंटरटेनमेंट डेस्क। ईद के मौके पर बॉलीवुड के सुल्तान कहे जाने वाले सलमान खान जहां अपने फैंस के लिए फिल्म रेस-3 का तोहफा देने जा रहे है वहीं शाहरुख खान कहा पिछे रहने वाले थे। भले ही उनकी कोई फिल्म ईद पर रिलीज ना हो लेकिन उन्होने ईद के ठीक एक दिन पहले अपने फैंस को एक ऐसा तोहफा दिया है जिसका शायद ही किसी ने अनुमान लगाया हो।

जी हां हम बात कर रहे है शाहरुख खान की इसी साल रिलीज होने वाली फिल्म जीरो की। जिसका टीजर रिलीज हो चुका हैं। फिल्म के टीजर ने आते ही इंटरनेट पर सनसनी मचा दी हैं। बता दें कि फिल्म जीरो में शाहरुख खान एक बौने के रुप में नजर आएंगे। ये पहली बार होने जा रहा है जब सलमान खान बौने का किरदार पर्दे पर निभा रहे हैं।  

वहीं इस टीजर की बात करे तो इस टीजर में शाहरुख खान बॉलीवुड के दबंग खान सलमान खान के साथ नजर आ रहे हैं। टीजर में सलमान और शाहरुख ईद की बधाई देते नजर आ रहे हैंं। दोनो की केमिस्ट्री सभी का दिल जीतने में कामयाब होती नजर आ रही हैं। गौरतलब है कि सलमान और शाहरुख के बीच का विवाद किसी से छुपा नहीं है एक वक्त था जब दोनों आमने सामने होते हुए भी अनदेखा करते थे लेकिन शायद ही किसी ने इन दोनों को सिल्वर स्क्रीन पर इस तरह से साथ आने की कल्पना की हो। 

आपको बता दें कि इस फिल्म का निर्देशन आनंद एल रॉय द्दारा किया जा रहा हैं। फिल्म की घोषणा के बाद से ही यह फिल्म लगातार सुर्खियां बटौर रही हैं। आपको बता दें कि इस फिल्म में कैटरीना कैफ और अनुष्का शर्मा भी लीड रोल में हैं।  इस फिल्म से पहले ये तिगड़ी जब तक है जान में साथ नजर आई थी। तीनों की ही ये दूसरी फिल्म हैं। वहीं शाहरुख और अनुष्का शर्मा की ये तीसरी फिल्म हैं। आपको बता दें कि अनुष्का ने बॉलीवुड में डेब्यू शाहरुख खान के साथ वाली फिल्म रब ने बना दी जोड़ी से किया था। 

इस कारण एक बार फिर सुर्खियों में है शाहरुख खान की बेटी सुहाना खान

Shah Rukh Khan's daughter Suhana Khan is once again in the limelight

एंटरटेनमेंट डेस्क। बॉलीवुड के बादशाह शाहरुख खान की बेटी सुहाना खान एक बार फिर सुर्खियों में बनी हुई हैं। आपको बता दें कि सुहाना खान अपनी लेटेस्ट तस्वीरों को लेकर सुर्खियां बटौर रही हैं। जी हां जिनके वायरल होने के बाद उनके बॉलीवुड में डेब्यू की खबर तेज हो गई हैं। 

आपको बता दें कि इन दिनों स्टारकिड्स अपने बॉलीवुड डेब्यू को लेकर बी टाउन में छाए हुए हैं। इस लिस्ट में सैफ अली खान की बेटी सारा अली खान, श्री देवी की बेटी जाह्हवी कपूर और चंकी पांडे की बेटी अनन्या पांडे जैसे नाम शामिल हैं। लेकिन अब लगता है कि जल्द ही इस लिस्ट में एक ओर नाम शामिल हो सकता हैं। हम बात कर रहे है शाहरुख खान की बेटी सुहाना खान की। 

जिनकी कुछ तस्वीरें इंटरनेट पर जबरदस्त वायरल हो रही हैं। वायरल हुई तस्वीरें सुहाना की मां गौरी खान ने सोशल मीडिया पर पोस्ट की हैं। जिनके बाद से ही वे लाइमलाइट में हैं। तस्वीरों पर नजर डाले तो इन तस्वीरों में बेटी सुहाना मां गौरी के साथ नजर आ रही हैं। सुहाना ने व्हाइट कलर की शॉर्ट ड्रेस पहनी हुई है जिसमें वे बेहद खूबसूरत नजर आ रही हैं। बताते चले कि ये तस्वीरें लंदन के एक क्लब की हैं। 

वैसे सुहाना खान के बॉलीवुड डेब्यू को लेकर पापा शाहरुख ने पहले ही खुलासा कर दिया है कि सुहाना का रुझान एक एक्ट्रेस बनने की ओर हैं। लेकिन पहले उसे अपनी पढ़ाई पूरी करनी होगी। आपको बता दें कि इस साल बॉलीवुड  में 3 स्टारकिड्स की एंट्री होने वाली हैं। जिनमें जाह्वी कपूर की फिल्म धड़क से, सारा अली खान की फिल्म केदारनाथ से और अनन्या पांडे की स्टूडेंट ऑफ द ईयर 2 से। इन्हें पर्दे पर देखना वाकई दिलचस्प होगा। 

अफगानिस्तान के खिलाफ टेस्ट के पहले ही दिन शिखर धवन ने रचा ये इतिहास!

Shikhar Dhawan joined Brightman club

खेल डेस्क। गुरुवार से अफगानिस्तान और भारत के बीच खेले जा रहे ऐतिहासिक मैच के पहले ही दिन सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने एक नया कारनामा कर दिया है। अफगानिस्तान के खिलाफ ऐतिहासिक टेस्ट मैच के शुरुआती दिन गुरुवार को शिखर धवन ने लंच से पहले शतक जडक़र भारतीय क्रिकेट में नया इतिहास रचकर उस विशिष्ट क्लब में जगह बनाई ली है जिसमें सर डॉन ब्रैडमैन जैसे महान क्रिकेटर शामिल हैं।

धवन ने लंच से पहले 104 रन बनाए और इस तरह से मैच के पहले दिन लंच से पूर्व शतक पूरा करने वाले वह पहले भारतीय बल्लेबाज बन गए है। यह उपलब्धि हासिल करने वाले धवन दुनिया के छठे बल्लेबाज हैं। टेस्ट क्रिकेट में सबसे पहले यह उपलब्धि ऑस्ट्रेलिया के विक्टर ट्रंपर ने हासिल की थी। उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ 1902 में मैनचेस्टर में पहले दिन लंच से पहले नाबाद 103 रन बनाए थे। वहीं ऑस्ट्रेलिया के ही चार्ली मैकार्टनी ने 1926 में इंग्लैंड के खिलाफ लीड्स में नाबाद 112 रन बनाए थे।

ब्रैडमैन इस सूची में शामिल होने वाले ऑस्ट्रेलिया के तीसरे बल्लेबाज बने। उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ 1930 में लीड्स में अपनी 334 रन की रिकॉर्ड पारी के दौरान 105 रन पहले दिन लंच से पूर्व बनाए थे। इसके बाद पाकिस्तान के माजिद खान ने न्यूजीलैंड के खिलाफ 1976 में कराची में नाबाद 108 रन जबकि ऑस्ट्रेलिया के डेविड वार्नर ने पाकिस्तान के खिलाफ 2017 में सिडनी में नाबाद 100 रन बनाए थे।

धवन से पहले भारत की तरफ से पहले दिन लंच से पूर्व सर्वाधिक रन बनाने का रिकॉर्ड वीरेंद्र सहवाग के नाम पर था। उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ 2006 में 99 रन बनाए थे। लेकिन अब शिखर धवन भारत की और से लंच से पहले सर्वाधिक रन बनाने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज बन गए हैं।

भारत के पूर्व कोच ने अफगानिस्तान की टीम को लेकर दिया ये बड़ा बयान

This big statement given to former India coach by Afghanistan team

खेल डेस्क। अफगानिस्तान आज भारत के खिलाफ एक ऐतिहासिक टेस्ट मैच खेल रहा है और यह टेस्ट मैच अफगानिस्तान के नजरिये से बहुत अहम मैच है क्योंकि पहली बार अफगानिस्तान की टीम टेस्ट मैचों में अपना पर्दापण करने जा रही है। लेकिन पूर्व भारतीय टीम के कोच लालचंद राजपूत ने अफगानिस्तान टीम को लेकर बड़ा बयान दिया है  पूर्व कोच लालचंद राजपूत ने कहा कि यह टीम के लिए एक भावनात्मक क्षण है क्योंकि वे भारत के खिलाफ अपना पहला टेस्ट मैच खेलते हैं लेकिन  समय ही बताएगा कि वे खेल के लंबे प्रारूप में कैसे सफल होते हैं।

उन्होंने आगे बताया कि "यह एक ऐतिहासिक परीक्षण मैच और अफगानिस्तान के खिलाड़ियों के लिए एक भावनात्मक क्षण है। अफगानिस्तान टीम के लोग और समर्थक इस महान आयोजन की उम्मीद कर रहे थे"अफगानिस्तान के स्पिनर रशीद खान और मुजीब-उर-रहमान छोटे प्रारूप में सफल रहे हैं लेकिन राजपूत का मानना ​​है कि केवल समय ही बताएगा कि क्या वे खेल के लंबे संस्करण में अपनी सफलता को दोहरा सकते हैं। "छोटे प्रारूप ने उन्होंने असाधारण रूप से अच्छा प्रदर्शन किया है और उन्हें लंबे प्रारूप से निपटना होगा और इसलिए उन्हें समय बिताना होगा। रशीद उनकी टीम में एक अच्छा गेंदबाज है, जो लंबे प्रारूप में समायोजित कर सकता है,लेकिन अलग गेंद से एक परीक्षण मैच  है"।  

56 वर्षीय ने कहा, "मैं वास्तव में उनके लिए खुश हूं, हमने वास्तव में इस स्थिति को पाने के लिए कड़ी मेहनत की है, और आशा है कि वे कड़ी मेहनत करेंगे।"राजपूत, जो अब जिम्बाब्वे के अंतरिम प्रमुख कोच हैं। अफगानिस्तान ने आज बेंगलुरु में भारत के खिलाफ एक दिवसीय टेस्ट मैच में अपनी टेस्ट यात्रा शुरू की। मुजीब ने आगे कहा कि "मुजीब अभी आया है, उसके पास एक सफल आईपीएल था। बल्लेबाजों को खेलने में समय लगेगा और मुख्य बात यह है कि एक गेंदबाज को धैर्य रखना पड़ता है"। 

जियो नुकसान उठाकर भी दे रही उपभोक्ताओं को आकर्षक ऑफर

Deliverable offer of consumers giving up loss

कोलकाता। जियो कम्पनी अपनी आक्रामक प्राइसिंग रणनीति के बदौलत प्रतिद्वंद्वी टेलिकॉम कम्पनियों का बाजार छीनने पर तुली हुई है। जियो पहले ही तीसरा नम्बर आईडिया कम्पनी को दखेलकर हासिल किया है। इसके लिए अल्पकालीन आमदनी का नुकसान भी उठाने को लगभग तैयार है।

बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच ने बताया है कि जियो के औसत राजस्व पर उपभोक्ता (एआरपीयू) में वित्त वर्ष 2019 की पहली तिमाही में नाममात्र की गिरावट आ सकती है कम्पनी के नए टैरिफ प्लान देखने पर पता चलता है कि वह नए स्मार्टफोन उपभोक्ता को आकर्षित करने के लिए कम कीमत में ज्यादा डेटा देने की स्थिति बनाया रखना चाहती है।

अमेरिकी ब्रोकरेज फर्म ने बताया कि भारत में हर महीने करीब 1 करोड़ स्मार्टफोन बेचे जा रहे हैं। यह अनुमान है कि जियो हर महीने 60 लाख नए स्मार्टफोन उपभोक्ता को सदस्य बनाने में कामयाब हो रही है। यह उसके बहुत बड़े मार्केट शेयर को दिखाने की एक झलख है, इसे कम कीमत में ज्यादा डेटा देने का लगातार फायदा मिल रहा है।

बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच का मानना है कि जियो का 399 रुपए का रिचार्ज पैक सबसे ज्यादा लोकप्रिय डेटा पैक साबित हो रहा है। इसमें 1जीबी 4जी डाटा सिर्फ 1.6 रुपए में मिलता  है, जो भारती एयरटेल के 2.3 रुपए में 1 जीबी डेटा प्राप्त होता है। इससे लगता है कि जीयो भारती एयरटेल से काफी सस्ता है। जियो ने अपने टैरिफ प्लान में काफी बदलाव किया गया है।

कम्पनी अब जून तक रिचार्ज कराने वाले प्रीपेड उपभोक्ता को रोजाना 1.5 जीबी अतिरिक्त 4जी डेटा ऑफर कर रही है। जियो के इस निर्णय से टेलिकॉम मार्केट में उथल-पुथल की स्थिति बनी हुई है। बाकि कम्पनियों को समझ में नहीं आ रहा है कि क्या किया जाए। विश्लेषकों का कहना है कि  पिछले कुछ हफ्तों में भारती एयरटेल, वोडाफोन इंडिया और आइडिया सेल्युलर ने किफायती बाउचर लाकर जियो के बराबर लाने में सफलता पाप्त कर ली थी। ये ऑफर जियो जैसे या उससे अच्छे थे। 

139 अंक की गिरावट के साथ बंद हुआ सेंसेक्स

Sensex closes 139 points down

मुंबई। घरेलू शेयर बाजार में आज कारोबार की शुरुआत गिरावट के साथ लाल निशान पर हुई और कारोबार की समाप्ति पर भी ये लाल निशान पर ही बंद हुआ। गिरावट के माहौल में कारोबार की समाप्ति पर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 139.34 अंक यानि 0.39 प्रतिशत की गिरावट के साथ 35,599.82 के स्तर पर बंद हुआ।

वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का पचास शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 48.65 अंक यानि 0.45 प्रतिशत की गिरावट के साथ 10,808.05 के स्तर पर बंद हुआ। गौरतलब है कि बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स बुधवार को 47 अंक की बढ़त के साथ 35,739.16 अंक पर बंद हुआ। सॉफ्टवेयर निर्यातक तथा स्वास्थ्य सेवा से जुड़ी कंपनियों के शेयरों की अगुवाई में यह तेजी आई।

विनिर्माण तथा खनन क्षेत्रों में अच्छे प्रदर्शन से इस साल अप्रैल में औद्योगिक उत्पादन में 4.9 प्रतिशत की वृद्धि की खबर से लिवाली गतिविधियां देखी गई। हालांकि खाद्य वस्तुओं के दाम बढ़ने से मई में खुदरा मुद्रास्फीति बढ़कर 4.87 प्रतिशत होने से चिंता बढ़ी है। तीस शेयरों वाला सूचकांक मजबूती के साथ खुला और घरेलू संस्थागत निवेशकों की सतत लिवाली से एक समय 35,877.41 अंक के उच्च स्तर पर पहुंच गया।

कारोबार के दौरान यह 10,893.25 से 10,842.65 अंक के दायरे में रहा। वैश्विक स्तर पर एशिया के बाजारों में मिला-जुला रुख रहा जबकि शुरूआती कारोबार में यूरोप के प्रमुख बाजारों में तेजी देखी गई। निवेशकों को अमेरिकी फेडरल रिजर्व के नीति निर्णय की प्रतीक्षा है।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 
loading...

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.