22 मार्च : बस एक क्लिक में पढ़िए, दिनभर की 10 बड़ी खबरें

Samachar Jagat | Friday, 22 Mar 2019 04:38:53 PM
22 March top 10 news

लोकसभा चुनाव : भाजपा की पहली सूची में राजस्थान के 14 मौजूदा सांसदों का नाम

Lok Sabha elections: Name of 14 existing MPs of Rajasthan in first list of BJP

जयपुर। भारतीय जनता पार्टी ने राजस्थान में अपने 14 मौजूदा सांसदों को आगामी लोकसभा चुनाव में एक बार फिर समर में उतारने का फैसला किया है जिनमें चार केंद्रीय मंत्री शामिल हैं। भाजपा ने आम चुनावों के लिए 184 प्रत्याशियों की सूची बृहस्पतिवार को नई दिल्ली में जारी की जिसमें राजस्थान के लिए 16 प्रत्याशी घोषित किए गए हैं।

राज्य में लोकसभा की कुल 25 सीटें हैं। राज्य के लिए पार्टी की सूची में एक नया नाम नरेंद्र खीचड़ का है जिन्हें पार्टी ने झुंझुनू सीट पर प्रत्याशी बनाया है। बीजेपी ने मौजूदा सांसद संतोष अहलावत को इस बार इस सीट पर मौका नहीं दिया है। खीचड़ फिलहाल मंडावा से विधायक हैं। बीजेपी ने केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल (बीकानेर), राज्यवर्धन सिंह राठौड़ (जयपुर ग्रामीण), पी पी चौधरी (पाली) और गजेंद्र सिंह शेखावत (जोधपुर) का नाम भी अपनी पहली सूची में शामिल किया है।

राजनीतिक जानकारों के मुताबिक इनमें से कई नामों को पहली सूची में शामिल कर पार्टी आलाकमान ने कार्यकर्ताओं तक स्पष्ट संदेश देने की कोशिश की है क्योंकि चौधरी तथा मेघवाल का उनकी सीटों पर कार्यकर्ताओं का एक वर्ग स्पष्ट रूप से विरोध कर रहा था। इस तरह की अटकलें भी थीं कि इनकी सीटें बदली जा सकती हैं।

वहीं पार्टी ने गंगानगर सीट पर मौजूदा सांसद निहाल चंद पर भी भरोसा जताया है। पार्टी ने सीकर से सुमेधानंद सरस्वती, जयपुर से रामचरण बोहरा, टोंक सवाई माधोपुर से सुखबीर सिह जौनपुरिया, जालोर से देवजी पाटिल, उदयपुर से अर्जुन मीणा, चित्तौड़गढ़ से चंद्रप्रकाश जोशी, भीलवाड़ा से सुभाष बहेरिया, कोटा से ओम बिड़ला और झालावाड़ बारां से दुष्यंत सिंह को अपना प्रत्याशी बनाया है। ये सभी मौजूदा सांसद हैं। दुष्यंत सिंह पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के पुत्र हैं।

जयपुर से सांसद रामचरण बोहरा ने अपने नाम की घोषणा के बाद कहा कि पार्टी ने एक बार फिर मुझ पर भरोसा जताया है और इसकी वजह वह काम है जो मैंने अपने इलाके में किया। पिछली बार मैं सबसे अधिक वोटों से जीता और इस बार भी मुझे इसी तरह की जीत की उम्मीद है। उल्लेखनीय है कि जयपुर के पूर्व राजघराने की सदस्य दीयाकुमारी जयपुर और टोंक सवाई माधोपुर सीट से दावेदारी कर रही हैं। लेकिन अभी उन्हें टिकट नहीं दिया गया है।

भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष मदन लाल सैनी ने कहा है कि पार्टी का लक्ष्य मिशन 25 के तहत सभी सीटें जीतना है। पार्टी बाकी बची सीटों के लिए भी अपने प्रत्याशियों की सूची जल्द जारी करेगी। पार्टी ने अजमेर सीट पर भागीरथ चौधरी को अपना प्रत्याशी बनाया है। उपचुनाव में यह सीट कांग्रेस के रघु शर्मा ने जीती थी। हालांकि रघु शर्मा अब विधायक और राज्य सरकार में मंत्री हैं। राजस्थान में लोकसभा की कुल 25 सीटें हैं। राज्य में लोकसभा चुनाव दो चरणों में होंगे।

पहले चरण में 29 अप्रैल को 13 सीटों पर और छह मई को 12 सीटों पर चुनाव होगा। तय कार्यक्रम के अनुसार टोंक सवाई माधोपुर, अजमेर, पाली, जोधपुर, बाड़मेर, जालोर, उदयपुर, बांसवाड़ा, चित्तौड़गढ़, राजसमंद, भीलवाड़ा, कोटा और झालावाड़ बारां सीट के लिए 29 अप्रैल को मतदान होगा। वहीं राज्य की गंगानगर, बीकानेर, झुंझुनू, सीकर, जयपुर ग्रामीण, जयपुर, अलवर, भरतपुर, करौली धौलपुर, दौसा और नागौर सीट के लिए छह मई को मतदान होगा।

प्रियंका का उप्र में कोई प्रभाव नहीं, मोदी को फिर मिलेगा जनादेश : भूपेन्द्र यादव

Priyanka has no influence in UP, Modi will get mandate again: Bhupendra Yadav

नई दिल्ली। बीजेपी के महासचिव भूपेन्द्र यादव ने लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में प्रियंका गांधी वाड्रा के प्रभाव को अधिक तवज्जो नहीं देते हुए कहा है कि वह पिछले चुनावों में  भी इस राज्य में चुनाव प्रचार में करती रही हैं। यह पूछे जाने पर कि चुनावी समर में प्रियंका के आने से उत्तर प्रदेश सहित अन्य क्षेत्रों में क्या प्रभाव पड़ेगा, भाजपा महासचिव ने कहा कि मुझे कोई प्रभाव नहीं दिखता। वह पहले भी प्रचार अभियान में शामिल रही हैं।

प्रियंका गांधी पिछले कई चुनाव में अमेठी एवं रायबरेली सीटों पर अपने भाई राहुल गांधी एवं मां सोनिया गांधी के लिए प्रचार करती रही हैं। यादव ने भाषा से विशेष बातचीत में कहा कि देश की जनता नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में निर्णायक एवं प्रगतिशील सरकार को फिर जनादेश देने का मन बना चुकी है। उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस की साख लगातार घटी है। कांग्रेस नकारात्मक एजेंडे को लेकर चल रही है और राहुल गांधी समेत उसके नेताओं के आरोप लगातार झूठे साबित हो रहे हैं।

भाजपा नेता ने सपा-बसपा गठबंधन में कांग्रेस को शामिल नहीं किए जाने का उल्लेख करते हुए कहा कि जिनकी साख ही नहीं बची, उन्हें गठबंधन में लेने को भी कोई तैयार नहीं है। यादव ने दावा किया कि विपक्षी दल अपने विराधाभासों से घिरे हुए हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, दिल्ली, आंध्रप्रदेश सहित महत्वपूर्ण प्रदेशों में विपक्षी गठबंधन की स्थिति डांवाडोल है। 

उन्होंने बताया कि लोकसभा चुनाव में भाजपा का सूत्र वाक्य प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में स्थायी, निर्णायक एवं प्रगतिशील सरकार होगी। यह ध्यान दिलाए जाने पर कि बिहार में पिछली बार 22 लोकसभा सीटों पर चुनाव जीतने वाली भाजपा द्बारा इस बार पांच जीती सीट छोड़े जाने को कुछ विश्लेषक जदयू के समक्ष झुकने की बात कह रहे हैं, तो यादव ने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है और यह गलत धारणा है।

उन्होंने कहा कि एक समय में बिहार में जनता दल ने 25 सीटों पर और भाजपा ने 15 सीटों पर भी चुनाव लड़ा था। 
यादव ने कहा कि भाजपा नेतृत्व ने गठबंधन को मजबूत बनाने के लिए वोट प्रतिशत, सीट के हिसाब से पार्टियों का प्रभाव और आपसी सहमति को ध्यान में रखा। उल्लेखनीय है कि बिहार में सीट बंटवारे को लेकर बने समझौते के तहत भाजपा और जदयू 17.17 सीटों पर और लोजपा छह सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी।

किसानों की समस्या, राफ़ेल मुद्दा, बेरोजगारों की संख्या बढ़ने एवं संवैधानिक संस्थाओं को कमजोर करने के कांग्रेस सहित विपक्ष के आरोपों के बारे में पूछे जाने पर यादव ने दावा किया, विपक्ष के आरोप झूठे साबित हो चुके हैं, यह स्पष्ट है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में किसान एवं कृषि क्षेत्र के लिये अभूतपूर्व कार्य किए गए हैं।

उन्होंने सिंचाई सुविधा बढ़ाने, फसल बीमा और किसानों के उत्पाद का न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाने तथा छोटे एवं सीमांत किसानों को सालाना 6000 रुपए   मुहैया कराए जाने जैसे कदमों का उल्लेख किया। उन्होंने जोर दिया कि राफ़ेल विमान सौदे पर उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद कांग्रेस का आरोप झूठा साबित हो चुका है। 

गौतम गंभीर ने थामा भाजपा का दामन, इस सीट से लड़ सकते है लोकसभा चुनाव

Gautam Gambhir can contest against the BJP from the BJP, the Lok Sabha election

नई दिल्ली। भारतीय टीम के पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर आखिरकार भाजपा में शामिल हो गए है। इससे पहले उनके बीेजेपी में शामिल होने का कयास लगाया जा रहा था। उनकों केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने बीजेपी की सदस्यता दिलाई। हालांकि इससे पहले गौतम गंभीर ने राजनीति में आने को लेकर बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि फिलहाल चुनाव लडने का कोई इरादा नहीं है। 

आपको बता दें कि कयास लगाया जा रहा है कि भाजपा गौतम गंभीर को नई दिल्ली लोकसभा सीट से उम्मीदवार बना सकती है। हालांकि इस समय इस सीट से मीनाक्षी लेखी सांसद हैं जिनका टिकट काटकर गंभीर को टिकट किदया जा सकता है। दिल्ली में आम चुनाव 12 मई को है। 

हालांकि  कुछ दिन पहले गौतम गंभीर ने स्वंय इस बात का खंडन करते हुए कहा कि अभी उन्होंने इस बारे में सोचा नहीं हैं। गंभीर ने कहा कि मैं पूरी जिंदगी क्रिकेट खेलता रहा। मैंने लोगों से सुना है कि पूर्णकालिक राजनीति इंसान को बदल देती है। मेरी दो छोटी बेटियां है और मुझे उनके साथ सयम बिताना है। मैंने भी अटकलें सुनी है। लेकिन मैं फिलहाल आईपीएल के दौरान स्टार स्पोटर्स पर कमेंट्री कर रहा हूं।  हालांकि इससे पहले भाजपा की दिल्ली इकाई के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि पूूर्व खिलाडी गौतम गंभीर राजनीति में कदम रखने और दिल्ली से चुनाव लड़ सकने को लेकर गंभीर है। 

पाक को सोमवार तक मिल जाएगा चीन से 2.1 अरब डॉलर का कर्ज

Pak will get $ 2.1 billion loan from China till Monday

इस्लामाबाद। नकदी संकट से जूझ रहे पाकिस्तान को सदाबहार दोस्त चीन से सोमवार तक दो अरब डॉलर का कर्ज मिल जाएगा। पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय ने इसकी घोषणा की है। पाकिस्तान के अखबार ‘डॉन’ के अनुसार, मंत्रालय के सलाहकार एवं प्रवक्ता खक्कान नजीब खान ने कहा कि चीन से मिलने वाले 2.1 अरब डॉलर के कर्ज के लिये सारी औपचारिकताएं पूरी कर ली गयी हैं। उन्होंने कहा कि राशि 25 मार्च तक स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान के खाते में जमा हो जाएगी। प्रवक्ता ने कहा कि इस कर्ज से विदेशी मुद्रा भंडार मजबूत होगा और भुगतान के स्थायित्व का संतुलन सुनिश्चित होगा। इससे पहले पाकिस्तान को मदद के तौर पर सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात से भी एक-एक अरब डॉलर मिल चुके हैं। 

मैं किसी पार्टी के लिए प्रचार नहीं करूंगा : सलमान

I will not campaign for any party: Salman

नयी दिल्ली। बालीवुड सुपरस्टार सलमान खान ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह लोकसभा चुनावों में किसी राजनीतिक पार्टी के लिए चुनाव प्रचार नहीं करेंगे। उनका बयान मध्यप्रदेश में एक कांग्रेसी नेता के उस दावे के बाद आया जिसमें उन्होंने कहा था कि चुनाव प्रचार के लिए अभिनेता से उनकी पार्टी बात कर रही है। 

सलमान ने ट्वीट किया, ‘‘मैं ना तो कहीं से चुनाव लडऩे वाला हूं, ना ही किसी राजनीतिक पार्टी के लिए चुनाव प्रचार करूंगा। इस तरह की बातें केवल अफवाह है। बीते मंगलवार को प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी ने कहा था कि उनकी पार्टी के नेता खान से इंदौर में चुनाव प्रचार के सिलसिले में बात कर रहे हैं और यह लगभग तय है कि वह चुनाव प्रचार करेंगे। 

वहीं, मुंबई मेंकश्मीर मसले के बारे में बात करते हुए सलमान ने कहा कि उनका विश्वास है कि सही तरीके से शिक्षा ही संकटग्रस्त कश्मीर घाटी की समस्या को समाप्त कर सकती है। सलमान के होम प्रोडक्शन की फिल्म ‘नोटबुक’ कश्मीर पर आाधारित प्रेम कहानी है। इसमें नये चेहरे मोहनिश बहल की बेटी प्रनूतन और जहीर इकबाल नजर आयेंगे। फिल्म में दोनों ने स्कूल शिक्षक की भूमिका निभायी है। 

सलमान ने कहा कि हर कोई शिक्षा प्राप्त कर सकता है लेकिन सही तरीके से शिक्षा मिलना बेहद जरूरी है। सलमान ने कहा कि यदि वह डिजिटल माध्यम के लिए कोई प्रोडक्शन करते हैं तो वह इसका ध्यान रखेंगे कि परिवार इसे साथ में देख सके। 53 वर्षीय अभिनेता ने कहा कि वेब सीरीज अच्छी होती हैं लेकिन इसका साफ सुथरा होना जरूरी है। उन्हें वह बकवास पसंद नहीं है जो इस वक्त चल रही है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बायोपिक का ट्रेलर हुआ रिलीज

Prime Minister Narendra Modi's biopic trailer released

एंटरटेनमेंट डेस्क। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीवन पर बनी बायोपिक की ट्रेलर लांच हो गया है। इस फिल्म में विवेक ओबरॉय पीएम मोदी के किरदार निभाते नजर आए। हालांकि फिल्म के अभिनेता विवेक ओबरॉय ने अपने ट्विटर पर इस बात की जानकारी दी की इस फिल्म का ट्रेलर लांच हो चुका है। बायोपिक का ट्रेलर लांच हो चुका है। यह फिल्म 5 अप्रेल को सिनेमाघरों में रिलीज होगी। इससे पहले मेकर्स ने बताया था कि फिल्म 12 अप्रेल को आएगी। 

आपको बता दें लोकसभा चुनाव के पहले चरण की वोटिंग 11 अप्रेल को होनी है। हालांकि फिल्म की नई रिलीज डेट के ऐलान के साथ ही एक नया पोस्टर भी लांच होने वाला था। लेकिन सोशल मीडिया पर यूजर्स ने ट्रोल करना शुरू कर दिया था।यदि खबरों की माने तो इस फिल्म में पीएम मोदी के बचपन से राजनीति तक का सफ​र दिखाया जाएगा। विवेक ने इस फिल्म में अपनी एक्टिंग से सबका दिल जीत लिया। निर्देशक ओमंग कुमार ने फिल्म में मेहनत की होगी वह ट्रेलर देखकर लग रहा है। 

गौरतलब है कि इससे पहले विपक्ष ने इस फिल्म को बैन करने की मांग की थी। उन्होंने कहा था कि हम फिल्ममेकर्स हैं और वे विपक्षी पार्टियों के राजनेता है। वे अपना काम कर रहे है। हम अपना काम कर रहे है, हम बस अपनी फिल्म की कहानी को सही तरीके से लोगों के सामने पेश कोशिश कर रहे है। मुझे नहीं पता कि भविष्य में क्या होगा। विवेक ने आगे कहा कि 'जब हमने फिल्म पर रिसर्च करना शुरु किया तो मैंने महसूस किया कि मोदी को डर नहीं लगता है. उनका सोचने समझने का तरीका हमेशा साफ रहता है।

शनिवार को होगा IPL का आगाज, कोहली और धोनी के धुरंधरों के बीच होगा मुकाबला

2019 Indian Premier League

चेन्नई। उम्र के साथ प्रदर्शन में निखरती जा रही महेंद्र सिंह धोनी की गत चैम्पियन चेन्नई सुपर किंग्स और अब तक तमाशाई क्रिकेट के इस सबसे बड़े महासमर में खिताब को तरस रही विराट कोहली की रायल चैलेंजर्स बेंगलूरू के बीच मुकाबले के साथ ही इंडियन प्रीमियर लीग का शनिवार को आगाज हो जाएगा। कोहली की टीम अगर धोनी के धुरंधरों को उनके गढ में हरा देती है तो इससे बड़ी शुरूआत उनके लिये नहीं हो सकती।

चेन्नई की कोर टीम की उम्र 30 बरस के पार है। मसलन धोनी और शेन वाटसन दोनों 37 वर्ष के हैं जबकि ड्वेन ब्रावो 35, फाफ डु प्लेसिस 34, अंबाती रायुडू और केदार जाधव 33 और सुरेश रैना 32 बरस के हैं। स्पिनर इमरान ताहिर 39 और हरभजन सिंह 38 वर्ष के हैं। भारतीय टीम से बाहर लेग स्पिनर कर्ण शर्मा (31) और तेज गेंदबाज मोहित शर्मा (30) भी 30 वर्ष के पार हैं।

इंडियन प्रीमियर लीग में लगातार अच्छा प्रदर्शन करने वाली टीम चेन्नई ने हालांकि उम्र को हमेशा धता बताया है। यह टीम हमेशा शीर्ष चार में रही और उस के उत्साही दर्शकों को हमेशा जश्न मनाने के मौके दिए हैं। जहां चेन्नई तीन बार की चैम्पियन है, वहीं बेंगलूरू टीम में कई बड़े नाम होने के बावजूद अभी तक खिताब नहीं जीत सकी है।

शनिवार के मैच का नतीजा गेंदबाजों पर और दबाव का सामना करने की क्षमता पर निर्भर होगा। चेन्नई के अंबाती रायुडू और रविद्र जडेजा अच्छा प्रदर्शन करके विश्व कप टीम में जगह बनाना चाहेंगे। वहीं बेंगलूरू के तेज गेंदबाज उमेश यादव की नजरें भी आईपीएल के प्रदर्शन के आधार पर विश्व कप टीम में जगह पुख्ता करने पर लगी होंगी।

आरसीबी के खिलाफ चेन्नई ने 15 मैच जीते और सात हारें हैं जबकि एक का नतीजा नहीं निकला। आरसीबी की चिता का सबब विदेशी खिलाड़ियों की उपलब्धता भी है। लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल उसके लिये ट्रंपकार्ड हो सकते हैं लेकिन उन्हें उचित विश्राम की भी जरूरत होगी। 
टीम :
चेन्नई सुपर किग्स : महेंद्र सिंह धोनी (कप्तान) , सुरेश रैना, अंबाती रायुडू, शेन वाटसन, फाफ डु प्लेसिस, मुरली विजय, केदार जाधव, सैम बिलिग्स, रविंद्र जडेजा, ध्रुव शोरे, चैतन्य विश्नोई, रितुराज गायकवाड़, ड्वेन ब्रावो, कर्ण शर्मा, इमरान ताहिर, हरभजन सिंह, मिशेल सेंटनेर, शरदुल ठाकुर, मोहित शर्मा, के एम आसिफ, डेविड विले, दीपक चहार, एन जगदीशन। 

रायल चैलेंजर्स बेंगलूरू : विराट कोहली (कप्तान), एबी डिविलियर्स , पार्थिव पटेल, मार्कस स्टोइनिस, शिमरोन हेटमायेर, शिवम दुबे, नाथन कूल्टर नाइल, वाशिंगटन सुंदर, उमेश यादव, युजवेंद्र चहल, मोहम्मद सिराज, हेनरिच क्लासेन, मोईन अली, कोलिन डि ग्रांडहोमे, पवन नेगी, टिम साउदी, अक्षदीप नाथ, मिलिद कुमार, देवदत्त पी, गुरकीरत सिह, प्रयास राय बर्मन, कुलवंत केजरोलिया, नवदीप सैनी, हिम्मत सिंह। 
मैच का समय : रात आठ बजे से। 

धोनी ने आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले पर तोड़ी चुप्पी: कहा किसी ने नहीं पूछा कि मुझ पर क्या गुजरी

IPL spot-fixing scandal

नई दिल्ली। महेंद्र सिंह धोनी अपने हाव भाव से कभी अपने जज्बात जाहिर नहीं होने देते और उनका मानना है कि यही वजह है कि लोग उनसे कभी नहीं पूछते कि 2013 आईपीएल स्पाट फिक्सिंग मामले में उन्होंने बेबुनियाद आरोपों का सामना कैसे किया। धोनी हमेशा अपना काम चुपचाप करने में विश्वास रखते हैं और कई बार उनकी खामोशी को गलत समझ लिया जाता है।

उन्होंने कहा कि लोगों को लगता है कि आप बहुत मजबूत है और लोग पूछते नहीं है कि आप कैसे हो। मैने इसका सामना ऐसे ही किया। मैं इस बारे में दूसरों से बात नहीं करना चाहता था लेकिन अंदर से यह मुझे कुरेद रहा था। मैं नहीं चाहता कि किसी भी चीज का असर मेरे खेल पर पड़े।मेरे लिये क्रिकेट सबसे अहम है।

आईपीएल 2013 मैच फिक्सिंग प्रकरण को अपने जीवन का सबसे कठिन और निराशाजनक  दौर बताते हुए महेंद्र सिंह धोनी ने सवाल दागा कि खिलाड़ियों का क्या कसूर था। दो बार के विश्व कप विजेता कप्तान ने रोर आफ द लायन डाक्यूड्रामा में इस मसले पर अपनी चुप्पी तोड़ी। भारतीय क्रिकेट को झकझोर देने वाले इस प्रकरण में प्रबंधन की भूमिका के कारण चेन्नई सुपर किग्स को दो साल का प्रतिबंध झेलना पड़ा। धोनी ने कहा कि 2013 मेरे जीवन का सबसे कठिन दौर था।

मैं कभी इतना निराश नहीं हुआ जितना उस समय था। इससे पहले विश्व कप 2007 में निराशा हुई थी जब हम ग्रुप चरण में ही हार गए थे। लेकिन उसमें हम खराब क्रिकेट खेले थे। उन्होंने कहा कि लेकिन 2013 में तस्वीर बिल्कुल अलग थी। लोग मैच फिक्सिंग और स्पाट फिक्सिंग की बात करते थे। उस समय देश भर में यही बात हो रही थी।धोनी ने हाटस्टार पर प्रसारित पहले एपिसोड वाट डिड वी डू रांग में कहा कि खिलाड़ियों को पता था कि कड़ी सजा मिलने जा रही है।

उन्होंने कहा कि हमें सजा मिलने जा रही थी बस यह जानना था कि सजा कितनी होगी। चेन्नई सुपर किग्स पर दो साल का प्रतिबंध लगा। उस समय मिली जुली भावनायें थी क्योंकि आप बहुत सी बातों को खुद पर ले लेते हैं। कप्तान के तौर पर यही सवाल था कि टीम की क्या गलती थी। उन्होंने कहा कि हमारी टीम ने गलती की लेकिन क्या खिलाड़ी इसमें शामिल थे। खिलाड़ियों की क्या गलती थी कि उन्हें यह सब झेलना पड़ा।

उन्होंने कहा कि फिक्सिंग से जुड़ी बातों में मेरा नाम भी उछला। मीडिया और सोशल मीडिया में ऐसे दिखाया जाने लगा मानो टीम भी शामिल हो , मैं भी शामिल हूं। क्या यह संभव है। हां, स्पाट फिक्सिंग कोई भी कर सकता है । अंपायर, बल्लेबाज, गेंदबाज लेकिन मैच फिक्सिंग में खिलाड़ी शामिल होते हैं।

धोनी ने डाक्यूमेंट्री में कहा कि मैच फिक्सिंग कत्ल से भी बड़ा गुनाह है। उन्होंने कहा कि मैं आज जो कुछ भी हूं, क्रिकेट की वजह से हूं। मेरे लिए सबसे बड़ा गुनाह कत्ल नहीं बल्कि मैच फिक्सिंग है। लोगों को अगर लगता है कि मैच का नतीजा असाधारण इसलिए है क्योंकि वह फिक्स है तो लोगों का क्रिकेट पर से विश्वास उठ जाएगा और मेरे लिए इससे दुखदायी कुछ नहीं होगा।

फिच ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए आर्थिक वृद्धि दर का पूर्वानुमान घटाकर 6.80 प्रतिशत किया

Fitch reduced forecast of economic growth rate for fiscal year 2019-20 to 6.80 percent

नई दिल्ली। क्रेडिट रेटिंग एजेंसी फिच रेटिंग्स ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए देश की आर्थिक वृद्धि दर का पूर्वानुमान शुक्रवार को सात प्रतिशत से घटाकर 6.80 प्रतिशत कर दिया। एजेंसी ने आर्थिक गतिविधियों में उम्मीद से कमतर गति को इसका कारण बताया। एजेंसी ने चालू वित्त वर्ष के लिए आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान भी 7.2 प्रतिशत से घटाकर 6.9 प्रतिशत कर दिया। इससे पहले उसने पिछले साल दिसंबर में इसे 7.8 प्रतिशत से घटाकर 7.2 प्रतिशत कर दिया था।

वित्त वर्ष 2017-18 में देश की आर्थिक वृद्धि दर 7.20 प्रतिशत रही थी। एजेंसी ने अपने वैश्विक आर्थिक परिदृश्य में कहा कि हालांकि हमने अर्थव्यवस्था में उम्मीद से कमतर तेजी के कारण अगले वित्त वर्ष के लिये आर्थिक वृद्धि दर का पूर्वानुमान कम किया है, इसके बाद भी देश का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वित्तवर्ष 2019-20 में 6.8 प्रतिशत और वित्तवर्ष 2020-21 में 7.10 प्रतिशत की दर से बढ़ेगा।

एजेंसी ने कहा कि देश की जीडीपी की वृद्धि दर लगातार दूसरी तिमाही में सुस्त पड़ी है और अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में 6.6 प्रतिशत पर आ गयी। इससे पहले जुलाई-सितंबर तिमाही और अप्रैल-जून तिमाही में वृद्धि दर क्रमश: सात प्रतिशत और आठ प्रतिशत रही थी। उसने कहा कि विनिर्माण क्षेत्र में और कुछ हद तक कृषि क्षेत्र में गतिविधियां नरम पड़ने से वृद्धि की रफ्तार सुस्त पड़ी है। यह सुस्ती मूलत: घरेलू कारकों के कारण है।

एजेंसी ने कहा कि गैर-बैंकिग वित्तीय कंपनियों पर काफी हद तक निर्भर क्षेत्रों जैसे वाहन एवं दोपहिया क्षेत्र में बिक्री गिरी है और इन्हें वित्त की उपलब्धता में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इसके अलावा पिछले साल के अंतिम महीनों में खाद्य मुद्रास्फीति के नकारात्मक हो जाने से किसानों की आय पर दबाव बना है। फिच के मुताबिक दिसंबर 2019 तक रुपए के गिरकर 72 रुपए प्रति डॉलर पर और दिसंबर 2020 तक गिरकर 73 रुपए प्रति डॉलर पर आ जाने की आशंका है। दिसंबर 2018 में यह 69.82 रुपए प्रति डॉलर पर रहा था।

एजेंसी ने कहा कि वित्तीय एवं मौद्रिक नीतियां वृद्धि के अनुकूल होते जा रही हैं। रिजर्व बैंक ने सकारात्मक रुख अपनाते हुए पिछले महीने आधार दर में 0.25 प्रतिशत की कटौती की है। फिच ने कहा कि हमने आधार दर के बारे में अपना परिदृश्य बदला है और हमें पहले की आशंका के अपेक्षाकृत आसान वैश्विक मौद्रिक परिस्थितियां तथा मुद्रास्फीति के दायरे में रहने के कारण आधार दर में 0.25 प्रतिशत की एक और कटौती का अनुमान है।

एजेंसी ने वैश्विक जीडीपी की वृद्धि दर का अनुमान भी कम किया है। एजेंसी ने वैश्विक आर्थिक वृद्धि दर का पूर्वानुमान 2018 के लिए 3.3 प्रतिशत से घटाकर 3.2 प्रतिशत और 2019 के लिए 3.1 प्रतिशत से घटाकर 2.8 प्रतिशत कर दिया। फिच ने चीन के लिये पूर्वानुमान 2018 में 6.6 प्रतिशत और 2019 में 6.1 प्रतिशत पर बनाये रखा। एजेंसी ने कच्चा तेल में भी नरमी का पूर्वानुमान व्यक्त किया है। उसका कहना है कि कच्चा तेल 2018 के 71.60 डॉलर प्रति बैरल की तुलना में गिरकर 2019 में करीब 65 डॉलर प्रति बैरल और 2020 में 62.50 डॉलर प्रति बैरल पर आ सकता है।

सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन 222 अंक की गिरावट लेकर बंद हुआ सेंसेक्स

Sensex closes below 222 points on the last trading day of the week

मुंबई। घरेलू शेयर बाजार आज सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन सुबह बढ़त के साथ हरे निशान पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर ये गिरावट लेकर बंद हुआ। गिरावट के इस माहौल में कारोबार की समाप्ति पर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 222.14 अंक यानि 0.58 प्रतिशत की गिरावट के साथ 38,164.61 अंक के स्तर पर बंद हुआ। सेंसेक्स की तरह ही नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के पचास शेयरों वाले निफ्टी पर भी कारोबार की समाप्ति पर गिरावट हावी रही और ये 64.15 अंक यानि 0.56 प्रतिशत की गिरावट के साथ 11,456.90 अंक के स्तर पर बंद हुआ।

गौरतलब है कि कल शेयर बाजार में होली का अवकाश रहा और इससे पहले बुधवार को खुले बाजार में उतार-चढ़ाव का दौर जारी रहा। उतार - चढ़ाव के इस माहौल में कारोबार की समाप्ति पर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( बीएसई ) का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 23.28 अंकों या 0.06 फीसदी तेजी के साथ 38,386.75 पर बंद हुआ। दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 38,489.81 के ऊपरी स्तर और 38,316.21 के निचले स्तर को छुआ। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ( एनएसई ) के 50 शेयरों वाले संवेदी सूचकांक निफ्टी में कारोबार की समाप्ति पर गिरावट देखने को मिली और ये 11.35 अंकों या 0.10 फीसदी की गिरावट के साथ 11,521.05 पर बंद हुआ। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.