19 फरवरी : बस एक क्लिक में पढ़िए, दिनभर की 10 बड़ी खबरें

Samachar Jagat | Tuesday, 19 Feb 2019 05:15:43 PM
19 February top 10 news

पुलवामा हमले की साजिश जैश, आईएसआई ने रची, बंदूक उठाने वालों को बख्शा नहीं जाएगा : कोर कमांडर

Plot of militant attack on Pulwama

श्रीनगर। सेना ने कहा है कि पुलवामा आतंकवादी हमले की साजिश जैश-ए-मोहम्मद और पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने रची थी और बंदूक उठाने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। हमले के पांच दिन बाद सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को यह बात कही। पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आतंकवादी हमले में सरआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे।

चिनार कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल के जे एस ढिल्लन ने कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक एस पी पाणि और सीआरपीएफ के महानिरीक्षक जुल्फिकार हसन के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में यह बात कही। ढिल्लन ने कहा कि उन्होंने सभी कश्मीरी आतंकवादियों की माताओं से कहा है कि वे अपने बेटों को आत्मसमर्पण करने के लिए तैयार करें।

अधिकारी ने कहा कि बंदूक उठाने वाले किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा। ढिल्लन के अनुसार सुरक्षाबल 14 फरवरी को हुए हमले के बाद से ही जैश के शीर्ष आकाओं का पता लगा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमने पुलवामा हमले को अंजाम देने वाले शीर्ष कमांडर को ढेर कर दिया है। पुलवामा जिले के पिगलान क्षेत्र में सोमवार को 16 घंटे तक चली मुठभेड़ में जैश के तीन आतंकवादी ढेर कर दिए गए। वहीं, सेना का एक मेजर और पांच अन्य लोग भी मुठभेड़ में मारे गए। मुठभेड़ 14 फरवरी को हुए हमले की जगह से करीब 12 किलोमीटर दूर हुई थी। 

सिद्धू जी अपने दोस्त इमरान भाई को समझाएं: दिग्विजय सिंह

Sidhu should explain to his friend Imran Bhai: Digvijay Singh

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और एमपी के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने जम्मू कश्चमीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले को लेकर पंजाब के मंत्री और अपनी पार्टी के नेता नवजोत सिंह सिद्धू पर निशाना साधा है। दिग्विजय​ सिंह ने कहा कि नवजो​त सिंह सिद्धू जी अपने दोस्त इमरान भाई को समझाएं। उनकी वजह से आपको गालियां पड़ रही है। दिग्विजय ने कश्मीर समस्या के लिए सभी पार्टियों को एकजुट होकर रोडमैप बनने की आवश्कता पर जोर दिया। 

आपको बता दें कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने एक के बाद एक ​ट्वीट कर अपनी राय दी। पाक के पीएम इमरान को लेकर दिग्विजय ने ट्वीट किया कि पाकिस्तान के श्रीमान प्रधानमंत्री कमआन! कुछ साहस दिखाएं और आतंक के स्वघोषित सरगना मसूद अजहर और हाफिज सईद को भारत को सौपे। ऐसा करने आप न केवल पाकिस्तान को आर्थिक संकट से निकालने में सफल होंगे बल्कि नोबेल शांति पुरस्कार के भी प्रबल दावेदार बन जाएंगे। 

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के जवानों पर आतंकी हमला हुआ था। इस हमले में करीब 44 जवान शहीद हो गए और कई घायल भी हुए। इस हमले के बाद कांग्रेस के नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने इस पर बयान दिया था। जिसके बाद सिद्धू की काफी आलोचना हुई थी । इसके बाद वे द कपिल शो से भी बाहर हो गए। इस हमले पर सिद्धू ने कहा कि क्या कुछ लोगों की करतूत के लिए पूरे देश को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है? कुछ लोगों के लिए क्या आप पूरे देश को जिम्मेदार ठहरा सकते है और क्या आप किसी व्यक्ति को जिम्मेदार ठहरा सकते हो? 

पुलवामा हमले के बाद पाक के पीएम इमरान खान बोले, हम हर जांच के लिए तैयार

After the Pulwama attack Pak's Imran Khan said, we are ready for every inquiry

नई दिल्ली। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने मंगलवार को जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले पर अपना बयान दिया है। वे रेडियो पाकिस्तान के माध्यम से अपनी बात रख रहे है। पाक के पीएम इमरान खान ने अपने आपको बेगुनाह बताया है। इमरान ने बताया कि पुलवामा आतंकी हमले पर बिना किसी सबूत के उस पर इल्जाम लगया गया है। पाक पीएम ने कहा कि अगर भारत किसी भी तरह की जांच कराना चाहता है तो उसके लिए वो तैयार हैं। 

प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि अगर उन्हें मिलिट्री इं​टेलिजेंस की खबर है। तो वह बताएं उसके खिलाफ उनकी सरकार कार्रवाई करेगी। तो वहीं पुलवामा हमले पर बात करते हुए इमरान ने कहा कि पाकिस्तान को इससे क्या फायदा है? क्यू पाकिस्तान करेगा, इस स्टेज के ऊपर जब पाकिस्तान स्टेबिलिटी की तरफ जा रहा है? इसके बाद इमरान ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि यह हमारे हित में है कि हिंसा फैलाने के लिए कोई शख्स हमारी धरती की इस्तेमाल न करे। 

इमरान खान ने कहा कि मैं भारत सरकार से यह कहना चाहता हूं कि पाकिस्तान के अगर किसी शख्स के खिलाफ सबूत मिलता है तो हमारी सरकार कार्रवाई करेगी। पाक पीएम ने कहा कि जब भी हम डॉयलाग की बात करते हैं तो भारत की बात होती है कि दशहतगर्दी पार बात करे। पाकिस्तान वो मुल्क है जो सबसे ज्यादा प्रभावित है। सौ अरब से ज्यादा पाक का नुकसान हुआ है और सत्तर हजार लोग आतंकवाद से मारे गए है। 

पाक पीएम ने कहा कि कश्मीर से पहले बात करने को तैयार। बातचीत से मसला हल होगा। हम आतंक पर बात करने को तैयार है। अगर आप सोच रहे है कि आप पाक पर हमला करेंगे तो पाकिस्तान भी पीछे नहीं रहेगा। हम पीछे नहीं हटेंगे। हम दहशतगर्दी की बात करेंगे। हम युद्ध का पूरा जवाब देंगे।

दीवार मुद्दे को लेकर आपातकाल लगाने पर ट्रम्प के खिलाफ 16 राज्यों ने किया मुकदमा

16 cases against Trump on litigation against wall issue

सैन फ्रांसिस्को। अमेरिका के 16 राज्यों ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन के खिलाफ मुकदमा दायर किया है। यह मुकदमा मेक्सिको के साथ लगने वाली दक्षिणी सीमा पर दीवार बनाने के लिए राष्ट्रीय आपातकाल घोषित करने के ट्रंप के फैसले के खिलाफ किया गया है। ट्रंप के इस कदम को 16 राज्यों ने संविधान का उल्लंघन बताया है।

कैलिफोर्निया की संघीय अदालत में दायर वाद में कहा गया है कि राष्ट्रपति का आदेश वैधानिक प्रक्रियाओं को दर्शाने वाली प्रस्तुतीकरण उपधारा और विनियोग उपधारा के उलट है जो कांग्रेस को सार्वजनिक निधि का अंतिम निर्णायक परिभाषित करती है। कई रिपब्लिकन नेताओं ने आपातकाल घोषणा की  निंदा की और कहा है कि यह एक खतरनाक उदाहरण पेश करने के साथ ही कार्यकारी असफलता को दर्शाने जैसा है। कैलिफोर्निया, कोलोराडो, कनेक्टिकट, देलावेयर, हवाई, इलिनोइस, माइन, मेरीलैंड, मिशिगन, मिनेसोता, नेवाडा, न्यू जर्सी, न्यू मेक्सिको, न्यूयॉर्क, ओरेगन और वर्जीनिया इस मुकदमे में पक्ष बने हैं।

शिकायत में यह भी कहा गया है कि गृह मंत्रालय ने कैलिफोर्निया एवं न्यू मेक्सिको में दीवार के पर्यावरणीय प्रभाव का मूल्यांकन नहीं करके राष्ट्रीय पर्यावरण नीति कानून का उल्लंघन किया है। इस मुकदमे में शामिल सभी राज्यों के अटॉर्नी जनरल डेमोक्रेटिक पार्टी के हैं। ट्रंप ने शुक्रवार को आपातकाल की घोषणा कर दी थी ताकि वह कांग्रेस की मंजूरी मिले बिना ही दीवार बनाने के लिए पेंटागन तथा अन्य स्रोतों के बजट का इस्तेमाल कर सकें। ट्रंप पर आरोप लगाया गया है कि वह ऐसा करके संकट पैदा कर रहे हैं और उनकी घोषणा असंवैधानिक एवं गैरकानूनी है।

नवजोत सिंह सिद्धू के बाहर होने के बाद पहली बार कपिल शर्मा ने दिया बयान, मच गया बवाल

For the first time, after the exit of Navjot Singh Sidhu, the statement given by Kapil Sharma

एंटरटेमेंट डेस्क। नवजोत सिंह सिद्धू को द कपिल शर्मा शो से निकाल दिया गया है। उन्होंने पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद एक बयान दिया ​था। सिद्धू के इस बयान पर बवाल खडा हो गया। इसके बाद उनको द कपिल शर्मा शो से निकाल दिया गया। अब उनकी जगह अर्चना पूरन सिंह ने ले ली है। तो वहीं अब इस मामले में पहली बार कपिल शर्मा ने अपना बया न दिया है। कपिल ने कहा कि सिद्धू को शो ​से निकालना समस्या का सामाधान नहीं है। 

कपिल शर्मा ने चंडीगढ़ में मीडिया से बात करते हुए कहा कि मुझे लगता है कि ठोस हल निकलना चाहिए। यह छोटी—छोटी चीजें होती है। उसके बैन कर दो उसको निकाल दो। अगर सिद्धू जी को शो से निकालने से इस मसले का हल हो जाता तो सिद्धू जी खुद समझदार है। खुद ही चले जाएंगे। तो यह गुमराह किा जाता है लोगो को। हैशटैग चला देते है, बॉयकॉय सिद्धू या बायकॉट कपिल शर्मा शो।

मुझे लगता है कि यार मुद्दे की बात करो और वाकई में समस्या है तो उस पर फोकस करो। ना कि इधर की इधर उधर भटकाकर आप लोग यूथ का ध्यान डायवर्ट कर रहे हो, ताकि हम लोग असली मुद्दे से हट जाए। आपको बता दें कि कपिल शर्मा चंडीगढ़ में ड्रग्स के खिलाफ आयोजित किए गए एक कार्यक्रम में भग लेने गए हुए थे। तो वहीं कपिल शर्मा के इस बयान के बाद हंगामा मचना शुरू हो गया है। क्योकि सियासी दलों से जुडे लोग उनके बहिष्कार की बाते कर रहे है। तो चैनल को अनसब्सक्राइब करने की बात कर रहे है। जिस पर द कपिल शर्मा शो प्रसारित होता है। तो वहीं बॉयकॉट कपिल शर्मा हैशटैग एक बार फिर से ट्विटर पर ट्रेंड होने लगा है। 

ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान की असफलता पर कटरीना ने तोड़ी चुप्पी, कहा-ज्यादा भावनात्मक होने की जरूरत नहीं

Need to be emotional for the Thugs of hindusthan : Katrina

मुंबई। बॉलीवुड की बार्बी गर्ल कैटरीना कैफ का कहना है कि उन्हें फिल्म ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान की असफलता पर अधिक भावनात्मक होने की जरूरत नहीं है। वर्ष 2018 में यशराज बैनर तले बनी फिल्म ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान में आमिर खान, अमिताभ बच्चन, कैटरीना कैफ और फातिमा सना शेख ने काम किया था।

मूवी बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट साबित नहीं हुई। कैटरीना ने कहा कि फिल्म में मैंने जो भी काम किया है उसकी मैं ईमानदारी से जिम्मेदारी लेती हूं लेकिन यह मेरी फिल्म नहीं थी। फिल्म में मेरे दो गाने और कुछ सीन थे, मैं फिल्म का बड़ा हिस्सा नहीं थी इसलिए मुझे इस फिल्म के लिए इतना भावनात्मक होने की जरूरत नहीं है।

कैटरीना ने कहा कि मुझे आमिर खान और आदित्य चोपड़ा के लिए बहुत बुरा लगा क्योंकि वे मेरे अच्छे दोस्त है। मुझे पता है कि वह फिल्म को लेकर कितने सीरियस थे। निर्देशक विजय कृष्ण आचार्य भी मेरे प्रिय दोस्त हैं। हमने सब कुछ ठीक किया था लेकिन पता नहीं, सब गलत क्यों हो गया। कैटरीना इन दिनों अली अब्बास जफर की फिल्म भारत में बिजी हैं। इसमें वह सलमान खान के अपोजिट नजर आएंगी। यह फिल्म इस साल ईद पर रिलीज होगी। यह फिल्म कोरियन फिल्म ओड टु माई फादर की ऑफिशियल रीमेक है।

IPL 2019: शुरूआती दो हफ्ते का शेड्यूल हुआ जारी, 23 मार्च को होगा पहला मैच

IPL 2019: Initial two weeks of schedule will continue, March 23 will be the first match

स्पोटर्स डेस्क। IPL 2019 के शुरूआती दो सप्ताह के कार्यक्रम का शेड्यूल मंगलवार को जारी हो गया है। बाकि बचे मैचों के कार्यक्रम का शेड्यूल आगामी आम चुनाव की तारीखों के बाद जारी  किया जा सकता है। इस बात की जानकारी आईपीएल के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर दी गई है। IPL के 12वें सीजन का पहला मैच 23 मार्च को चेन्नई सुपरकिंग्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के बीच खेला जाएगा।  तो वहीं इसके बाद में 24 मार्च को दो मैच खेले जाएंगे। इनमें पहला मैच कोलकाता नाइटराइडर्स और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच खेला जाएगा। 

तो शाम को मुंबई इंडियंस का मुकाबला दिल्ली कैपिटल्स से होगा। इसके बाद 25 मार्च को महज एक मैच खेला जाएगा जो कि राजस्थान रॉयल्स और पंजाब के बीच जयपुर में खेला जाएगा। इस साल देश में लोकसभा चुनाव होने है। इन चुनावों को देखते हुए आईपीएल के शुरूआती दो हफ्तों के कार्यक्रम का ऐलान किया गया है। 

आपको बता दें​ कि आईपीएल के 23 मार्च से 25 अप्रैल तक के शेड्यूल के इस कार्यक्रम का ऐलान किया गया है। पहले इन चुनावों को देखते हुए कयास लगाया जा रहा था कि IPL 2019 विदेश में खेला जा सकता है। लेकिन बीसीसीआई ने आयोजन 23 मार्च से शुरू करने का फैलसा कर इस पर विराम लगा दिया था। लेकिन वहीं आमतौर पर देखा जाए तो आइपीएल का आयोजन अप्रैल माह के पहले सप्ताह में किया जाता है। 

इससे पहले बीसीसीआई ने कहा था कि केंद्र और राज्य की एजेंसियों से बातचीत होने के बाद हमने फैसला किया है कि IPL 12वां सीजन पूरी तरह से भारत में ही खेला जाएगा। चुनाव को ध्यान में रखकर ही पूरे शेड्यूल का ऐलान होगा और पूरा IPL सीजन इस बार आइपीएल भारत में ही खेला जाएगा। 

सानिया मिर्जा बोलीं, 14 फरवरी देश के लिए काला दिन

Sania Mirza said, black day for the country on February 14

नई दिल्ली। भारत की स्टार टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा ने पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर हुए आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा करते हुए इसे भारत के लिए काला दिन करार दिया है। सानिया ने ट्वीट कर कहा कि मैं सीआरपीएफ के जवानों और शहीदों के परिवार के साथ हूं। 14 फरवरी का दिन भारत के लिए काला दिन था।

मैं दुआ करती हूं कि फिर कभी ऐसा दिन नहीं आए। इस घटना की जितनी निंदा की जाए उतनी कम है। सानिया के इस पोस्ट के बाद सोशल मीडिया में कुछ लोगों ने उन्हें जमकर ट्रोल किया। इस पर उन्होंने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि हस्तियों को अपनी राष्ट्रभक्ति साबित करने के लिए सार्वजनिक तौर पर संवेदना व्यक्त करने की जरुरत नहीं है।

सानिया ने ट्विटर पर एक पोस्ट जारी करते हुए लिखा, यह पोस्ट उन लोगों के लिए है जो सोचते हैं कि हस्तियों को अपनी राष्ट्रभक्ति साबित करने के लिए ट्विटर और इंस्टाग्राम पर निंदा करनी चाहिए। क्यूं क्योंकि हम हस्ती हैं। कुछ लोग सोशल मीडिया पर लोगों को निशाना बनाकर अपनी हताशा निकालते हैं और देश में नफरत फैलाते हैं।

उन्होंने कहा कि मुझे सार्वजनिक तौर पर निंदा करने की कोई आवश्यकता नहीं है और ना ही सोशल मीडिया पर पोस्ट डालकर यह बताने की जरुरत है कि हम आतंकवाद के खिलाफ है। निस्संदेह हम आतंकवाद के खिलाफ हैं और हम उस व्यक्ति के भी खिलाफ है जो यह काम करता है। जो सही सोच वाला व्यक्ति है वह हमेशा आतंकवाद के खिलाफ होगा और यदि कोई ऐसा नहीं करता है तब यह एक समस्या है। सानिया ने कहा कि मैं मानती हूं कि यह दिन भूला नहीं जा सकता और ना ही हमें भूलना चाहिए।

लेकिन मैं प्रार्थना करती हूं कि शांति बनी रहे और आपको भी नफरत फैलाने के बजाए शांति के लिए प्रार्थना करनी चाहिए। गुस्सा जाहिर करना अच्छी बात है लेकिन उससे कुछ सकारात्मक हो तब आप गुस्सा जाहिर करेंगे तो ज्यादा अच्छा होगा। टेनिस स्टार ने कहा कि आप लोगों को ट्रोल करके कुछ भी नहीं हासिल कर सकते।

इस दुनिया में कहीं भी आतंकवाद के लिए कोई स्थान नहीं है और ना ही होगा। अपने देश के लिए कुछ करिए ना कि सोशल मीडिया के पोस्ट पढ़कर लोगों को आंकने का काम करें। सानिया ने कहा कि आप अपना कर्तव्य करो हमें सोशल मीडिया पर पोस्ट नहीं करके भी अपना काम कर सकते हैं। प्रार्थना और शांति। गौरतलब है कि सानिया के पति शोएब मलिक पाकिस्तान के क्रिकेटर हैं।

सरकार को अंतरिम लाभांश के तौर पर 28,000 करोड़ रुपये देगा रिजर्व बैंक

RBI to give Rs 28,000 crore as interim dividend to the government

नयी दिल्ली। रिजर्व बैंक अंतरिम लाभांश के रूप में सरकार को 28,000 करोड़ रुपये का भुगतान करेगा। आरबीआई के इस कदम से केंद्र सरकार को राजकोषीय घाटे को काबू में रखने में मदद मिलेगी। केंद्रीय बैंक ने सोमवार को उसके केंद्रीय निदेशक मंडल की बैठक के बाद यह घोषणा की है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बैंक के निदेशक मंडल की बैठक को संबोधित किया।

यह लगातार दूसरा साल है जब रिजर्व बैंक अंतरिम अधिशेष हस्तांतरित कर रहा है। यह अगस्त 2018 में रिजर्व बैंक द्वारा 2017-18 के लिये (आरबीआई का वित्त वर्ष जुलाई से जून होता है) घोषित 50,000 करोड़ रुपये का अधिशेष हस्तांतरित करने की घोषणा के अतिरिक्त है। इसमें से 10,000 करोड़ रुपये अंतरिम लाभांश के रूप में सरकार को 27 मार्च 2018 को दिये गये। 

केन्द्रीय बैंक ने एक बयान में कहा, ‘‘सीमित आडिट तथा वर्तमान आॢथक पूंजी रूपरेखा की समीक्षा के बाद निदेशक मंडल ने 31 दिसंबर 2018 को समाप्त छमाही के लिये अंतरिम अधिशेष के रूप में केंद्र सरकार को 28000 करोड़ रुपये हस्तांतरित करने का निर्णय किया है। आरबीआई ने 2017-18 में सरकार को 30,663 करोड़ रुपये लाभांश के रूप में दिया था।

इससे पहले, केंद्रीय निदेशक मंडल की बैठक को संबोधित करते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पिछले चार साल में सरकार द्वारा किये गये विभिन्न सुधारों और नीतिगत उपायों तथा उसके प्रभावों को रेखांकित किया। केंद्रीय बैंक आरबीआई कानून, 1934 की धारा 47 के तहत अधिशेष राशि देता है।

बजट दस्तावेज के अनुसार सरकार आरबीआई, राष्ट्रीयकृत बैंकों तथा वित्तीय संस्थानों से 2019-20 के दौरान 82,911.56 करोड़ रुपये के अधिशेष / लाभांश की अपेक्षा कर रही है। बयान के अनुसार आरबीआई गवर्नर शक्तिकंात दास की अध्यक्षता में केंद्रीय निदेशक मंडल ने पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों के सम्मान में दो मिनट का मौन रखा।

केंद्रीय बैंक के अधिशेष हस्तांतरण से सरकार को राजकोषीय घाटे को काबू में रखने में मदद मिलेगी। सरकार ने 2018-19 के लिये राजकोषीय घाटा थोड़ा अधिक 3.4 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया है।

कारोबार की समाप्ति तक बढ़त बनाए रखने में नाकामयाब रहा शेयर बाजार

Sensex - Nifty closing on red mark

इंटरनेट डेस्क। घरेलू शेयर बाजार आज सुबह बढ़त के साथ हरे निशान पर खुला और कारोबार की समाप्ति तक ये बढ़त बनाए रखने में नाकामयाब रहा। कारोबार के अंत में प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स और निफ्टी दोनों की गिरावट के साथ बंद हुए। गिरावट के इस माहौल में कारोबार की समाप्ति पर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 145.83 अंक यानि 0.41 प्रतिशत की गिरावट के साथ 35,352.61 अंक के स्तर पर बंद हुआ। सेंसेक्स की तरह ही नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के पचास शेयरों वाले निफ्टी पर भी कारोबार की समाप्ति पर गिरावट हावी रही और ये 36.60 अंक यानि 0.34 प्रतिशत की गिरावट के साथ 10,604.35 अंक के स्तर पर बंद हुआ।

गौरतलब है कि कल के कारोबार के दौरान शेयर बाजार गिरावट के साथ लाल निशान पर खुला और ​लाल निशान पर ही बंद हुआ। कारोबार की शुरूआत में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( बीएसई ) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 157.03 अंक यानि 0.44 प्रतिशत की गिरावट के साथ 35,651.92 के स्तर पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर ये 310.51 अंक यानि 0.87 प्रतिशत की गिरावट के साथ 35,498.44 अंक के स्तर पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ( एनएसई ) का पचास शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी कारोबार की शुरूआत में 44.35 अंक यानि 0.41 प्रतिशत की गिरावट के साथ 10,680.05 के स्तर पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर ये 83.45 अंक यानि 0.78 प्रतिशत की गिरावट के साथ 10,640.95 अंक के स्तर पर बंद हुआ।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.